पुलिस देखती रही और एकता मंच ने निकाल दी सीएमओ के पुतले की शवयात्रा

पुलिस देखती रही और एकता मंच ने निकाल दी सीएमओ के पुतले की शवयात्रा

Chandraprakash Sharma | Updated: 04 Jun 2019, 05:39:44 PM (IST) Neemuch, Neemuch, Madhya Pradesh, India

एसडीएम के निष्पक्ष जांच के आश्वासन के बाद धरना समाप्त

रतलाम/नामली। नगर परिषद के सीएमओ पद पर अरुण कुमार ओझा के आदेश के बाद से नामली एकता मंच का चार दिनों से चल रहा आंदोलन सोमवार को उग्र हो गया। दोपहर 12 बजे आंदोलनकारियों ने सीएमओ पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए उनके पुतले की शवयात्रा निकाली। मंच के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में तहसील कार्यालय की ओर बढ़े तो पुलिस प्रशासन भी सक्रिय हो गया और तहसील कार्यालय पहुंचने के पहले ही सैलाना फंटे पर पुलिस बल ने शवयात्रा रुकवा दी। नियमों का हवाला दे कर आगे जाने से रोक दिया, जिस पर पुलिस व आंदोलनकारियों के बीच बहस हो गई। पुतले को लेकर झड़प भी हुई जिस पर आंदोलनकारी भड़क गए व कहा कि हम भष्ट अधिकारी के शव को लेकर प्रदर्शन कर रहे है आप हमें नहीं रोक सकते। जिसके बाद आंदोलनकारी आगे बढ़ गए और सीएमओ ओझा का पुतला आग के हवाले कर दिया। इस दौरान उन्होंने भष्ट्र अधिकारी नहीं सहेंगे नहीं सहेंगे के नारे लगाए।
उच्च स्तरीय जांच हो
आंदोलनकारी तहसील कार्यालय पहुंचे जहां ग्रामीण एसडीएम शिराली जैन को मंच के संयोजक विजय चौधरी ने ज्ञापन दिया व कहा कि प्रभारी सीएमओ ओझा विगत 25 वर्षों से नामली में अपनी राजनीतिक पकड़ व पैसों के दम पर बने हुए हैं। नगर परिषद में भारी अनियमिताएं की है जिसकी हम जांच चाहते हैं। एक करोड़ 81 लाख के नामली कोचा तालाब में भष्ट्राचार, पिछली परिषद में नगर को 9 करोड़ रुपए की नल जल योजना मिली हुई है जिसमे 6 करोड़ रुपए खाते में जमा हो चुके है इस राशि का भारी दुरुपयोग हुआ है व जनता पानी के लिए तरस रही है। प्रधानमंत्री आवास में गड़बड़ी की है, पात्र लोग नगर परिषद के चक्कर काट रहे है। योजना का लाभ लेने के लिए 2 लाख के बदले 50 हजार की रिश्वत मांगी जा रही थी। उक्त अधिकारी को नामली से हटाने की मांग की ताकि जांच प्रभावित नहीं हो सके।
आंदोलन समाप्त किया
इस पर एसडीएम शिराली जैन ने निष्पक्ष जांच का भरोसा दिलाते हुए जांच में अनियमिता पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद नामली एकता मंच ने आंदोलन समाप्त किया। इस मौके पर नामली एकता मंच के संयोजक विजय चौधरी, दशरथ जाट, राजेश चौहान, भीमसिंह राठौर, श्यामसुंदर परिहार, नन्दकिशोर चौहान, तूफान सिंह सोनगरा, दिलीप चौधरी, राहुल आड़ा, दीपक चौहान, गजेन्द्र तलोदिया आदि मौजूद थे। मालूम हो कि प्रभारी सीएमओ ओझा को लोकसभा चुनाव के दौरान हटाया गया था, चुनाव के बाद दोबारा उनकी नामली मेंं पदस्थापना कर दी।
बीपीएल हितग्राहियों ने की शिकायत
इस दौरान बड़ी संख्या में प्रधानमंत्री आवास व बीपीएल कार्ड के पात्र हितग्राही ने भी एसडीएम से सीधे शिकायतें की । आनंदीलाल राठौड़ ने कहा कि आवास की एक कि़स्त डाल कर अगली कि़स्त के लिए पैसे मांगे जा रहे हैं व मेरे राशन कार्ड की राशन पर्ची तक बना कर नहीं दी जा रही है। जिस पर एसडीएम ने जल्द निराकरण की बात कही। नामली में एकता मंच द्वारा सीएमओ को हटाने के लिए जहां एक ओर आंदोलन चल रहा था वही दूसरी ओर नगर परिषद अध्यक्ष नरेद्र सोनावा सीएमओ के समर्थन में सोमवार शाम पांच बजे जन संवाद कर जिला प्रशासन से सीएमओ का तबादला रुकवाने की मांग करने वाले थे। इस संबध में नगर परिषद अध्यक्ष नरेंद्र सोनावा से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि गणमान्य जनों को समय पर सूचना नहीं दे पाए। एक या दो दिन बाद जन संवाद का आयोजन किया जाएगा।
इनका कहना
सीएमओ पर जो भष्ट्राचार के आरोप लगे है ंउनके हर एक बिंदु की जांच कर कार्यवाही की जाएगी। आंदोलनकारियों ने भी आंदोलन समाप्त कर दिया है।
- शिराली जैन, एसडीएम ग्रामीण
.........
सीएमओ की नियुक्ति पर शासन के निर्णय तक इंतजार करने का भरोसा दिलाया गया है इसलिए अस्थायी रूप से धरना समाप्त किया है।
-विजय चौधरी, संयोजक नामली एकता मंच
..............
ये जो भी आरोप लग रहे ये सभी निराधार है । ओछी मानसिकता का परिचय दे रहे हैं और इस तरह का आंदोलन कर वे निजी स्वार्थ सिद्ध करने में लगे हैं।
- अरुण कुमार ओझा, प्रभारी सीएमओ नामली

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned