scriptelection 2022 news in hindi | ऐसे तय होता है संवेदन और अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र | Patrika News

ऐसे तय होता है संवेदन और अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र

हर बार चुनाव में निर्वाचन अधिकारी यह बताते है कि कौन सा मतदान केंद्र संवेदन और अतिसंवेदनशील है। यह तय किस तरह से होता है, यहां पढ़ें पहली बार...

रतलाम

Published: June 21, 2022 10:54:47 am

रतलाम. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव और निकाय चुनाव चल रहे है। हर बार चुनाव में निर्वाचन अधिकारी यह बताते है कि कौन सा मतदान केंद्र संवेदन और अतिसंवेदनशील है। यह तय किस तरह से होता है, यहां पढ़ें पहली बार...
election 2022- चुनावी माहौल में अरुण यादव गुट फिर पड़ा भारी
खंडवा, बुरहानपुर के निस्कासित जिलाध्यक्षों की 5 माह बाद हुई वापसी
त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव और निकाय चुनाव में अधिक से अधिक मतदान भयमुक्त हो, इसके लिए शासन का हर अंग पूरी मेहनत कर रहा है। लेकिन इसकी जानकारी कम को है कि संवेदनशील व अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र का निर्धारण कैसे होता है। आमसोच है कि जिस बूथ पर लडाई - झगड़े या बूथ कैप्चर हो सिर्फ वही बूथ पुलिस - प्रशासन की नजर में संवेदनशील होता है, जबकि ऐसा नहीं है। जहां 90 प्रतिशत से अधिक मतदान होता है, वो बूथ भी संवेदनशील और अतिसंवेदनशील हो जाते है।
यह है तय करने का पैमाना

असल में संवेदनशील और अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र तय करने का कोई एक पैमाना नहीं है। जिस बूथ पर पूर्व के चुनाव में लड़ाई हुई हो, बूथ कैप्चर का प्रयास हुआ हो, बूथ को लूटा गया हो, बूथ पर दोनों दल या अन्य के बीच विवाद के हालात बने हो, उनको संवेदनशील माना जाता है। जिस बूथ पर लड़ाई - झगड़े ने हिंसक रुप ले लिया हो, हथियार चले हो, एक या एक से अधिक व्यक्ति घायल हुए हो, उनको अतिसंवेदनशील सामान्य रुप से माना जाता है।
अब बदल गए है नियम

अब संवेदनशील और अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र के लिए नियम बदल गए है। अब वे बूथ या मतदान केंद्र जहां 90 या इससे अधिक मतदान हुआ हो, उसको संवेदनशील पुलिस मान लेती है। इसके अलावा जिस बूथ या मतदान केंद्र पर 95 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ हो उस बूथ या मतदान केंद्र को अतिसंवेदनशील माना गया है।
इसलिए हुआ ऐसा

पुलिस के आला अधिकारियों के अनुसार त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव और निकाय में यह माना गया है कि जिस मतदान केंद्र पर 90 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ हैं, वो स्थान गड़बड़ वाला है। हालांकि इसके लिए जो व्याख्या की गई है, उसके अनुसार 90 प्रतिशत से अधिक मतदान संदेहस्पद है, इसलिए ही इनको संवेदनशील और अतिसंवेदनशील माना गया है।
फैक्ट फाइल

जनपद - कुल मतदान केंद्र

आलोट 239

सैलाना - 156

बाजना 199

पिपलोदा 168

जावरा 215

रतलाम 343

कुल 1320

नियम में अधिक मतदान भी शामिल
संवेदनशील व अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र के लिए पूर्व के परंपरागत नियम तो है ही, इसके साथ - साथ अब अधिक मतदान होने पर भी किसी मतदान केंद्र को संवेदनशल या अतिसंवेदनशील माना जाता है। जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव अंतर्गत छह विकासखंड में 168 संवेदनशील और 79 अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र है।
- अभिषेक तिवारी, पुलिस अधीक्षक रतलाम

Ratlam Collector ban
IMAGE CREDIT: patrika

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार में पलटी बाजी, बीजेपी के सभी मंत्री देंगे इस्तीफा, RJD के साथ सरकार बनाने की तैयारी में नीतीश कुमारBihar Political Crisis Live Updates: CM नीतीश कुमार ने राज्यपाल से मांगा समय, BJP के सभी 16 मंत्री आज देंगे इस्तीफाबिहारः जदयू और भाजपा के बीच तकरार की वो पांच वजहें, जिससे टूटने के कगार पर पहुंची नीतीश कुमार सरकारMaharashtra Cabinet Expansion Live Updates: महाराष्ट्र कैबिनेट का शपथ ग्रहण समारोह खत्म, शिवसेना और बीजेपी के 18 विधायकों ने ली शपथताइवान का चीन समेत दुनिया को संदेश: चीन के सैन्य अभ्यास के तुरंत बाद ताइवान ने भी शुरू की Live Fire Artillery Drill, बज गए युद्ध के नगाड़े18 से 22 अक्टूबर तक गुजरात के गांधीनगर में दिखाई जाएगी भारत की सबसे बड़ी रक्षा प्रदर्शनी, गुजरात चुनाव से पहले बदली तारीखहिंदुओं को अल्पसंख्यक घोषित करना अदालत का काम नहीं: सुप्रीम कोर्टFBI का छापा : अमरीका में भी भारत की तरह छापेमारी, Donald Trump के फ्लोरिडा वाले घर पर FBI की रेड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.