भारतीय रेलवे : प्रताडऩा की शिकायत करने वाली महिला का तबादला

भारतीय रेलवे वैसे तो अपनी खुबियों के कारण प्रसिद्ध है, लेकिन रेलवे के नाम को बट्टा पश्चिम रेलवे के रतलाम रेल मंडल के कार्मिक विभाग के अधिकारी लगाने पर तुले हुए है। यहां पर एक महिला रेल कर्मचारी ने पुरुष कर्मचारी की नामजद शिकायत प्रताडऩा के मामले में की, जिसमे कार्रवाई के बदले शिकायत करने वाली महिला कही तबादला अधिकारी ने कर दिया।

By: Ashish Pathak

Published: 01 Aug 2020, 04:28 PM IST

रतलाम. रेल मंडल कार्यालय में काम करने वाली एक कार्यालय अधीक्षक महिला कर्मचारी ने राज्य महिला आयोग को अपने ही एक पुरुष साथी द्वारा प्रताडि़त करने, अभद्र भाषा का उपयोग करने का आरोप लगाया है। मामले में जांच हो इसके पूर्व ही पीडि़त महिला व जिस पर आरोप लगा, उसका तबादला रतलाम रेल मंडल के सहायक कार्मिक अधिकारी दीपक परमार ने कर दिया। पूर्व में भी रेल मंडल में महिलाओं ने इस प्रकार के आरोप लगाए तो उनके तबादले कर दिए गए थे। मामले में राज्य महिला आयोग को शिकायत के साथ साथ रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को की गई, लेकिन अब तक जांच ही शुरू नहीं हो पाई है।

आपका कम होगा बिजली बिल, क्योंकि लग रहे है स्मार्ट मीटर

RAILWAY----मेड़ता रोड से मेड़ता सिटी के बीच चलेगी डेमू ट्रेन

रेलवे मंडल कार्यालय में एक विभाग की कार्यालय अधीक्षक महिला ने राज्य महिला आयोग को जो शिकायत भेजी है उसमे लिखा है कि उनके अनुभाग के मुख्य कार्यालय अधीक्षक गलत काम की मांग करते है, मेरी फाइल छिपा लेते है, अभद्र भाषा का प्रयोग करते है, यहां तक की अलमारी के ताले व चाबी भी छीपा लेते है। इतना ही नहीं, जब शिकायत सहायक कार्मिक अधिकारी को करते है तो अधिकारी बाद में बोलते है मिल तो गई। इससे मानसिक रुप से परेशान हो गई हूं व अब बर्दाश्त की क्षमता समाप्त हो गई है। अगर भविष्य में कुछ गलत होता है तो इसके लिए सिर्फ संबंधीत कर्मचारी जवाबदेह होंगे।

भारी बारिश की चेतावनी, जारी किए हेल्पलाइन नंबर

Preparations for the arrival of the railway minister in full swing, the path through which the minister will be going there only
IMAGE CREDIT: patrika

जांच के आदेश तक नहीं
आमतौर पर नियम है कि जब किसी महिला के साथ प्रताडऩा का कोई मामला होता है तो विभागीय परिवार समिति इस ममले की जांच करती है। इस समिति में वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा एक वरिष्ठ अभिभाषक रहते है। रेलवे में भी इस प्रकार की समिति बनी हुई है, लेकिन महिला द्वारा शिकायत करने के बाद भी इस मामले में कार्रवाई के बजाए तबादला कर दिया गया।

यात्री ट्रेन के चालक को मालगाड़ी चलाने को कहा, जमकर विरोध शुरू

Railway: सीआरएस से पहले छिंदवाड़ा-नागपुर रेलमार्ग पर दौड़ेगी मालगाड़ी

विभागीय जांच होती है पहले
इस प्रकार के मामलों में सबसे पहले विभागीय जांच होती है। इसके बाद आगे का निर्धारण होता है। किसी भी महिला के साथ कुछ गलत हो तो उसको आवाज उठाना चाहिए।
- सबा खान, महिला उत्पीडऩ मामलों की विशेषज्ञ अभिभाषक

छात्रा को फीस जमा नहीं होने पर स्कूल से निकालने की धमकी

कुछ नहीं कहना
इस मामले में कुछ नहीं कहना है। नो कमेंट्स प्लीज।
दीपक परमार, सहायक कार्मिक अधिकारी, रेल मंडल

नगर निगम चुनाव 49 वॉर्डो में हुआ आरक्षण, आपके वार्ड में खुली यह गोटी

समूह से जुड़ी सीमा मजदूर से बनी किराना दुकान मालिक

भाजयुमो का मध्यप्रदेश में चलेगा झूठ बोले कौआ काटे अभियान

कोविड 19 के दौरान चलेगी यह स्पेशल ट्रेन

Mumbai Local Train : 75 हजार लोगों ने किया लोकल का सफर
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned