रतलाम शहर के इन इलाकों में सिटी बसों को नो एंट्री

रतलाम शहर के इन इलाकों में सिटी बसों को नो एंट्री

Sachin Trivedi | Updated: 04 Oct 2018, 03:46:31 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

रतलाम शहर के इन इलाकों में सिटी बसों को नो एंट्री

रतलाम. शहर में सड़कों के विकास का वादा खूब हो रहा है, लेकिन इस अनुपात में पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा में तेजी नहीं आ पाई है। शहर के भीतर से लेकर शहर के आसपास के इलाकों में जाने वाली सड़कों पर लगता जाम सड़कों के नेटवर्क को भी बेहाल कर रहा है। हाल ही में रतलाम ट्रांसपोर्ट कंपनी ने शहर में सिटी बसों का संचालन करने के प्रोजेक्ट के तहत बस स्टॉप और रूट तय करना शुरू कर दिया है, लेकिन पहले ही जाम में फंसते शहर को वाहनों के दबाव के बीच सरल पब्लिक ट्रांसपोर्ट देना चुनौती बना है। भीतरी बाजारों तक सिटी बसों की पहुंच होगी या नहीं, यह फिलहाल तय नहीं हो पा रहा। हालांकि प्रशासन रूट तय कर संकरे रास्तों को चौड़ा करने का दावा कर रहा है, लेकिन आगामी चुनावी समय के कारण वर्ष 2018 की समाप्ति तक भीतरी रूट मुश्किल ही है। जानकारों की माने तो शहर में एक नए परिवहन की शुरूआत से पूर्व अब तक जारी परिवहन के आड़े आ रही खामियों को दूर करना जरूरी है, तभी नया प्रयोग सफल होगा।

प्री-पेड बूथ कहीं बंद तो कहीं लोग नहीं जाते
- शहर में रेलवे स्टेशन से प्रमुख मार्गो पर आवाजाही का ज्यादा दबाव है। फिलहाल सिटी बस संचालन में भीतरी रूट तय नहीं है। प्री-पेड बूथ की आवश्यकता के बावजूद प्लेटफॉर्म पर प्रक्रिया अटकी पड़ी है तो अन्य बूथ पर लोग जाने से कतरा रहे है।
त्योहारी दबाव में नगर सेवा भी ओवरलोड
- शहर में आगामी दिनों में त्योहारी दबाव दिखाई देगा, फिलहाल शहर का पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ज्यादा हिस्सा नगर सेवा पर निर्भर है। यह सभी प्रमुख रूट पर चलती है, लेकिन त्योहारी दबाव के दौरान बाजार व प्रमुख इलाकों में यह ओवरलोड होती है।
आगे नहीं बढ़ सका इ-रिक्शा से परिवहन
- उज्जैन के कुंभ के बाद संभाग स्तर से हर जिले में इ-रिक्शा से पब्लिक ट्रांसपोर्ट को सरल बनाने का प्लान बना था, लेकिन रतलाम शहर में परिवहन विभाग और स्थानीय निकाय मिलकर इसे आगे नहीं बढ़ा सके, कुछ रिक्शा आए लेकिन नियमित नहीं चले।
मनमाने किराए की शिकायत भी कम नहीं
- शहर में पब्लिक ट्रांसपोर्ट का बड़ा हिस्सा ऑटो पर निर्भर है। यातायात पुलिस ने हर रूट की दर तय कर रखी है, लेकिन मनमाने किराए की शिकायत कम नहीं हो रही है। विशेषकर रात के समय शहर से दूरी वाले इलाकों का किराया दर से ज्यादा ले लेते है।

इन मार्गो पर यातायात दबाव ज्यादा
- रेलवे स्टेशन, कॉलेज रोड, पॉवर हाऊस रोड, सैलाना बस स्टैंड रोड, शहर सराय, माणकचौक, चांदनीचौक, पैलेस रोड, महूरोड के साथ कई इलाकों में दबाव ज्यादा है।
त्योहारों के दौरान इन क्षेत्रों में लगता है जाम
- त्योहारों पर दो बत्ती चौराहा, न्यूरोड, चांदनीचौक से घासबाजार, डालूमोदी बाजार, मित्र निवास रोड, नहारपुरा रोड, लोकेन्द्र टॉकिज और शहर सराय पर जाम के हालात रहते है।

तय हो रहे है रूट
रतलाम में सिटी बस संचालन की प्रक्रिया चल रही है और रूट तय हो रहे है। यह कान्सेप्ट नगर सेवा से अलग है, इसमें प्राइम रूट और इलाकों को पहले चरण में लिया गया है। फर्मो के अनुसार आगे के रूट भी कवर किए जाएंगे, इनमेें सुविधाएं पहले से ज्यादा है।
- मनोज शर्मा, चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर सीटी बस प्रोजेक्ट

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned