मेडिकल कॉलेज में तीन सप्ताह में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्लांट

चेतन्य काश्यप फाउंडेशन द्वारा 1.2 करोड़ रुपए के ऑक्सीजन प्लांट से स्थानीय स्तर पर आपूर्ति की जा सकेगी।

By: Hitendra Sharma

Updated: 20 Apr 2021, 10:17 AM IST

रतलाम. कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप एवं ऑक्सीजन की समस्या को दुर करने के लिए चेतन्य काश्यप फाउण्डेशन मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्लांट स्थापित करेगा। 1.2 करोड़ रूपए की लागत वाले इस प्लांट की क्षमता 57 मीटर क्युब होगी। संभागायुक्त संदीप यादव ने फाउण्डेशन को प्लांट स्थापना की अनुमति तत्काल दे दी। कलेक्टर गोपालचंद डाड ने संभागायुक्त की अनुमति वाला पत्र फाउण्डेशन अध्यक्ष एवं विधायक चेतन्य काश्यप को सौंपा। इस दौरान एसपी गौरव तिवारी एवं मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. जितेन्द्र गुप्ता उपस्थित रहे।

Must see: MP में कोरोना के ताजा आंकड़े

पीएसए टेक्नोलॉजी के ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट

फाउण्डेशन अध्यक्ष एवं विधायक चेतन्य काश्यप ने बताया कि रतलाम मेडिकल कालेज में वर्तमान में टेंकर द्वारा लिक्वीड ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। जिसकी अनिश्चितता से हमेशा तनाव बना रहता है। देश में कई प्रमुख मेडिकल कॉलेजों में पीएसए टेक्नोलॉजी के ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाए गए है। यह प्लांट सीधी हवा से ऑक्सीजन स्थानीय स्तर पर ही उत्पादित करता है। जिसके कारण सप्लाय की अनिश्चितता खत्म होती है। रतलाम मेडिकल कॉलेज में ऐसा कोई प्रावधान नहीं था, इसलिए उन्होंने संभागायुक्त को चेतन्य काश्यप फाउण्डेशन से रतलाम मेडिकल कॉलेज में 57 मीटर क्युब का ट्राइडेंट कंपनी का पीएसए ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित करने का प्रस्ताव दिया था।

Must see: तीन दिन में व्यवस्था सुधारने पर माने विधायक

3 सप्ताह में डिलीवरी

विधायक चेतन्य काश्यप ने बताया कि पीएसए तकनीक पर आधारित ट्राइडेंट कंपनी के इस ऑटोमेटिक प्लांट की डिलीवरी 2 से 3 सप्ताह में प्राप्त हो जाएगी। प्लांट की लागत 88.50 लाख एवं जनरेटर व अन्य प्लेटफार्म व शेड सहित कुल लागत 1.2 करोड़ रूपए रहेगी। मेडिकल कॉलेज में इस प्लांट के लगने के बाद मरीजों को ऑक्सीजन की कमी की समस्या से निजात मिल सकेगी।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned