सीआरएस ने की हां तो बढ़ सकती है ट्रेनों की गति

सीआरएस ने की हां तो बढ़ सकती है ट्रेनों की गति

 

By: Sourabh Pathak

Published: 26 Jul 2019, 12:51 PM IST

रतलाम। पश्चिम रेलवे के रतलाम जंक्शन से इंदौर के लक्ष्मीबाई नगर तक बडऩगर, फतेहाबाद मार्ग किए गए इलेक्टीफिकेशन का काम अब पूरा हो चुका है। इस रेल लाइन का निरीक्षण करने के लिए गुरुवार सुबह मुंबई से सीआरएस स्पेशल ट्रेन रतलाम आएगी, जिसमें सीआरएस के साथ इस काम से जुड़े सभी अधिकारी मौजूद रहेंगे। यदि निरीक्षण में सब कुछ ठीक मिली तो अगस्त या सितंबर माह से उक्त ट्रेक पर इलेक्ट्रीक इंजन से ट्रेन चलाए जाने को मंजूरी मिल जाएगी।

 

मुंबई से सीआरएस स्पेशल ट्रेन से सुबह रतलाम स्टेशन पहुंचे। उक्त में रेलवे के आलाअधिकारी मौजूद रहेंगे। यह ट्रेन सुबह करीब 8.30 बजे रतलाम से लक्ष्मीबाई नगर के लिए रवाना होगी। सीआरएस एके जैन व उनकी टीम इलेक्ट्रीफिकेशन कार्य का निरीक्षण करेंगे। रतलाम से इसमें डीआरएम के साथ अन्य अधिकारी भी शामिल हो सकते है। टीम इलेक्ट्रीक इंजन से ट्रेन चलाए जाने के दौरान हर स्थिति परिस्थिति का जायजा लेगी। उसके बाद रात करीब 8 बजे टीम वापस रतलाम लौटेगी।

रतलाम-चित्तौडग़ढ़ का चल रहा काम
रतलाम-चित्तौडग़ढ़ रेल लाइन पर भी वर्तमान में इलेक्ट्रीफि केशन का काम चल रहा है। रतलाम से जावरा तक ओएचई केबल भी डाली जा चुकी है। जावरा से मंदसौर के बीच यह काम चल रहा है। वहीं चित्तौडग़ढ़ से नीमच के बीच भी केबल डाले जाने का चल रहा है। जबकि मंदसौर से नीमच के बीच पोल लगाए जाने का काम अब भी जारी है। रतलाम से जावरा के बीच भी सीआएस पूर्व में निरीक्षण कर चुके है।

जावरा में होगा सब स्टेशन
रतलाम-जावरा-मंदसौर-नीमच रेल लाइन होने पर बिजली से ट्रेन चलाने के लिए जावरा में सब स्टेशन तैयार किया है। जावरा सब स्टेशन ने आरई अहमदाबाद को बिजली देने के लिए सहमति भी दी है। एेसे में अब इस मार्ग पर ट्रेन चलाने के लिए जावरा सब स्टेशन से बिजली मिलेगी। इसे लेकर अन्य प्रक्रिया अब भी चल रही है।

Show More
Sourabh Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned