scriptBreaking News : #MP में 1286 स्कूल ऐसे, जहां एक भी शिक्षक नहीं! जबकि पूरे राज्य में सरप्लस हैं, करीब 20 हजार शिक्षक | Patrika News
रतलाम

Breaking News : #MP में 1286 स्कूल ऐसे, जहां एक भी शिक्षक नहीं! जबकि पूरे राज्य में सरप्लस हैं, करीब 20 हजार शिक्षक

राज्य सरकार ने 2024-25 के बजट में प्राथमिक, माध्यमिक और अन्य श्रेणी के सरकारी स्कूल के उन्नयन के लिए रा​शि देने की घोषणा की है। सरकार के इस कदम से स्कूल तो बेहतर हो जाएंगे, लेकिन इनमें पढ़ाने वाले कहां से आएंगे?

रतलामJul 05, 2024 / 06:24 am

Ashish Pathak

breaking news
रतलाम।राज्य सरकार ने 2024-25 के बजट में प्राथमिक, माध्यमिक और अन्य श्रेणी के सरकारी स्कूल के उन्नयन के लिए रा​शि देने की घोषणा की है। सरकार के इस कदम से स्कूल तो बेहतर हो जाएंगे, लेकिन इनमें पढ़ाने वाले कहां से आएंगे? ये ऐसा सवाल है, जिसका जवाब बजट में नहीं है, क्योंकि अभी भी राज्य में 1286 सरकारी स्कूल ऐसे हैं, जहां एक भी ​शिक्षक पदस्थ नहीं है। ये भी कहा जा सकता है कि ये स्कूल बगैर स्थाई ​शिक्षक के ही चल रहे हैं।
इस सूची में अव्वल हैं, सिंगरौली के 115, रीवा के 85, देवास में 80 और रतलाम के 21 स्कूल। अ​धिकांश आदिवासी क्षेत्र के गांवों में हैं। इसी कारण यदि यहां किसी को पदस्थ भी किया जाता है, तो कोई आना नहीं चाहता है। दूसरी विसंगति ये भी है कि राज्य कई सरप्लस ​शिक्षक वाले स्कूल चल रहे हैं! यहां सरप्लस शिक्षकों की संख्या 20 हजार से अधिक है। ऐसे ज्यादातर स्कूल शहरों में चल रहे हैं।
यदि इस आंकड़े को रतलाम जिले में परखें, तो 642 ​शिक्षक सरप्लस हैं। इनमें सबसे अ​धिक रतलाम में 348, जावरा में 130, आलोट में 89, पिपलौदा में 69 पदस्थ हैं। जबकि एक ​शिक्षक की उपस्थिति वाले रतलाम जिले में 88 स्कूल हैं। जिले में ऐसे भी स्कूल हैं, जहां एक भी ​शिक्षक नहीं है। जिले में ऐसे स्कूलों की संख्या 21 है। इनमें आलोट में 13, जावरा में 4, रतलाम में 3 पिपलौदा में एक स्कूल शामिल है।
यहां केवल एक ​शिक्षक

जिला – स्कूल संख्या

​शिवपुरी – 416

सतना – 408

रीवा – 402

विदिशा – 336

सागर – 267

सिंगरौली – 277

देवास – 259
राजगढ़ – 223

मंदसौर – 200

छतरपुर – 185

पन्ना – 172

ग्वालियर – 163

निवाड़ी – 162

सीहोर – 157

खरगोन – 149

टीकमगढ़ – 145
कटनी – 136

नर्मदापुरम – 130

खंडवा – 127

दमोह – 126

​भिंड – 117

उज्जैन – 116

अशोकनगर – 113

यहां हैं सरप्लस

जिला – सरप्लस की संख्या
बालाघाट – 1477

​भिंड – 1165

भोपाल – 1134

छिंदवाड़ा – 1237

देवास – 1003

ग्वालियर – 1225

इंदौर  – 1399

मुरैना – 1103

राजगढ़ – 1159
रीवा – 1415

सागर – 1446

सतना – 1513

उज्जैन – 1183

अतिथि शिक्षक की सेवा लेंगे

जहां ​शिक्षक नहीं है, वहां अति​थि​शिक्षक को नियुक्त कर पढ़ाई करवाई जा रही है। जहां तक सरप्लस ​शिक्षक का मामला है, यह पूर्व में सही कर दिया था। फिर भी कुछ रह गया, तो सही किया जाएगा।
– केसी शर्मा, जिला ​शिक्षाअ​धिकारी

भेदभाव समाप्त हो

राज्य में अ​धिकांश महानगर व बडे़ शहर में सरप्लस ​शिक्षक हैं। शहरी सुविधा मिलती रहे, इसलिए इनके अंचल में तबादले नहीं होते हैं। अति​थि​शिक्षक की परंपरा समाप्त कर सभी को नियमित किया जाए व सरप्लस ​शिक्षक को वहां पदस्थ किया जाए, जहां एक भी ​शिक्षक नहीं है।
– सर्वेश माथुर, अध्यक्ष, मप्र ​शिक्षक कांग्रेस

Hindi News/ Ratlam / Breaking News : #MP में 1286 स्कूल ऐसे, जहां एक भी शिक्षक नहीं! जबकि पूरे राज्य में सरप्लस हैं, करीब 20 हजार शिक्षक

ट्रेंडिंग वीडियो