समर्थन मूल्य को किसानों का नहीं मिल रहा समर्थन

समर्थन मूल्य को किसानों का नहीं मिल रहा समर्थन

By: Akram Khan

Published: 04 Apr 2019, 05:52 PM IST

रतलाम। (सुखेड़ा) स्थानीय सेवा सहकारी संस्था द्वारा पंजीकृत किसानों का गेहूं समर्थन मूल्य पर उपार्जन किया जा रहा है, लेकिन गेहूं के समर्थन मूल्य को किसानों का समर्थन नहीं मिल पा रहा है। यहीं कारण है कि किसानों को मैसेज मिलने के बाद भी वे समर्थन मूल्य केन्द्र पर गेहूं उपार्जन के लिए नहीं आ रहे हैं।

ज्ञात रहे सुखेड़ा सेवा सहकारी संस्था व माऊखेड़ी संस्था के 1563 किसानों ने गेहूं उपार्जन हेतु पंजीयन करवाया था किन्तु आज केन्द्र प्रारम्भ हुआ 10 दिन हो गए पर अभी तक मात्र 22 किसानों ने 1250 क्विंटल गेहूं का उपार्जन किया है, जबकि गत वर्ष दस दिन के अन्दर 50 से 60किसानों ने समर्थन मूल्य केन्द्र पर पांच-छह हजार क्विंटल गेहूं बेच दिया था। इस वर्ष 26मार्च 19 मंगलवार को सेवा सहकारी संस्था द्धारा राजस्थान रोड स्थित श्री महावीर गोशाला प्रांगण में समर्थन मूल्य केन्द्र का शुभारंभ कर पानी, टेंट सहित 25 से 30 हम्मालों की व्यवस्था कर पंजीकृत किसानों का उपार्जन तौल हेतु चार इलेक्ट्रॉनिक कांटों की व्यवस्था की गई। किसानों को परेशानी ना हो इसके लिए इस वर्ष दो केन्द्र बनाए गए। पर किसानों का समर्थन नहीं मिल पाने से मात्र दो तौल कांटों पर ही किसानों का उपार्जन तौला जा रहा है।
वहीं समर्थन मूल्य केन्द्र पर पंजीकृत किसानों की उपज नहीं आने से तौल पर लगे हम्मालों को अभी रोजी रोटी व दिनचर्या के सामान के लिए परेशानी होने लगी है। हम्माल शंभु लाल बाबरिया ने बताया की हम करीब 25 से 30 हम्माल समर्थन मूल्य केन्द्र पर काम करने के लिए आए हैं। 10दिन में बहुत कम किसानों का उपार्जन आने से अब परिवार का पालन पोषण में परेशानी आ रही है। बुधवार को भी मात्र 126 क्विंटल गेहंू तौले गए हैं जिस में मात्र 6 हम्माल ने ही काम किया।

इधर रिंगनोद मंडी में समर्थन मूल्य पर गेहूं का उपार्जन चल रहा है। अभी तक चार हजार क्विंटल गेहूं उपार्जन हो चुका है। लेकिन उसे उठाने की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। इधर किसानों को अगर समय पर भुगतान नहीं मिला तो संस्था की परेशानी बढ़ेगी। परिवहन को लेकर अभी तक उनके पास कोई दिशा निर्देश नहीं आए हैं।

Akram Khan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned