सुबह डीईओ ने निदानात्मक कक्षाओं की बात कही, शाम को कलेक्टर ने की पालकों से चर्चा

जिलेभर के सरकारी स्कूलों के प्राचार्यों की हुई बैठक

रतलाम. हाईस्कूल और हायर सेकंडरी की तिमाही परीक्षाएं निपट चुकी है। इसी दरमियान शहर में एक स्कूल की छात्रा के साथ हुए गैंग रैप और शुक्रवार को आलोट में आटो चालक द्वारा नाबालिग से छेड़छाड़ को लेकर जिला और पुलिस प्रशासन भी सतर्क हो गया है। सुबह उत्कृष्ट स्कूल परिसर में जिलेभर के सरकारी स्कूलों के प्राचार्यों की बैठक लेकर जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) ने कमजोर परिणाम वाले विद्यार्थियों की निदानात्मक कक्षाएं हर दिन लेने की बात कही वहीं दोपहर बाद कलेक्टोरेट मे हुई बैठक में कलेक्टर रुचिका चौहान और एसपी गौरव तिवारी ने स्कूलों में पालक-शिक्षक संघों की बैठक लेने और इनमें खुद भी उपस्थिति होने की बात कही। निजी स्कूलों में होने वाली बैठकों का शेड्युल भी तय कर दिया गया है।

उत्कृष्ट स्कूल की बैठक में निदानात्मक कक्षाएं - उत्कृष्ट स्कूल परिसर में हुई जिलेभर के सरकारी स्कूलों के प्राचार्यों की बैठक में मुख्य रूप से तिमाही परीक्षा के बाद निदानात्मक कक्षाओं पर जोर दिया गया। जिला शिक्षा अधिकारी केसी शर्मा ने कहा कि निदानात्मक कक्षाएं 5 अक्टूबर से चलाई जाना थी किंतु 12 अक्टूबर को बैठक लेकर निर्देश दिए जा रहे हैं कि ये कक्षाएं 5 अक्टूबर से 31 जनवरी तक चलाई जाना हैं। जिन स्कूलों के बच्चे 30 फीसदी से कम अंक वाले हैं उनकी ये कक्षाएं अनिवार्य रूप से हर दिन दो पीरियड लेना होंगे। नौवीं और दसवी में तो ये अनिवार्य है। इसके साथ ही शासन के उस निर्देश का भी हवाला दिया गया जिसमें 19 अक्टूबर को पहली से 12वीं तक के सभी सरकारी स्कूलों में पालकों के साथ बैठक करना अनिवार्य कर दिया गया है। हर दिन लिए जाने वाली निदानात्मक कक्षाओं में जो शेड्युल तय किया गया है उसके अनुसार बच्चों को पढ़ाना, अभ्यास कराना, रिव्यू करना और टेस्ट लेकर फिर से कमजोर को और उन्नत करना होगा।

बैठक में सतर्कता बरतने के निर्देश
दोपहर बाद कलेक्टोरेट में कलेक्टर रुचिका चौहान और पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी की मौजूदगी में शहर के सरकारी हायर सेकंडरी के साथ ही निजी हाईस्कूल और हायर सेकंडरी स्कूलों के प्राचार्यों की बैठक बुलाई गई। इसमें बताया गया कि जिला प्रशासन द्वारा विद्यार्थियों के नैतिक, सामाजिक, शारीरिक विकास के लिए महत्वपूर्ण रूप से प्रोजेक्ट पहल शुरू किया जा रहा है। पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने कहा कि स्कूलों द्वारा चलाई जा रही बसों की नियमित रूप से जांच होगी। बैठक में स्कूल संचालकों को निर्देशित किया गया कि बच्चों को स्कूलों के भीतर पेश आने वाली समस्याओं का सकारात्मक निराकरण किया जाए। स्कूलों की पार्किंग व्यवस्था को सुदृढ़ किया जाए।

Mukesh Mahavar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned