Mp Elecation 2018: वीडियो में देंखे, किस तरह मध्यप्रदेश में ये दल झेल रहा स्थानीय नेताओं के बगावती तेवर

वीडियो में देंखे, किस तरह मध्यप्रदेश में ये दल झेल रहा स्थानीय नेताओं के बगावती तेवर

रतलाम. मध्यप्रदेश में टिकट वितरण की शुरूआती बढ़त बनाने की कोशिश में जुटी कांग्रेस के लिए मालवा के शहरों में कांग्रेस नेताओं का बगावती तेवर दिखाना चुनौती बनता जा रहा है। रतलाम शहर विधानसभा के बाद रतलाम ग्रामीण विधानसभा में स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने शनिवार को एक पत्रकार वार्ता कर टिकट वितरण में स्थानीय प्रत्याशी को ही चुनने का ऐलान कर दिया। साथ ही चेतावनी दे दी कि कांग्रेस ने किसी बाहरी को प्रत्याशी बना दिया तो फिर स्थानीय नेता मिलकर अपना स्वतंत्र प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतार देंंगे। स्थानीय नेताओ की इस पत्रकार वार्ता के बाद अचानक हलचल तेज हो गई है। जिले के कांग्रेस पर्यवेक्षक धीरूभाई पटेल संगठन के पदाधिकारियों से वार्ता की जानकारी जुटाने मेंं लगे है।

लोकसभा की बढ़त की याद दिलाई, विधानसभा के लिए चेतावनी
शनिवार को स्थानीय उम्मीदवार की बात बोलने वाले नेताओं ने मीडिया से चर्चा की। एक निजी होटल में इन्होंने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने अपने बेटे को भी चुनाव लड़वाया तो उनका विरोध रहेगा। बाहरी प्रत्याशी थोपा गया तो वे मिलकर अपना एक प्रत्याशी निर्दलीय खड़ा करेंगे। लंबे समय से कांग्रेस का कार्य कर रहे है। चुनाव में हम को याद किया जाता है। लोकसभा चुनाव में हमने लीड दिलवाई। मीडिया से चर्चा करते हुए जिला पंचायत के पूर्व सदस्य छोटू मईड़ा, किसान कांग्रेस उपाध्यक्ष भेरूलाल गामड़, जिला युवक कांग्रेस अध्यक्ष किशन सिंगाड़, मंडी सदस्य सविता भंवर, जिला पंचायत के पूर्व सदस्य थावर भूरिया के अलावा प्रेमसिंह गामड़ ने मीडिया से बात करते हुए अपना पक्ष रखा है।

पूर्व विधायक के समर्थन के साथ आगामी चुनाव के दावेदारों ने की पत्रकार वार्ता
रतलाम ग्रामीण कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि सांसद कांतिलाल भूरिया के बेटे डॉ. विक्रांत भूरिया ने उनको बताया है कि वे स्थानीय प्रत्याशी के मुद्दे का समर्थन करते है। इनके अलावा पूर्व विधायक लक्ष्मीदेवी खराड़ी का भी उनको समर्थन है। नेताओं का कहना था कि अगर स्थानीय प्रत्याशी को टिकट नहीं दिया तो वे मिलकर अपना प्रत्याशी खड़ा करेंगे। इसे लेकर पहले ही रतलाम ग्रामीण के बिलपांक ब्लॉक, बांगरोद ब्लॉक और मूंदड़ी ब्लॉक के नेता बाहरी का विरोध कर अपना पक्ष पार्टी के सामने रख चुके है। विरोध के बीच ग्रामीण कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राजेश भरावा और अन्य पदाधिकारी विरोध कर रहे नेताओं से चर्चा कर उनके आक्रोश को थामने के लिए संपर्क व चर्चा करने मेंं जुट गए है।

sachin trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned