मध्यप्रदेश सरकार के इस पुलिसकर्मी ने ज्वाइन कर ली कांग्रेस

मध्यप्रदेश सरकार के इस पुलिसकर्मी ने ज्वाइन कर ली कांग्रेस

Sachin Trivedi | Publish: Oct, 02 2018 03:05:39 PM (IST) | Updated: Oct, 02 2018 03:05:40 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

नौकरी से इस्तिफा देकर कहा, कांग्रेस मुझे टिकट दें, मैं बदलूंगा राजनीति

रतलाम. विधानसभा चुनाव के नजदीक आते ही सभी पार्टियों में चुनाव लडऩे के इच्छुक दावेदार भी सक्रिय हो गए हैं। वर्षों से राजनीति कर रहे नेताओं के साथ ही शासकीय सेवा में पदस्थ कर्मचारी भी राजनीति का दामन थामने में लगे है। रतलाम ग्रामीण विधानसभा सीट से पुलिस सेवा में रहे एक युवक ने कांग्रेस से अपनी दावेदारी जता दी है। वहीं, पार्टी के नियमित दावेदारों के बीच नए कार्यवाहक अध्यक्ष की समन्वय पार्टी भी सोमवार को हुई। जिले के ग्राम बेरछा निवासी धर्मेंद्र पिता रामेश्वर चौहान ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में कांग्रेस पार्टी से अपनी दावेदारी जताई। धर्मेंद्र ने बताया कि पुलिस विभाग में आरक्षक के पद पर कार्यरत रहे हैं। उज्जैन जिले के भाट पचलाना थाने में पदस्थ रहते हुए 5 माह पूर्व उन्होंने नौकरी छोड़ दी है। वे ग्रामीण विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडऩा चाहते हैं। यदि पार्टी टिकट नहीं भी देती है तो भी वे चुनाव में पार्टी का कार्य करेंगे। उनके पिता रामेश्वर चौहान शिक्षा विभाग में जिला शिक्षा अधिकारी के पद पर पदस्थ थे।

पार्टी के दावेदारों मेंं नहीं थम रहा घमासान
शहर कांग्रेस के नए कार्यवाहक अध्यक्ष शांतिलाल वर्मा ने सोमवार को समन्वय पार्टी दी। हालांकि इसे निजी कार्यक्रम बताया जा रहा है, लेकिन इस पार्टी में शहरी विधानसभा के कई दावेदार पहुंंचे तो कुछ दावेदारों को न बुलाने की चर्चा भी दिनभर चलती रही। विशेषकर पार्टी में एक गुट के विरोध का सामना कर रहे प्रमुख दावेदार नजर नहीं आए। नए चेहरों के पार्टी टिकट की दावेदारी के बीच रतलाम ग्रामीण के पूर्व अध्यक्ष प्रभु राठौर ने भी विधानसभा से अपना दावा कर दिया है। अब तक वे संगठन में होने के कारण सीधे तौर पर दावा नहीं कर पा रहे थे, लेकिन अब कई समीकरण फिर से बदल गए है। नामली के राजेश भरावा को कमान मिलते ही राठौर ने हाईकमान से टिकट की मांग रख दी है।

आपसी बैठक मेें फिर दावेदारी पर बवाल
कार्यवाहक अध्यक्ष वर्मा की समन्वय पार्टी के दौरान करीब ११ दावेदार पहुंचे थे। इनकी आपसी चर्चा के दौरान कांग्रेस से टिकट की दावेदारी कर रहे पारस सकलेचा का अन्य दावेदारों ने फिर विरोध किया। चर्चा के बाद यह भी तय किया गया कि सकलेचा को छोड़ अन्य किसी को टिकट मिलने पर दावेदार पार्टी की गाइड लाइन अनुसार कार्य करेंगे। हालांकि इस चर्चा की सूचना मिलते ही कांग्रेस के वरिष्ठों ने बीच में दखल दिया तो कई दावेदार विरोध से पिछे हट गए। वहीं, वर्मा ने भी इसे अनौपचारिक चर्चा करार दे दिया।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned