scriptMother Teresa of Madhya Pradesh, till now lakhs of women have been tre | ये हैं मध्यप्रदेश की मदर टेरेसा, अब तक लाखों महिलाओं का किया निशुल्क उपचार | Patrika News

ये हैं मध्यप्रदेश की मदर टेरेसा, अब तक लाखों महिलाओं का किया निशुल्क उपचार

मदर टेरेसा ने की थी आदिवासी महिलाओं के लिए कार्य की अपील
सेवानिवृत्ति के बाद से अब 84 वर्ष में भी जुटी हैं डॉ. जोशी
डॉ. लीला जोशी को मिल चुका है पद्यश्री अवार्ड

रतलाम

Published: July 23, 2022 09:21:49 pm

आशीष पाठक

रतलाम. पहले उच्च शिक्षा के लिए जद्दोजहद की। सांइस सब्जेक्ट के लिए घर से दूर रहकर पढ़ाई कर चिकित्सक बनने का सपना पूरा किया। राजकीय सेवा पूरी हो गई,यहीं से शुरू किया फिर जिन्दगी का नया सफर। मातृ मृत्यु दर, विशेषकर आदिवासी समुदाय में इसकी भयावता को कम करने के लिए 84 साल की उम्र में भी जुटी हुई है पद्यश्री अवार्डी डॉ. लीला जोशी। पिछले 25 वर्षों से मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ में महिलाओं का मुफ्त इलाज कर रही हैं। डॉ. जोशी अब तक करीब साढ़े तीन लाख किशोरियों और करीब पांच लाख महिलाओं को चिकित्सा शिविरों के माध्यम से लाभान्वित कर चुकी हैं। जब आदिवासी इलाकों में स्वास्थ्य सेवाएं नहीं थी। डॉ. जोशी कई किलोमीटर पैदल चलकर उन्हें स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाने पहुंचती थी, यह क्रम जारी है।
Mother Teresa of Madhya Pradesh, till now lakhs of women have been treated for free
Mother Teresa of Madhya Pradesh, till now lakhs of women have been treated for free
मदर टेरेसा से मुलाकात,बन गई मध्यप्रदेश की 'मदर'


डॉ लीला जोशी स्त्री ने रतलाम से पहले असम में भी कई सालों तक सेवाएं दी हैं। असम में पोस्टिंग के दौरान डॉ जोशी की मुलाकात मदर टेरेसा से हुई थी। मदर टेरेसा ने उनसे आदिवासियों के लिए कुछ करने की अपील की। असर यह हुआ कि वर्ष 1996 में सेवानिवृत्ति के बाद जोशी ने स्वयं को इसके लिए समर्पित कर दिया और आदिवासी महिलाओँ को मुफ्त इलाज देने लग गई। एनीमिक व अन्य रोगों में महिलाओं की जांच, उनका उपचार और बाद में निरंतर दवाइयों की व्यवस्था डॉ. जोशी करती है।
यों रहा डॉ. जोशी का सफर


डॉ जोशी ने वर्ष 1962 में कोटा के रेलवे अस्पताल में बतौर असिस्टेंट सर्जन के पद से मेडिकल कॅरियर की शुरुआत की थी। फिर मेडिकल सुप्रिटेंडेंट बनी। 1991 में डॉ जोशी ने रेल मंत्रालय दिल्ली में बतौर एक्ज़ीक्यूटिव हेल्थ डायरेक्टर सेवाएं दी और फिर मुंबई में मेडिकल डायरेक्टर पदस्थ हुईँ। डॉ जोशी असम के चीफ मेडिकल डायरेक्टर पद से रिटायर हुई थीं।
पद्यश्री से लेकर कई पुरस्कार मिले


डॉ. जोशी को वर्ष 2020 में पद्मश्री देने की घोषणा की। भारत की 100 सफल महिलाओं की सूची में वर्ष 2016 में नाम रहा। इसके लिए उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने सम्मानित किया।
मदर टेरेसा ने हाथ पर हाथ धरा, आज भी उसी से वाइब्रेट


बकौल डा. लीला जोशी पहली बार जब मदर टेरेसा ने मेरे हाथ पर हाथ रखा और कहा कि आदिवासी इलाकों में महिलाओं के लिए कार्य करूं। वह कंपन आज भी मुझे ऊर्जा दे रहा है। कई महिलाएं एनीमिया से दम तोड़ देती है। इससे मातृ मत्यु दर का आंकड़ा बढ़ रहा है, इस पर कार्य लगातार जारी है। वर्ष 2000 में श्रीसेवा संस्थान का गठन किया, जिसमें सभी पदाधिकारी सेवानिवृत हैं। यह सेल्फ फंडिंग है, इसके माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं में कार्य कर रहे हैं।
Mother Teresa of Madhya Pradesh, till now lakhs of women have been treated for free
IMAGE CREDIT: patrika

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon : राजस्थान में 3 अगस्त से बारिश का नया सिस्टम, पूरे प्रदेश में होगी झमाझमNSA डोभाल की मौजूदगी में बोले मुस्लिम धर्मगुरु- 'सर तन से जुदा' हमारा नारा नहीं, PFI पर प्रतिबंध की बनी सहमतिकीमत 4.63 लाख रुपये से शुरू और देती हैं 26Km का माइलेज! बड़ी फैमिली के परफेक्ट हैं ये सस्ती 7-सीटर MPV कारेंराजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी, स्कूलों की तीन दिन की छुट्टी, आज इन जिलों में झमाझम की चेतावनीWeather Update: राजस्थान में झमाझम बारिश को लेकर अब आई ये खबरराजस्थान में आज यहां होगी बारिश, एक सप्ताह तक के लिए बदलेगा मौसमएमपी में 220 करोड़ से बनेगा 62 किमी लंबा बायपास, कम हो जाएगी कई शहरों की दूरी, जारी हो गए टेंडरसरकारी नौकरी लगवा देंगे कहकर 10 युवाओं को लगाई 75 लाख रुपए की चपत, 2 गिरफ्तार

बड़ी खबरें

Vice President Election 2022 Live Updates: जगदीप धनखड़ बने देश के 16वें उपराष्ट्रपति, मार्गरेट अल्वा को 346 वोटों से हरायाराजस्थान के इस गांव में बीता जगदीप धनखड़ का बचपन, परिवार के रुतबे की गवाह है पुश्तेनी हवेलीबिहारः JDU को डूबता हुआ जहाज बता RCP सिंह ने दिया इस्तीफा, मंत्री रहते अकूत संपत्ति अर्जित करने का लगा है आरोपवो आवाज केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की नहीं...CWC 2022: खाने को नहीं थी रोटी, आर्मी में रहकर की देश की सेवा; अविनाश साबले ने स्टीपलचेज में जीता रजत पदकCWG 2022 Day 9 Live Updates: पीवी सिंधु महिला सिंगल्स के फाइनल में, बॉक्सिंग में निखत जरीन ने फाइनल में बनाई जगहफिर से PM मोदी की मीटिंग में शामिल नहीं होंगे CM नीतीश कुमार, इस बार नीति आयोग की बैठक से बनाई दूरीMaharashtra Politics: बीजेपी विधायक नितेश राणे का बड़ा बयान, बोले- महाराष्ट्र संविधान से चलेगा, शरिया कानूनों से नहीं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.