25 लाख रुपए की फिरौती के लिए चलाई थी व्यापारी पर गोली

जावरा के हातिम अली बोहरा गोलीकांड के तीन आरोपी गिरफ्तार, मुख्य आरोपी सहित एक अन्य आरोपी अभी भी फरार

By: Yggyadutt Parale

Published: 17 Jul 2020, 05:15 PM IST

रतलाम। जावरा के कमानी गेट क्षेत्र में हातिम अली बोहरा को गोली मारने के मामले में पुलिस ने गुरुवार दोपहर खुलासा कर दिया है। व्यापारी से २५ लाख रुपए की फिरौती मांगने वाले आरोपियों की गैंग ने ही इस वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के अनुसार व्यापारी को 25 लाख रुपए नहीं मिलने से बदमाशों ने उसकी दुकान में घुसकर गोली मार दी थी जो उसके पैरों में लगी थी। मामले में 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दो मुख्य आरोपियों की पुलिस तलाश में जुटी हुई है। एसपी तिवारी ने बताया कि 14 जुलाई की शाम 5.30 बजे व्यापारी हातिम अली को उस समय गोली मारी गई थी, जब वे दुकान के अंदर थे। बाइक पर दो युवक नकाब पहनकर पहुंचे थे। एक युवक ने दुकान में घुसकर हातिम अली पर फायर किए थे। हातिम अली के दोनों पैरों में गोली लगी थी। गोली मारने के बाद युवक बाहर निकला और बाइक पर बैठकर साथी के साथ भाग गया था।

१७ जून को मांगी थी फिरौती
पुलिस जांच के दौरान पता चला कि 17 जून को अज्ञात व्यक्ति ने हातिम अली को फोन कर 25 लाख की फिरौती मांगी थी। फिरौती नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी भी दी गई थी। इस मामले की सूचना फरियादी ने पुलिस को नहीं दी थी। पुलिस का मानना है कि इस तरह के धमकीभरे फोन अन्य लोगों को भी मिले होंगे। जांच के दौरान पता चला कि आरोपी शाह नवाज पिता शब्बीर पठान निवासी टोडी मंदसौंर, अज्जू उर्फ अजहर पिता जहीर मीर निवासी बारी मोहल्ला प्रतापगढ़ राजस्थान मुख्य आरोपी हैं और इन्होंने ही यह पूरा षड्यंत्र रचा था। गिरफ्तार किए गए तीनों सहयोगी आरोपी असलम उर्फ असलम हड्डी पिता अहमद अली व शादाब पिता युसूफ खान दोनों निवासी जावरा तथा अरशद पिता आरिफ खान मेव निवासी खिलचीपुरा मंदसौर ने इनका सहयोग किया। जावरा के दोनों युवकों ने इन्हें अपने यहां शरण भी दी थी।

गोली चलाने से पहले की थी रैकी
आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि गोली चलाने से पहले दोनों मुख्य आरोपियों शाहनवाज और अजहर ने हातिम अली बोहरा की दुकान की रैकी भी की थी। इसके बाद घटनावाले दिन उन तीनों को परवलिया की तरफ बुलाया गया था। वे गए तो बरसाती पहने दो युवकों से उनकी मुलाकात हुई थी। इन्होंने पिस्टल, कारतूस और एक हजार रुपए बाइक में पेट्रोल भरवाने के लिए दिए थे। फिर ये दो बाइक से सभी लोग जावरा आए थे और वारदात को अंजाम देने के बाद मुख्य आरोपी भाग निकले। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एएसपी डॉ इंद्रजीत बाकलवार और जावरा सीएसपी प्रदीपसिंह राणावत के नेतत्व में छह टीमें गठित की गई थी। टीमों ने आरोपी के घरों और ठिकानों पर दबिशें दी। इस दौरान आरोपी असलम, शादाब और अरशद को गिरफ्तार कर लिया गया। मुख्य आरोपी शहनवाज और अज्जू उर्फ अजहर की गिरफ्तारी नहीं हुई है। उनकी तलाश की जा रही है।

Yggyadutt Parale Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned