Corona में आपदा को बदला अवसर में

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने किया बड़ा काम, मास्क से कमाए 8 लाख रुपए

By: Ashish Pathak

Published: 28 Jul 2021, 11:24 AM IST

रतलाम. जिले में स्वयं सहायता समूह की महिलाएं विभिन्न क्षेत्रों में स्वरोजगार करके अपने पैरों पर खड़ी हो रही है। अपने परिवार का मजबूत सहारा बन रही है। विविध आर्थिक गतिविधियों के द्वारा समूहों की सदस्य महिलाएं अपने परिवारों को आर्थिक तरक्की के नए आयाम दे रही हैं। इसी क्रम में जिले की महिलाओं ने कोरोना काल आपदा को अवसर में बदलते हुए 8 लाख रूपए की कमाई केवल मास्क बेचकर की है। इन महिलाओं ने कोरोना कॉल में लगभग 80 हजार मास्क विक्रय किए हैं।

corona virus

बड़ी बात यह है स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा अपने घर पर ही मास्क तैयार किए गए और जनपदों से मिले आर्डर पर ग्राम पंचायतों को सप्लाई किया। ग्राम पंचायतों द्वारा मनरेगा कार्यों में लगे श्रमिकों को मास्क उपलब्ध कराए गए तथा चालानी कार्रवाई के दौरान भी ग्रामीणों को मास्क प्रदान किए गए। मास्क विक्रय का कार्य जिले की बाजना, जावरा, पिपलोदा जनपद पंचायतों की महिलाओं द्वारा किया गया। उक्त जनपद पंचायतों के विभिन्न ग्रामों की रहवासी महिलाओं ने 10 रुपए प्रति मास्क की दर से पंचायतों को विक्रय किया। इससे महिलाओं की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई, उनके परिवार को सहारा मिला तथा जीवन में आगे बढऩे का हौसला भी महिलाओं को मिला है। अब वे नए आत्मविश्वास के साथ जीवन में आगे बढऩे एवं और अच्छा कर गुजरने के लिए उत्साहित है।

 Corona changed into opportunity
IMAGE CREDIT: patrika

रावटी की है महिला
आदिवासी क्षेत्र ग्राम रावटी की रहने वाली श्यामा जो कि लक्ष्मी स्वयं सहायता समूह से जुड़ी हुई है, उनका कहना है कि कोरोना काल में आर्थिक तंगी के दौरान मास्क विक्रय से हमें अपने परिवार और घर गृहस्थी के संचालन में परेशानी नहीं आई हमें पर्याप्त राशि मिली है। श्यामा ने अपने घर पर ही तैयार करके 3 हजार मास्क विक्रय किए हैं। इससे 3 हजार रूपए की आमदनी श्यामाबाई को मिली है। ऐसे अनेक उदाहरण स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं के है जिन्हे आर्थिक तंगी में मास्क विक्रय से सहारा मिला है। जिले के 64 स्वयं सहायता समूह से जुड़ी 117 महिलाओं ने मास्क बेचकर अच्छी आमदनी प्राप्त की है।

Tamilnadu  <a href=Corona virus Special reports" src="https://new-img.patrika.com/upload/2020/12/21/ff_6976507-m.png">

फैक्ट फाइल
यहां की महिलाओं ने की कमाई
विकासखंड - समूह व महिलाओं की संख्या
बाजना विकासखंड - 17 समूहों की 45 महिलाएं
पिपलोदा विकासखंड - 20 समूहों की 33 महिलाएं
जावरा विकासखंड - 27 स्वयं सहायता समूह की 39 महिलाएं

इन्होंने उदाहरण प्रस्तुत किया है
यह महिलाएं छोटे छोटे गांव की है। इन्होंने एक आदर्ष व उदाहरण प्रस्तुत किया है कि अगर कुछ करने की ठान ली जाए तो कुछ भी असंभव नहीं है। इनसे प्रेरणा लेने की जरुरत है।
मीनाक्षी सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत

Corona virus
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned