scriptDrainage water on roads, proper drainage | सड़कों पर ड्रेनेज का पानी, सही हो निकासी | Patrika News

सड़कों पर ड्रेनेज का पानी, सही हो निकासी

- शहर में बेतरतीब ड्रेनेज व्यवस्था के चलते सड़कों पर आने लगा गंदा पानी, क्षेत्र के रहवासियों के साथ आवाजाही करने वाले होते है परेशान

 

रतलाम

Updated: February 20, 2022 11:32:32 am

रतलाम। शहर में सीवरेज कार्य के साथ ही नई सड़कों के निर्माण के दौरान अंडर ग्राउंड सीवरेज सिस्टम की अभी से पोल खुलने लगी है। शहर के रहवासी क्षेत्र हो या फिर सिटी फोरलेन की मुख्य सड़कें हर तरफ ड्रेनेज का पानी सड़क पर नजर आने लगा है। हालात यह है कि बेतरतीब व्यवस्था के चलते अब उसमें सुधार के लिए नई बनी सड़कों को क्षतिग्रस्त किया जा रहा है और काम की गति भी इतनी धीमी है कि सात दिन बाद भी व्यवस्था पटरी पर नहीं आ सकी है।
सड़कों पर ड्रेनेज का पानी, सही हो निकासी
सड़कों पर ड्रेनेज का पानी, सही हो निकासी
शहर में बीते दस दिनों से सबसे बूरे हालात कहीं खराब नजर आए तो वह दो बत्ती चौपाटी के पास के है। यहां हालही में सिटी फोरलेन निर्माण के दौरान सड़क किनारे ड्रेनेज के पाइप अंडर ग्राउंड डाले गए थे लेकिन दो बत्ती पर लाइन को जोड़े जाने का काम ठीक से नहीं होने के चलते लाइन जाम हो गई। एेसे में पहले तो करीब चार दिनों तक मार्ग से आवाजाही करने वाले लोग ड्रेनेज का पानी सड़क पर आने से परेशान होते रहे और अब उसमें सुधार के लिए लाखों रुपए खर्च कर बनाए गए सिटी फोरलेन को खोद दिया गया।
चार दिन से खुला पड़ा चेंबर
दो बत्ती चौपाटी के पास ड्रेनेज में सुधार के लिए निगम के सफाई कर्मियों द्वारा भी हर तरह के प्रयास कर लिए गए लेकिन वह ठीक से साफ नहीं हो सका। एेसे में उसे ठीक करने के लिए सड़क की खुदाई कर चेंबर को फिर से खोला गया है लेकिन आज तक यह काम पूरा नहीं हो सका है, जिसके चलते चेंबर बीते चार दिनों से खुला पड़ा है। एेसे में इसके खुले होने से नाले की दुर्गंध से आस-पास के लोगों के साथ ही यहां से गुजरने वाले लोग भी परेशान हो रहे है।
इधर भी खुली स्वच्छता की पोल
नगर निगम भले ही स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में रतलाम को अव्वल लाने के प्रयासों के साथ तमाम दावे कर रही है लेकिन उसके यह दावे धरातल पर ही दम तोड़ते नजर आ रहे है। शहर के मोमिनपुरा क्षेत्र के रहवासी हर दो से तीन दिन में नाले के पानी से परेशान होते है। यहां के रहवासियों की माने तो नगर निगम को सूचना देने के बाद भी नालों की सफाई नही होती है। यहां सिर्फ एक कर्मचारी है जो नाले को खोलता है। एेसे में नाले की गंदगी लोगों की दुकान और घरों के बाहर फेल जाती है। लोगों की माने तो नाले की गहराई कम होने और समय पर सफाई नहीं होने के कारण पानी सड़कों पर बहता रहता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

प्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शवऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा फैसला, ज्ञानवापी सर्वे मामले को टेक ओवर करेगा बोर्ड31 साल बाद जेल से छूटेगा राजीव गांधी का हत्यारा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशकान्स फिल्म फेस्टिवल में राजस्थान का जलवा, सीएम गहलोत ने जताई खुशीगुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तारWest Bengal SSC Mega scam क्या ममता बनर्जी तक पहुंचेगी शिक्षक भर्ती घोटाले की जांचआज चंडीगढ़ की ओर कूच करेंगे किसान, बॉर्डर पर ही बिताई रात, CM भगवंत बोले- 'खोखले नारे' नहीं तोड़ सकते संकल्प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.