सांसद-विधायक को दिखाए काले झंडे तो दोनों आपस में भिड़ गए

सांसद-विधायक को दिखाए काले झंडे तो दोनों आपस में भिड़ गए

Ashish Pathak | Publish: Sep, 06 2018 08:56:51 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh 457001, India

देखें भाजपा सांसद विधायक को दिखाए काले झण्डे

जावरा। आरक्षण और एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में बंद की अगुवाई कर रही करणी सेना ने कल यहां मंत्री, सांसद को काले झंडे दिखाए और मुर्दाबाद के नारे लगाए। इस दौरान जब सांसद से करणी सेना वाले उलझ रहे थे, तो मंत्री जी चुपचाप पीछे के रास्ते से निकल गए। बाद में पुलिस को सांसद के लिए विशेष फालोगार्ड लगाना पड़ा।

दरअसल आगामी 12 सितम्बर को जावरा में महा किसान सम्मेलन होने वाला हैं, और उसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह एवं मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान मुख्य रुप से आ रहे हैं। इसी कार्यक्रम की तैयारियों को देखने ऊर्जा मंत्री पारस जैन, सांसद सुधीर गुप्ता, मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया और स्थानीय विधायक डॉ राजेन्द्र पाण्डेय यहां कालेज ग्राउंड पर मौजूद थे। इस मौके पर भाजपा संगठन की और से प्रदेश महामंत्री बंशीलाल गुर्जर, उज्जैन संभाग संगठन मंत्री प्रदीप जोशी, जिलाध्यक्ष कान्हसिंह चौहान आदि मौजूद थे। जब यह सभी जनप्रतिनिधि, पदाधिकारी स्थानीय अधिकारियों एसडीएम एमएल आर्य, सीएसपी आशुतोष बागरी आदि से सभा स्थल को लेकर चर्चा कर रहे थे। इसी दौरान करणी सेना प्रदेशाध्यक्ष जीवनसिंह शेरपूर, जिलाध्यक्ष जितेन्द्रसिंह चन्द्रावत सहित बड़ी संख्या में करणी सेना कार्यकर्ता पहुंचे और काले झंडे लहराने लगे। जब तक पुलिस और नेता कुछ समय पाते उससे पहले करणी सेना के सदस्य अपना विरोध जता चुके थे। इसके बाद उन्हें रोकने पुलिस दौड़ी और अपना पक्ष शांतीपूर्ण ढंग से रखने को कहा तो उन्होने सांसद सुधीर गुप्ता से चर्चा की। फिर करणी सेना सदस्यों ने एक के बाद एक सवालों का हमला सांसद पर बोला और आरक्षण को लेकर भाजपा और सरकार पर नाराजगी जताई। करणी सेना के सदस्य खुद भाजपाई होने का हवाला देते हुए यह पूछते रहे कि आखिर पार्टी ने इस मामले में किया क्या हैं। इस बील का विरोध क्यों नहीं किया गया। सांसद सुधीर गुप्ता ने सिर्फ इतना ही कहा कि वे सभी सवालों का राउण्ड टेबल पर जवाब देने के लिए तैयार हैं। सरकार और संगठन इस मुद्दे पर उचित प्रक्रिया में जुटा हुआ हैं। इसके बाद भी करणी सेना संतुष्ट नहीं हुई तो सांसद पीछे हट गए और नाराज होते हुए करणी सेना सांसद सुधीर गुप्ता मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए निकल गई।

उर्जा मंत्री चुपचाप मौके से निकले

करणी सेना का आक्रोश और लहराते काले झंडे देख ऊर्जा मंत्री पारस जैन धीरे धीरे मौके से निकल गए और जाकर सर्किट हाऊस बैठ गए। दरअसल मंत्री को लग गया था कि सांसद के बाद संभवत: करणी सेना वाले उनसे जवाब मांगेंगे और इससे बचते हुए वे मौके से चले गए। बाद में सर्किंट हाऊस में ही कार्यक्रम को लेकर नेताओं में चर्चा हुई।

बाद में उलझ गए सांसद-विधायक

करणी सेना के आक्रोश और घेराव से सांसद सुधीर गुप्ता बुरी तरह आहत हो गए। इसी मुददे पर वे चर्चा कर रहे थे, तभी विधायक डॉ राजेन्द्र पाण्डेय करणी सेना के उपरोक्त सदस्यों के भाजपाई होने का हवाला दिया तो सांसद पूछने लगे यदि यह भाजपाई हैं तो इन्हें किसी ने बताया नहीं कि सरकार और संगठन ने इस मुद्दे पर किया क्या हैं। आखिर यह जवाबदेही स्थानीय नेताओं तथा संगठन की भी तो बनती थी। सीधे टकराव से बचते हुए दोनो नेता लगभग आक्रोशित हो गए। बाद में दूसरा विषय छिड़ा और नेता इधर उधर हुए।

अचानक काले झंडो से हडबड़ाया प्रशासन

वीडियोग्राफी की करणी सेना के सदस्यों द्वारा अचानक कॉलेज ग्राण्उड में पहुंचने और काले झंडे दिखाने तथा नारे लगाने से पुलिस एवं प्रशासन हड़बड़ा गया। पहले तो पुलिस ने दौड कर सेना सदस्यों को रोका और फिर विडियोग्राफी की। इसके बाद जब यहां सांसद से करणी सेना के सदस्यों की तकरार हुई और विरोध देखा तो सांसद के लिए विशेष पुलिस फॉलो का इंतजाम किया गया। इस घटना के बाद लगातार सेट पर भी पुलिस अलर्ट रही।

Ad Block is Banned