scriptBJP MLA of Madhya Pradesh, reducing malnutrition with his money | यह है मध्यप्रदेश के विधायक, कर रहे कुपोषण कम | Patrika News

यह है मध्यप्रदेश के विधायक, कर रहे कुपोषण कम

राजनीति में अगर कोई व्यक्ति समाजसेवा के लिए कुछ ठान ले तो कुछ भी असम्भव नहीं है। मध्यप्रदेश में एक ऐसे ही भाजपा विधायक है जो अपने रुपये से शहर में कुपोषण को कम करने में लगे हुए है। इसमें इनको सफलता भी मिल रही है।

रतलाम

Updated: December 31, 2021 01:52:06 pm

रतलाम. राजनीति में अगर कोई व्यक्ति समाजसेवा के लिए कुछ ठान ले तो कुछ भी असम्भव नहीं है। मध्यप्रदेश में एक ऐसे ही भाजपा विधायक है जो अपने रुपये से शहर में कुपोषण को कम करने में लगे हुए है। इसमें इनको सफलता भी मिल रही है।
BJP MLA of Madhya Pradesh, reducing malnutrition with his money
BJP MLA of Madhya Pradesh, reducing malnutrition with his money
रतलाम मे कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने के लिए अभियान चलाया जिसमे चेतन्य काश्यप फाउण्डेंशन ने अपनी अहम भागीदारी निभाई। चेतन्य काश्यप फाउण्डेंशन ने अपने 50 कार्यकर्ताओं को इस कार्य के लिए मैदान मे उतारा। रतलाम मे तब 2700 बच्चे कुपोषित पाए गये थे। आश्चर्य इस बात का है कि उन बच्चों मे लगभग 200 बच्चे सक्षम परिवारों से थे जिनके पास बच्चों को पर्याप्त और उचित पोषण देने कि सक्षमता थी। किन्तु उन परिवारों को अपने बच्चों को कब और कितना पोषण देना है इसका भी ज्ञान नही था। चेतन्य काश्यप फाउण्डेंशन ने लगातार 6 माह तक कुपोषित बच्चों को पर्याप्त पोषण उपलब्ध करवाया तो इसके सुखद परिणाम सामने आये मात्र 6 माह मे 2700 बच्चो मे से 1300 बच्चे कुपोषण से बाहर आ गये।
भाजपा विधायक चेतन्य काश्यप ने कहा कि नीता काश्यप भले ही राजनीति से दूर है लेकिन, उन्होने लगातार आंगनवाड़ीयों मे पहूंचकर आंगनवाड़ी की कार्यशेली देखी तथा अपनी और से यह सुनिश्चित किया कि आंगनवाड़ी के माध्यम से बच्चों को उचित और पर्याप्त पोषण प्राप्त हो। काश्यप की इस सक्रियता से आंगनवाड़ी सुचारू रूप से तय समय पर खुलने और बंद होने लगी। बच्चों को आंगनवाड़ी मे उचित पोषण भी सुनिश्चित हो सका। 8 जनवरी से 14 जनवरी के बीच आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बच्चों का वजन करेंगी ताकि यह तय किया जा सके कि बच्चा कुपोषित तो नही है। कार्यकर्ताओं का आव्हान करते हुए काश्यप ने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि अपने-अपने क्षेत्र की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर कुपोषण के खिलाफ सरकार की लड़ाई मे सहयोग करे।
काश्यप ने जानकारी देते हुए बताया कि देश मे 6 वर्ष से कम की आयु के लगभग 13 से 14 करोड़ बच्चे है लेकिन रजिस्टर्ड बच्चों की संख्या 6 से 7 करोड़ ही है। अर्थात मात्र 50 प्रतिशत बच्चे ही रजिस्टर्ड है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के साथ हम सामाजिक कार्यकर्ता के रूप मे सहयोग कर ये सुनिश्चित करे कि देश के सभी 13-14 करोड़ बच्चों का रजिस्ट्रेशन हो सके चाहे बच्चा कुपोषित हो या सुपोषित हो। आज देश की लगभग 25 प्रतिशत आबादी गरीबी रेखा के नीचे बसर कर रही है जो अपने बच्चों को पर्याप्त पोषण उपलब्ध करवाने मे सक्षम नही है।
BJP MLA of Madhya Pradesh, reducing malnutrition with his money
IMAGE CREDIT: patrika

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगानिलंबित एडीजी जीपी सिंह के मोबाइल, पेन ड्राइव और टैब को भेजा जाएगा लैब, खुल सकते हैं कई राजUP Election 2022: सपा कार्यालय में आयोजित रैली में टूटा कोविड प्रोटोकॉल, लखनऊ के गौतमपल्ली थाने में सपा नेताओं पर FIR दर्जGujarat Hindi News : दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में दो छात्राओं समेत पांच की मौत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.