किसान की राशि जमा नहीं कर खुद ही डकार गए, दो पर कार्रवाई

किसान की राशि जमा नहीं कर खुद ही डकार गए, दो पर कार्रवाई

By: Akram Khan

Published: 02 Mar 2019, 06:02 PM IST

रतलाम। जय किसान ऋण माफी योजनान्तर्गत सूचियों में गड़बड़ी के बाद पिपलौदा विकासखंड के ग्राम सुखेड़ा सेवा सहकारी संस्था के कर्मचारियों का कारनामा सामने आया है। जिसमें सोसायटी से ली गई ऋण राशि किसान द्वारा चुकाने के बावजुद कर्मचारियों ने राशि खाते में जमा नहीं करते हुए डकार गए। जब किसान का नाम अधिक राशि के साथ बैंक की सूची में आया तो उसने एसडीएम को शिकायत की। सेवा सहकारी संस्था सुखेड़ा प्रबंधक द्वारा रिकार्ड जांच के बाद उच्च अधिकारियों को अवगत कराते हुए पिपलौदा थाने में पूर्व सहायक प्रबंधक एवं लिपिक ऑपरेटर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई है, जो जांच में है।

मिली जानकारी के अनुसार किसान बगदीराम पिता भेराजी लोडा निवासी बडायलासरवन सेवा सहकारी संस्था सुखेड़ा का सदस्य होकर किसान ऋण 20 मार्च २०१6 से पूर्व 1 लाख 93 हजार 800 रुपये देना बाकि था। किन्तु किसान ने 28 मार्च 2016 को रसीद नम्बर 906642 के माध्यम से 1 लाख 93 हजार 800 रुपये सहायक प्रबंधक को जमा करा कर रसीद प्राप्त की थी, किन्तु जय किसान ऋण कर्ज माफी योजना के अन्तर्गत ग्राम पंचायत निपानीया में जब सफेद सूची चस्पा की गई तो उसमें नाम आने पर किसान ने सेवा सहकारी संस्था के प्रबंधक राकेश उपाध्याय से सम्पर्क करते हुए जमा रसीद एवं ऋण पुस्तक में जमा राशि होने के बाद बाकि रुपये निकालने की जानकारी ली गई। इस पर सेवा सहकारी संस्था सुखेडा के प्रबंधक राकेश उपाध्याय ने बताया की किसान के द्वारा जमा, रसीद बताने पर संस्था का रिकॉर्ड देखा गया तो दस्तावेज में उक्त किसान का बकाया रुपये निकलने पाया गया। जब किसान की रसीद की डुप्लीकेट के रसीद देखी गई तो किसान बगदीराम की रसीद व कार्यालय में डुप्लीकेट रसीद में रुपये का अन्तर पाया गया। डुप्लीकेट रसीद में मात्र 3 हजार 800 रुपये अंकों व शब्दों में पाए गए।

सोसायटी प्रबंधक ने की पिपलौदा थाने में रिपोर्ट
उपाध्याय ने बताया इसकी जानकारी उच्च अधिकारियों को देकर जानकारी चाही गई। इसके अधिकारियों के मार्गदर्शक में 4 फरवरी २०१९ को पिपलौदा थाना पर प्रथम रिपोर्ट उस वक्त के सहायक प्रबंधक यशपालसिंह राठोर व लिपिक ऑपरेटर प्रभु सालवी के नाम दर्ज करवाई गई। संस्था प्रबंधक राकेश उपाध्याय ने बताया की अनुविभागीय अधिकारी जावरा में इसके संदर्भ में 28 फरवरी २०19 को बगदीराम द्वारा शिकायत की गई थी। अत: किसान बगदीराम के संस्था में रिकार्ड के अनुसार एसडीएम को प्रतिवेदन प्रस्तुत कर दिया गया है। राठोर 1 अप्रैल 1989 से सुखेडा सेवा सहकारी संस्था पर सहायक प्रबन्धक पद पर थे, जबकि वर्ष 2006 से प्रभु साल्वी माऊखेडी निवासी लिपिक आपरेटर पर पदस्थ था। पिपलौदा थाने से मिली जानकारी के अनुसार सोसायटी प्रबंधक द्वारा दो कर्मचारियों के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाई है। इसमें एक तो मृत्यु हो चुकी है, दूसरे से पूछताछ कर मामले को जांच मे ंलिया है।
सुखेड़ा सोसायटी में ऋण माफी योजना अन्तर्गत एक किसान द्वारा ऋण जमा कराने के बावजूद उसका नाम सूची में आया था, जिसकी शिकायत हुई थी। इस संबंध में जांच कर सोसायटी कर्मचारियों पर पर एफआईआर की कार्यवाही की गई है।
जीएस मोहनिया, उपसंचालक कृषि, रतलाम
सुखेड़ा सोसायटी में ऋण माफी योजना के अन्तर्गत गड़बड़ी हुई थी, इस संबंध में सोसायटी प्रबंधक को पिपलौदा थाने पर रिपोर्ट दर्ज कराने के निर्देश दिए थे। थाने पर आवश्यक कागज मांगे गए, वह कागज सोसायटी तैयार कर पेश करेंगी।
परमानंद गोडरिया, उपायुक्त सहकारिता, रतलाम

Akram Khan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned