Lokasabha Elecation: मतगणना से पहले दो ईवीएम पर उठ गए सवाल

जावरा व आलोट विधानसभा के एक-एक मतदान केंद्र पर हुई गड़बड़ी

By: sachin trivedi

Published: 23 May 2019, 08:25 AM IST

रतलाम. लोकसभा चुनाव के मतदान की प्रक्रिया के दौरान मतदान कार्य में लगे मतदान कर्मियों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। इसमें दो विधानसभा क्षेत्र की एक-एक ईवीएम में मॉकपोल के बाद मतदानकर्मी ईवीएम से उसे डिलीट करना भूल गए। इसकी जानकारी जब निर्वाचन कार्य से जुड़े अधिकारियों को मिली तो वह भी सकते में आ गए है। हालांकि नियमों में बदलाव के चलते इसका सीधे तौर पर असर किसी भी पार्टी पर नहीं पडऩा बताया जा रहा है। निर्वाचन कार्य से जुड़े अधिकारियों की माने तो विधानसभा चुनाव में भी अधिकांश स्थानों पर मतदान दल के कर्मचारी मॉकपोल में डाले गए मतों को डिलीट करना भूल गए थे। उस समय हुई चूके के बाद निर्वाचन आयोग ने नियमों में थोड़ा संशोधन करते हुए प्रत्येक प्रत्याशी को मॉकपोल के दौरान बराबर संख्या में मत डालने का नियम लागू कर दिया है, जिससे कि यदि किसी ईवीएम में मॉकपोल क्लीयर होना छूट भी जाए तो उसका असर परिणाम पर न पड़ सके। एेसे में उक्त व्यवस्था के चलते निर्वाचन कार्य से जुड़े अधिकारी भी निश्चिंत बैठे है।

patrika

जावरा व आलोट में गड़बड़ी
मतदान की प्रक्रिया के पूर्व मॉकपोल क्लीयर करने की ये भूल उज्जैन लोकसभा क्षेत्र की आलोट विधानसभा और मंदसौर लोकसभा क्षेत्र की जावरा विधानसभा में हुआ है। मॉकपोल क्लीयर नहीं किए जाने के चलते इस लापरवाही का खामियाजा मतदान दल में शामिल अधिकारी व कर्मचारी के साथ सेक्टर मजिस्ट्रेट को भुगतना पड़ सकता है।

patrika

50 और अधिकतम 100 मत
मॉकपोल के दौरान कम से कम ईवीएम में 50 व अधिकतम 100 मत मशीन को जांचने के लिए डाले जाते है। यह मत डाले जाने के बाद मशीन से इन्हे क्लीयर करना पड़ता है, उसके बाद मतदान की प्रकिया शुरू होती है। वहीं, ईवीएम में मॉकपोल क्लीयर होना छूट भी जाए तो उसका असर परिणाम पर नहीं पड़ता है।

sachin trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned