हिंदू महिला के लिए मुस्लिम युवकों ने दिया रक्त

हिंदू महिला के लिए मुस्लिम युवकों ने दिया रक्त

रतलाम। राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को फैसला सुनाया तो हर कोई इसे लेकर आशंकित था किंतु शहर और प्रदेश के साथ ही देशवासियों ने सांप्रदायिक सौहाद्र्र का परिचय दिया। इससे भी एक कदम आगे रतलाम के दो मुस्लिम युवकों मेहमूद और खुर्शीद आलम ने एक जावरा से समीपी गांव की एक हिंदू महिला के लिए बिना पहचान के रक्तदान करके एकता की मिसाल पेश की है। ये दोनों युवक रक्तदान, महादान ग्रुप के समाजसेवी व रक्तदाता राजेश पुरोहित और दिलीप भंसाली से जुड़े हैं और उनकी पहल पर रक्तदान करने पहुंचे। इसी दौरान एक अन्य मुस्लिम युवक अनिस खान ने भी एक हिंदू पुरुष के लिए रक्तदान करके इसमें सहयोग किया। इन युवकों का कहना है कि धर्म चाहे कोई भी हो लेकिन रक्त का कोई धर्म नहीं होता है।

ये थे दोनों मरीज
रक्तदाता पुरोहित ने बताया जावरा के नयापुरा निवासी महिला भूलीबाई पति गोपाल को डिलीवरी के लिए रतलाम लाया गया। उसे एमसीएच में भर्ती किया तो उसे हिमोग्लोबिन कम होने से बी निगेटिव रक्त की जरुरत पड़ी। चूंकि बी निगेटिव रक्त बहुत रेयर श्रेणी का होता है इसलिए ग्रुप में सूचना मिली। इस पर भंसाली की मदद से मेहमूद जो रतलाम निवासी हैं उन तक सूचना पहुंची तो वे सहर्ष न केवल तैयार हुए वरन दो यूनिट की आवश्यकता पर अपने साथी को भी ले आए। दूसरा मरीज निजी अस्पताल में भर्ती है जिन्हें पाइल्स की शिकायत है और सोमवार को उनका ऑपरेशन किया जाना हैं। संयोग से इनका ग्रुप भी बी निगेटिव ही है इसलिए भंसाली ने तीसरे रक्तदाता अनिस खान को भी बुलाकर उसका भी रक्तदान करवा कर मानव सेवा में मदद के लिए हाथ बढ़ाया। महिला को एक यूनिट शाम को चढ़ाई गई जबकि दूसरी यूनिट सोमवार को चढ़ेगी।

Show More
kamal jadhav
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned