मनमाने बिजली बिलों पर आक्रोश

- धराड़ के विद्युत केन्द्र पर जड़ा ताला, अफसरों को सुनाई खरी-खोटी

By: bhuvanesh pandya

Published: 22 Aug 2017, 06:22 PM IST


रतलाम/धराड़। मनमाने बिजली बिलों के विरोध में सोमवार को ग्रामीण उपभोक्ताओं का आक्रोश फुट पड़ा। करमदी के उपभोक्ता धराड़ के विद्युत केन्द्र पहुंचे और नारेबाजी करते हुए गेट पर ताला जड़ दिया। करीब एक घंटे तक हंगामा और विरोध होने पर पुलिस दल मौके पर पहुुंचा और आक्रोशित उपभोक्ताओं को समझाया गया। विरोध के दौरान केन्द्र के कर्मचारी परिसर में ही कैद रहे। 

मामले की सूचना मिलने के बाद राज्य कृषक आयोग अध्यक्ष और ग्रामीण विधायक सहित अन्य नेता बिजली कंपनी अफसरों पर बरस पड़े। नेताओं ने साफ कहा, बिजली कर्मचारियों की दादागिरी नहीं चलेगी, ग्रामीण परेशान हो रहे है। शहर से लगे धराड़ विद्युत वितरण केन्द्र पर सोमवार की दोपहर करमदी क्षेत्र के उपभोक्ताओं ने जमकर हंगामा किया। दोपहर करीब १२ बजे मनमाने बिजली बिलों से नाराज उपभोक्ताओं ने मुख्य गेट पर ताला लगा दिया। इस दौरान बिल जमा करने के लिए खड़े अन्य ग्रामीणों को भी रोक दिया गया। गेट बंद होने के कारण केन्द्र पर तैनात कर्मचारी परिसर के भीतरी कक्ष में ही कैद हो गए। उपभोक्ताओं से चर्चा के लिए सहायक यंत्री मौके पर पहुंचे लेकिन ग्रामीणों ने परेशानी हल नहीं होने तक विरोध जारी रखने की बात कह दी। हंगामा बढऩे पर प्रधान आरक्षक मुकुटसिंह अन्य आरक्षकों के साथ पहुंचे और नाराज उपभोक्ताओं को समझाकर विद्युत केन्द्र के बंद गेट का ताला खुलवाया गया।
पहले भी बिलों पर मचा था हंगामा
धराड़ विद्युत केन्द्र पर करमदी के ग्रामीणों से पहले धराड़ के उपभोक्ताओं ने भी विरोध दर्ज कराया था। उपभोक्ता जितेन्द्र राव, ओमप्रकाश मईड़ा, नंदू वसुनिया और दशरथ मईड़ा ने बताया कि हमें केन्द्र से जारी होने वाले बिल समय पर नहीं मिलते है। कभी कभी तो रात ७ बजे बिल दिया जाता है और अगले दिन आखिरी तारीख दर्शा देते है। भुगतान में देरी होने पर केन्द्र के कर्मचारी बकाया बताकर कनेक्शन काट देते है। करमदी में कई घरों में इस तरह जबरन बिजली कनेक्शन काटे जा रहे है। इससे परेशान होकर सोमवार को उपभोक्ताओं ने विद्युत केन्द्र पर जाकर चर्चा की तो ठीक जवाब नहीं दिया।
कार्यपालन यंत्री के दफ्तर में जमकर बरसे आयोग अध्यक्ष
धराड़ में उपभोक्ताओं की नाराजगी की सूचना कृषि मंडी कार्यक्रम में शामिल राज्य कृषक आयोग अध्यक्ष ईश्वरलाल पाटीदार, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमेश मईड़ा, रतलाम ग्रामीण विधायक मथुरालाल डामर और मंडी अध्यक्ष प्रकाश भगोरा को मिली। ये सभी सीधे पॉवर हाऊस रोड स्थित कार्यपालन अभियंता कार्यालय पहुंच गए। कार्यपालन यंत्री संयज जैन के कक्ष में विद्युत केन्द्र से जारी बिलों को लेकर उपभोक्ताओं की नाराजगी का मुद्दा उठाया गया। राज्य कृषक आयोग अध्यक्ष पाटीदार ने कहा कि बिजली कर्मचारी मनमानी कर रहे है, इस तरह नहीं चल सकता। ग्रामीणों को सूचना दिए बिना कनेक्शन काटना गलत है।
जवाब नहीं दे पाएं कार्यपालन यंत्री, सवाल करते रहे विधायक
मनमाने बिलों व समय पर बिल नहीं देने के मुद्दें पर कार्यपालन यंत्री जैन जवाब नहीं दे पाए। जिला पंचायत अध्यक्ष मईड़ा ने कहा कि प्रदेशभर में बिजली कर्मचारियों से किसान और ग्रामीण परेशान हो रहे है। वहीं, मंडी अध्यक्ष भगोरा ने कहा कि इस तरह दादागिरी कर कनेक्शन काटने और पुलिस को बुलाने की धमकी की शिकायत हमें मिल रही है। हालांकि जैन से आश्वस्त कराया कि करमदी से जुड़ी शिकायतों की जांच की जाएगी।
बार बार मिल रही शिकायत
बिजली बिल समय पर नहीं मिलने और बिना सूचना के कनेक्शन काटने जैसी शिकायतें बार बार मिल रही है। इसे लेकर ही कार्यपालन अभियंता से चर्चा कर समस्याओं का निराकरण करने के लिए कहा गया है। लाइनमैनों की ढेरों शिकायतें मिल रही है।
- ईश्वरलाल पाटीदार, अध्यक्ष राज्य कृषक आयोग
लाइनमैन सुनते ही नहीं है
गांव में लाइनमैन कुछ सुनते ही नहीं है। सरकार की योजना के बाद भी सीधे कनेक्शन काटने की धमकी दी जाती है। मैंने पहले भी बैठकों में इस मुद्दें को उठाया था। सोमवार को भी करमदी के ग्रामीणों ने सूचना दी थी।
- मथुरालाल डामर, विधायक रतलाम ग्रामीण
२४ अगस्त तक का वक्त
उपभोक्ताओं को बिल नहीं मिले या बिल इकट्ठा जमा नहीं कर सकते तो २४ अगस्त तक जमा कर सकते है। लाइनमैन से संबंधित शिकायत की जांच कराई जाएगी।
- मो. असलम शेख, सहायक यंत्री धराड़ विद्युत केन्द्र
निराकरण किया जाएगा
विद्युत केन्द्रों को लेकर मिल रही शिकायतों का निराकरण कराया जाएगा। समय पर बिल नहीं मिलने जैसी शिकायत प्राथमिकता से हल करने के लिए कहा गया है।
- संजय जैन, कार्यपालन अभियंता रतलाम

Patrika
bhuvanesh pandya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned