50 पैसे किलो बिका प्याज, 500 से अधिक ट्रॉलियों की हुई नीलामी

कम दाम में बेचे किसानों ने प्याज,१ रुपए तक भाव लुढ़के

By: harinath dwivedi

Published: 21 May 2018, 05:50 PM IST

रतलाम। भावांतर भुगतान योजनान्तर्गत प्याज खरीदी के छठे दिन मात्र ५० पैसे रुपए प्रति किलो पर आ गए, जबकि ऊपर में अच्छा माल ५६६ रुपए किलो तक ही बिका। योजना की शुरुआत होते ही कृषि उपज मंडी में जहां प्याज की बंपर आवक के साथ भाव में गिरावट की सिलसिला शुरू हुआ जो अब तक जारी है। जबकि १५ मई को प्याज २५० से ६९७ रुपए क्विंटल तक बिका था। अच्छे प्याज के भाव ४ रुपए किलो तक मिले। निचे में एक रुपए और उंचे में दो रुपए किलो तक भाव गिर गए। परेशान अन्नदाता ओने-पोने दाम में अपनी कड़ी मेहनत से पकाई उपज बेचने को मजबूर है।
किसानों की माने तो तीन-तीन दिन मंडी में पड़े हैं, लेकिन नीलाम नहीं हो रहे था। हर दिन ट्रेक्टर के साथ भाड़ा और एक आदमी का खर्चा महंगा पडऩे लगा। लागत भी नहीं निकलने और उचित दाम ना मिलने से किसान नाराज नजर आए। वहीं कुछ किसानों का मानना है कि भावांतर भुतगान योजना का लाभ मिल जाएंगा तो पूर्ति हो जाएगी, लेकिन तीन-तीन दिन रूकने की परेशानी से तो बच जाएंगे।

अच्छा प्याज चार रुपए किलो बिका
कृषक कालूसिंग ने बताया कि अनासगंज से आए है और अच्छी क्वालिटी का प्याज चार रुपए किलो बिका है, लागत भी नहीं निकलेगी। किसान परेशान होकर बेचने पर मजदूर है। व्यापारी भाव नहीं लगा रहे। तीन-तीन दिन मंडी के अंदर हो गया और फिर भी भाव अच्छे नहीं मिल रहे तो किसान क्या करेगा, घाटा उठाकर जाएगा।
आधा भाव लगाए प्याज के, घाटा हुआ
तीन-चार रुपए किलो भाव के प्याज को आज डेढ़ रुपए किलो ही लगाए, सभी के प्याज ऐसे ही खरीदी गए। क्या करे तीन-तीन दिन में आज नंबर आया तो भाड़ा महंगा पड़ रहा है किसानों को। कब तक रूके इसलिए जो भी मिला उसी दाम में दे दिया। कम भाव से निराशा लगी।
रामचंद्र राठौड़, कृषक मथुरी
लहसुन का व्यापार चालू रहेगा
रविवार को पांच घंटे चली नीलामी में जिसमें ३५३०० कट्टे खरीदे गए। व्यापारी उपस्थित रहे, सोमवार को प्याज मंडी बंद रहेगी, क्योंकि जो व्यापारियों द्वारा माल खरीदा गया वह लोडिंग होगा। लहसुन का व्यापार चालू रहेगा। शाम साढ़े पांच बजे तक नई २० ट्राली प्याज की मंडी में आ चुकी थी। करीब 1 रुपए भाव में गिरावट रही। ५० रुपए से लगाकर ५६६ रुपए क्विंटल तक प्याज बिका।
राजेंद्रकुमार व्यास, प्रभारी सैलाना बस स्टैंड सब्जी मंडी, रतलाम

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned