पद्मावत को लेकर करणी सेना की गांधीगिरी, साथ ही चेतावनी भी

सिनेमाघर संचालकों को फूल देकर बोले, नहीं दिखाओ फिल्म पद्मावत

By: harinath dwivedi

Published: 21 Jan 2018, 05:52 PM IST

रतलाम. फिल्म पद्मावत के विरोध की आग थमने की नाम नहीं ले रही है, शनिवार की शाम श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना पदाधिकारियों ने फिल्म का नए तरीके से विरोध किया। सेना के पदाधिकारियों ने सिनेमा घर के संचालकों को फूलों के गुलदस्ते भेंट कर कहा कि फिल्म प्रदर्शन करें। जिसका सिनेमा घरों के संचालकों ने भी समर्थन करते हुए कहा कि फिल्म प्रदर्शन अगर किसी की भी भावना को ठेस पहुंचती है तो वह फिल्म सिनेमा घरों में नहीं लगाएंगे।
करणी सेना के प्रदेश संयोजक यादवेंद्र सिंह तोमर, जिला प्रचार प्रभारी राहुलसिंह राकोदा, रतलाम तहसील अध्यक्ष शैलेंद्रसिंह लुनेरा के नेतृत्व में पदाधिकारी पहले शास्त्रीनगर स्थित राजपूत बोर्डिंग हाउस पर एकत्रित हुए। यहां से वाहन रैली के रूप में लोकेंद्र टाकिज, इसके बाद गायत्री मल्टीफ्लेक्स के संचालक से मिले। यहां से नारेबाजी करते हुए सभी श्रीकृष्ण टाकिज गए। इस दौरान बड़ी संख्या में सिनेमा घरों पर पुलिसबल तैनात रहा। सिनेमाघरों पर पहुंचने के पूर्व करणी सेना पदाधिकारियों ने पुलिस प्रशासन से भी फूल भेंट कर फिल्म प्रदर्शन नहीं होने देने में सहयोग के लिए आग्रह किया।
पदाधिकारियों ने सिनेमा घरों के संचालकों को पत्र सौंपकर कहा कि श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के द्वारा अवगत कराया गया है कि भंसाली द्वारा निर्मित फिल्म(पद्मावत से हिन्दू वर्ग के लोगों को गहरा आघात पहुंचा है। इसलिए निवेदन है कि इस फिल्म का प्रदर्शन अपने सिनेमा घर में ना करें। साथ ही चेतावनी दी कि इसके बाद भी अगर आप फिल्म प्रदर्शित करते हंै तो इससे होने वाली समस्त क्षति के जिम्मेदार आप स्वयं रहेंगे।
सरकार नहीं मानी तो हम जोहर के लिए भी तैयार: क्षत्राणियां
फिल्म पद्मावत को प्रदर्शित नहीं होने दिया जाएगा, इसके लिए पूरे राष्ट्र में धरना प्रदर्शन होगा। चित्तौडगढ़ में राजपूत समाज की दो हजार क्षत्राणियों ने जोहर के लिए फार्म भर दिए है, इसमें दस क्षत्राणियां रतलाम से है, अगर सरकार नहीं मानती है तो जोहर के लिए भी हम तैयार है। इसके जो भी परिणाम होंगे सरकार जिम्मेदार होगी। हमने कई बार सरकार को कई बार स्थिति से अवगत करा दिया है और इसके बावजूद भी अगर फिल्म पद्मावत रिलीज होती है तो हम उसे रोकने की कोशिश करेंगे। यह बात शनिवार को श्रीराष्ट्रीय राजपूत करणी सेना की प्रदेश उपाध्यक्ष तृप्तीसिंह ने कही। शाम धरना प्रदर्शन स्वरूप हाथों में तलवारे थामे महलवाड़़ा स्थित मां पद्मावती मंदिर पहुंची। सिंह ने बताया कि आक्रोश रैली २१ जनवरी को चित्तौडगढ़ में है, जिसमें भी रतलाम से क्षत्राणिया शामिल होंगी। इस अवसर पर नगर अध्यक्ष निशासिंह अमलेटा, जिला उपाध्यक्ष मंगलाकुंवर देवड़ा, सविता राठौर आदि उपस्थित रही।

patrika
Show More
harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned