scriptdevotees crowd gathered to see maa kalika darshan on chaitra navratri | चैत्र नवरात्रि पर मां कालिका के दर्शन करने उमड़ी भक्तों की भीड़, सिर्फ यहीं होते हैं माता के तीन रूपों के दर्शन | Patrika News

चैत्र नवरात्रि पर मां कालिका के दर्शन करने उमड़ी भक्तों की भीड़, सिर्फ यहीं होते हैं माता के तीन रूपों के दर्शन

-चैत्र नवरात्रि का पहला दिन
-शहरवासियों ने किये कालिका माता के दर्शन
-मालवा के लिए आस्था का केंद्र हैं मां कालिका
-नवरात्रि में यहां लगता है भक्तों का तांता

रतलाम

Updated: April 02, 2022 11:07:00 am

रतलाम. मध्य प्रदेश के रतलाम में स्थित प्रसिद्ध कालिका माता मंदिर मालवा में आस्था का बड़ा केंद्र है। नवरात्रि के साथ ही यहां साल भर मंदिर में माता के दर्शन और भक्ति के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। मान्यता है कि, स्टेट के समय से ही शहरवासी दिन की शुरुआत मां दर्शनों से होती है।

News
चैत्र नवरात्रि पर मां कालिका के दर्शन करने उमड़ी भक्तों की भीड़, सिर्फ यहीं होते हैं माता के तीन रूपों के दर्शन

खास बात ये है कि, रतलाम एक ऐसा शहर है, जहां माता तीनों रूपों में विराजती हैं। इनमें समय के अनुसार, सुबह, दोपहर और शाम को अलग अलग मां माता कालिका, मां चामुंडा और मां अन्नपूर्णा के दर्शन किये जा सकते हैं। इस मंदिर में मां कालिका के साथ मां चामुंडा और मां अन्नपूर्णा विराजती हैं। रतलाम ही नहीं बल्कि पूरे मालवा में यह आस्था का बड़ा केंद्र है।

यह भी पढ़ें- अब मुफ्त में राशन लेने वालों की खुलेगी पोल, ऐसे लोग नहीं ले सकेंगे योजनाओं का लाभ


सैकड़ों साल पहले रतलाम राजवंश द्वारा हुई मंदिर की स्थापना

बताया जाता है कि, यह मंदिर सैकड़ों साल पुराना है, जिसकी स्थापना रतलाम राजवंश के समय की गई थी। तब से अब तक मां कालिका शहरवासियों की रक्षा कर रही हैं।नवरात्रि के समय भक्तों की भीड़ यहां चैत्र, गुप्त और शारदीय, यानी तीनों नवरात्रि के समय दर्शन के लिए उमड़ती है। मां के दरबार में श्रद्धालुओं की लंबी लंबी कतार दिखाई देती है।

यह भी पढ़ें- पौधों के डंठल पीसकर बना देते हैं खाने में डालने वाले चटपटे मसाले, ऐसे हुआ गोरखधंधे का भांडाफोड़


हर मनोकामना होती है पूरी

मातारानी के दर्शन के लिए खासतौर पर महिलाएं बड़ी संख्या में यहां पहुंचती हैं। मां कालिका का विशेष श्रृंगार भक्तों के आकर्षण का केंद्र होता है। खास बात ये कि, ये पहला ऐसा मंदिर है, जहां नवरात्रि में सुबह 4 बजे मां की आराधना, गरबा के साथ की जाती है। मंदिर के पास एक अष्ट कोणीय तालाब भी है, जिसकी दीपों के साथ सुंदरता देखते ही बनती है। ऐसी मान्यत है कि, यहां से मां का आशीर्वाद लेने पर हर मनोकामना पूरी होती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.