Indian Railway का ये डिब्बा न अब तक PINK हुआ, न बीच में आया, महिला यात्रियों के साथ हो रहा ये काम

Indian Railway का ये डिब्बा न अब तक PINK हुआ, न बीच में आया, महिला यात्रियों के साथ हो रहा ये काम

Ashish Pathak | Publish: Sep, 03 2018 04:11:33 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India


Indian Railway का ये डिब्बा न अब तक PINK हुआ, न बीच में आया, महिला यात्रियों के साथ हो रहा ये काम

रतलाम। सितंबर माह से रेलवे को महिला व दिव्यांग यात्रियों की सुरक्षा के लिए उनके लिए बने विशेष डिब्बे को हर ट्रेन में अंतिम व शुरुआती छोर के बजाए बीच में लाना था। इन डिब्बों की विशेष पहचान के लिए इनको पिंक रंग में रंगना था। न सिर्फ रतलाम मंडल बल्कि पूरे पश्चिम रेलवे से चलने वाली किसी भी ट्रेन में अब तक इसकी शुरुआत नहीं हो पाई है। महिलाओं को स्वयं के डिब्बे की तलाश में आगे-पीछे भागना पड़ता है। एेसे में भी दिव्यांग डिब्बे में तो कई बार अन्य यात्री सवारी करते साफ नजर आते है। मंडल में एक दिन में कम से कम पांच हजार महिला यात्री यात्रा करती है।

बता दे कि रेलवे बोर्ड ने निर्णय लिया था कि महिला व दिव्यांग यात्रियों की सुरक्षा व सुविधा को देखते हुए उनके लिए ट्रेन में लगने विशेष डिब्बे को ट्रेन के अंतिम भाग से हटाकर बीच में लगाया जाएगा। इससे उनकी सुरक्षा बेहतर होगी। इस समय ये डिब्बा या तो गार्ड के डिब्बे से जुड़ा होता है या फिर इंजन से जुड़ा हुआ। एेसे में कई बार महिलाओं के साथ अलग-अलग प्रकार के अपराध होते है। लगातार बढ़ते अपराधों के बाद ही रेलवे ने ये निर्णय लिया था कि इन डिब्बों को गुलाबी रंग से रंगा जाए व ट्रेन के बीचों बीच में लगाया जाए।

मंडल को याद भी न रहा

हैरानी की बात ये है कि मंडल में महिलाओं व दिव्यांग के डिब्बों को गुलाबी रंग देना तो दूर, बीच में लगाने की शुरुआत तक अब नहीं हुई। एेसे में अब भी महिलाओं को परेशानी होती है। बता दे कि मंडल में इंदौर, रतलाम, दाहोद, चित्तौडग़ढ़ ेव मंदसौर स्टेशन से ट्रेनों की शुरुआत होती है। इनमे से किसी भी स्टेशन से अब तक चलने वाली ट्रेनों के डिब्बों को बीच में नहीं लगाया गया है।

सोशल मीडिया पर अभियान चलाएंगे

रेलवे में अनेक नियम है, लेकिन इनका पालन नहीं हो रहा है। महिला यात्रियों को सुविधा देने के मामले में भेदभाव हो रहा है। इस मामले में सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जाएगा। डिब्बा अंतिम छोर पर होने से अनेक प्रकार की परेशानी होती है। कई बार तो पुरुष यात्री भी सवार होते है।

- सुनीता जैन, महिला यात्री

 

शीघ्र मिलेगा लाभ

रेलवे ने डिब्बों को गुलाबी करना शुरू कर दिया है। इसकी शुरुआत कुछ जोन में हो गई है। शीघ्र ही डिब्बों को बीच में लगाने के कार्य की शुरुआत होगी।
- जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल

 

Ad Block is Banned