रेलवे में डीआरएम की न सुने ऐसा भी एक विभाग, करता है मनमर्जी

विभाग की गलती की सजा सीएचआई को फटकार के रुप में मिली

By: harinath dwivedi

Published: 10 Feb 2018, 05:00 PM IST

रतलाम। रेल मंडल का इंजीनियरिंग विभाग व इससे जुडे़ अधिकारी मंडल रेल प्रबंधक के आदेश से भी बडे़ है। एक माह पूर्व डीआरएम ने निर्देश दिए थे की प्लेटफॉर्म नंबर ५ व ६ की नाली के अंदर के गाद को साफ करने के लिए ड्रेनेज को सुधारा जाए। अब तक ये काम नहीं हुआ है। इसके बदले गत दिनों जब डीआरएम स्टेशन गए व स्वच्छता निरीक्षक कुलदीप पाठक को फटकार मिली। यहां तक की पाठक को निंलबीत करने के निर्देश हो गए। बाद में किसी ने डीआरएम को बताया गया की पाठक की नहीं, इंजीनियरिंग विभाग की गल्ती है तो आदेश वापस हो गए, लेकिन ड्रेनेज सुधार के लिए अब तक शुरुआत नहीं हुई है। मामले में अब तक कार्य विभाग पांच दर्जन बार अपने वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिख चुका है, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। एेसे में अब ट्रैक खराब होने का खतरा बढ़ रहा

है।

ये है पूरा मामना

असल में रेलवे स्टेशन में प्लेटफॉर्म नंबर ४ का जब ड्रेनेज खरब हुआ था व इसका असर ट्रैक व पटरियों पर होने लगा था तो तीन दिन तक टूकड़ों-टूकड़ों में ब्लॉक लेकर इसको सुधार किया गया था। यही जरुरत प्लेटफॉर्म नंबर ५ व ६ पर है। लेकिन मंडल के इंजीनियरिंग विभाग को इस काम के लिए समय नहीं मिल रहा है। स्टेशन पर पदस्थ कार्य विभाग के अधिकारी करीब पांच दर्जन बार इसके लिए लिखकर वरिष्ठ अधिकारियों को दे चुके है, लेकिन मंडल मुख्यालय पर बैठे अधिकारी न कार्य विभाग की सुन रहे है न डीआरएम की। एेसे में इन दोनों प्लेटफॉर्म का ट्रैक अब खोखला होने की कगार पर है। इतना ही नहीं, यहां पनप रहे चूहे इसको ओर खराब कर रहे है। इन सब के बाद भी गंदगी से भरे ड्रेनेज को सुधारा नहीं जा रहा है।

गाज पाठक पर गिर जाती

स्टेशन पर पदस्थ अधिकारियों के अनुसार गत दिनों जब डीआरएम ने प्लेटफॉर्म नंबर ७ से २ तक निरीक्षण किया तो वे ५ व ६ नंबर के प्लेटफॉर्म पर ड्रेनेज की गंदगी को देखकर नाराज हुए थे। उन्होने इसके लिए एक माह बाद भी सुधार कार्य नहीं होने के लिए सफाई ठेकेदार कर्मचारी व स्वच्छता निरीक्षक पाठक को दोषी मान लिया। एेसे में ठेकेदार पर जुर्माना व पाठक को निलंबीत करने की बात कह दी। बाद में उनको बताया गया की ये काम इंजीनियरिंग विभाग का है, इसके लिए दोषी वो विभाग है, तो सजा के जारी हो रहे आदेश को रोक दिया गया। हैरानी की बात ये की इंजीनियरिंग विभाग को कोई दंड नहीं दिया गया।

शीघ्र होगा सुधार कार्य

स्टेशन पर ट्रैक व ड्रेनेज में सुधार का कार्य शीघ्र किया जाएगा। इसके लिए योजना बनाई जा रही है।

- जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned