scriptMan kamaneshwar Mahadev is 150 feet below the ground surface in Ratlam | देखें वीडियो : रतलाम में जमीन की सतह से 150 फीट नीचे है मन कामनेश्वर महादेव | Patrika News

देखें वीडियो : रतलाम में जमीन की सतह से 150 फीट नीचे है मन कामनेश्वर महादेव

आस्था: मान्यता पांडवों ने अज्ञातवास के दौरान स्थापना कर था तप

रतलाम

Updated: July 18, 2022 12:16:09 pm

रतलाम. वैसे तो रतलाम जिले में बाबा महादेव के अनेक मंदिर है, लेकिन जमीन की सतह से करीब 150 फीट नीचे देवझर में स्थित गुफा में बने मनकामनेश्वर महादेव के मंदिर तक पहुंचना सबसे अधिक मुश्किल है। मान्यता है कि करीब 6 हजार वर्ष पूर्व पांडवों ने अपने अज्ञातवास के दौरान मनकामनेश्वर महादेव की स्थापना कर तप किया था। इस दौरान शिलालेख भी बनाई गई थी, जो आज भी मौजूद है। यह स्थल इतना रमणीक है कि इसका नाम देवझर हो गया। देवझर याने की वो स्थान जहां स्वयं देवता आते हो।
Man kamaneshwar Mahadev is 150 feet below the ground surface in Ratlam
Man kamaneshwar Mahadev is 150 feet below the ground surface in Ratlam
रतलाम जिले से करीब 50 किलोमीटर दूर मध्यप्रदेश और राजस्थान की बॉर्डर पर जमीन से करीब 150 फीट और नीचे स्थित देवझर एक अत्यंत ही खूबसूरत जगह है। रतलाम से सैलाना और फिर कोटड़ा होते हुए पहाड़ों के बीच पथरीले रास्तों से होकर देवझर तक पहुंचा जा सकता है। देवझर याने की वो स्थान जहां झरने पर देवता आया करते थे। बताया ये भी जाता है कि यहां प्राचीन काल में तपस्वी से लेकर देवता तपस्या करने के लिए भी आते थे। जिसके प्रमाण आज भी यहां हैं। चट्टानों के बीच गुफा में प्राचीन मनकामनेश्वर महादेव है। इस गुफा में जाने का रास्ता तो है लेकिन गुफा कहां खुलती है इसके बारे में किसी को भी नहीं पता।
नाखूनों से कुरेद कर बनाया है चित्रों को


गुफा से ही कुछ दूरी पर चट्टानों पर नाखूनों से कुरेद कुरेद कर देवी देवताओं और भगवान महादेव, काल भैरव, विष्णु व मां लक्ष्मी के चित्रों को बनाया गया है। चित्रों की सुंदरता ऐसी है जो देखते ही बनती है। भगवान विष्णु आराम की मुद्रा में शेषनाग पर लेटे हुए हैं और पास ही मां लक्ष्मी विराजमान हैं। पास ही भगवान गणेश और तप करते भगवान भैरव के साथ ही अन्य देवी देवताओं को भी इन चित्रों में देखा जा सकता है। धरती से करीब 150 फीट नीचे पत्थर की चट्टान पर बने देवी देवताओं के ये चित्र किसने बनाए और ये कितने पुराने हैं इसका उल्लेख न तो इतिहास के पन्नों में दर्ज है और न ही किसी ग्रामीण को इसके बारे में जानकारी है। इस स्थान के पास ही पत्थरों का वो टीला भी है जिसे तपस्वी टीला कहा जाता है। बताया जाता है कि इन टीलो पर बैठकर ही तपस्वी से लेकर पांडव तप किया करते थे। मान्यता ये भी है कि देवझर में गुफा में जो मनकामनेश्वर महादेव है उसकी स्थापना पांडवों ने अपने अज्ञातवास के दौरान यहां पर की थी।
पत्थर वाला है रास्ता


यह स्थान जितना सुंदर है, गुफा में विराजे महादेव के मनकामनेश्वर महादेव तक पहुंचना उतना ही मुश्किल है। कोटड़ा गांव के अंतिम छोर से पगडंडी से कच्चा रास्ता शुरू होता है जो महादेव की गुफा तक ले जाता है। गुफा तक पहुंचना भी आसान नहीं है। कच्चे रास्ता पत्थर वाला है। बारिश के समय यहां की हरियाली देखते ही बनती है। न सिर्फ रतलाम, बल्कि सावन माह में इंदौर, उज्जैन, धार, देवास, मंदसौर, नीमच, बांसवाड़ा, झाबुआ आदि जिलों के मनकामनेश्वर महादेव के भक्त भी बड़ी संख्या में यहां आते हैं।
पूर्व एसपी रह चुके तीन दिन


रतलाम के पूर्व एसपी और वर्तमान में भोपाल में एटीएस में पदस्थ गौरव तिवारी तो इस स्थान पर तीन दिन तक रह चुके है। तत्कालीन समय में उन्होंने यहां पर ग्रामीणों के साथ ही रहकर जीवन यापन तीन दिन तक किया था।
नियमित रूप से आते हैं


हमारा परिवार देवझर में नियमित रुप से आता है। हालांकि यहां तक पहुंचने का मार्ग काफी मुश्किल वाला है। शासन से मांग की है कि इसको पर्यटन की ²ष्टि से विकसित किया जाए तो राजस्व में भी वृद्धि होगी। यहां मान्यता और प्रमाण मिलते है कि पांडवों ने अपने अज्ञातवास के दौरान तप किया था।

- रत्नेश विजयवर्गीय, जिला संयोजक, मप्र जनअभियान परिषद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार सीएम की शपथ लेने के साथ अपने ही रिकॉर्ड तोड़ने से चूके Nitish Kumar, 24 अगस्त को साबित करेंगे बहुमतपीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कितना भी 'काला जादू' फैला लें कुछ होने वाला नहींMumbai: सिंगर सुनिधि चौहान के खिलाफ शिवसेना ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत, पाकिस्तान स्पॉन्सर कार्यक्रम का लगाया आरोपदेश के 49वें CJI होंगे यूयू ललित, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहरकश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का बदला हुआ पूरा, सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिरायासुनील बंसल बने बंगाल बीजेपी के नए चीफ, कैलाश विजयवर्गीय की हुई छुट्टीसुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने के निर्देशBihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.