अजूबा: ये आदमी दो घंटे में खा जाता है पांच हजार आलूबडे़! देखे वीडियो


नमकीन के शहर में बडे़ चटोरे है रतलामी, लगती है खाने को भारी भीड़

By: harinath dwivedi

Published: 10 Feb 2018, 01:12 PM IST

रतलाम। किसी एक दुकान पर 4 से 5 घंटे में कितने आलूबडे़ बिकते होंगे। आप का जवाब होगा हद से हद 1 या 2 हजार। लेकिन आप गलत है। शहर के स्टेशन रोड पर एक दुकान पर 4 घंटो में 5 हजार से अधिक आलूबडे़ रतलामी चट कर जाते है। यह हम नही कह रहे बल्कि पूरे शहर जानता है।

स्टेशन रोड की बजरंग नाम की दुकान पर 10 रुपये के 4 आलूबड़ों का सुबह से इंतजार होता है। लोंग, काली मिर्च, गर्म मसाला आदि से तैयार इस आलूबडा़ें के लिए कतार लगती है। यहां तक की कई बार रोड जाम होने की नोबत आ जाती है। दोपहर एक बजे से मिलने वाले इन आलूबड़ों के लिए 12 बजे से चक्कर कटना शुरू हो जाते है। यहां तक की शाम को करीब 6 बजे जब ये मिलना बंद होते है तो भी रात 8 बजे तक यहां स्वाद के शौकिनों का आना-जाना लगा रहता है।

एेसे हुई यहां शुरुआत

असल में यहां पर सिर्फ चाय मिलती थी। सुबह पोहे बनाने की शुरुआत हुई तो दोपहर तक वे समाप्त हो जाते थे। इसके बाद जब दिन में चाय के लिए लोग आए तो उनकी ही ये मांग रही की चाय के साथ खाने में कुछ गर्म हो तो ओर आपंद आ जाए। इसके बाद दुकान के कारीगरों ने ही ये योजना बनाई की आलूबडे़ बनाए जाए। इनकी कीमत इतनी हो की आमजन आसानी से इनको ले सके।

 

पहले ही दिन दो घंटे में खत्म

कारीगर बताते है कि पहले दिन उन्होने जब आलूबडे़ बनाए तो १० रुपए में चार की आवाज के साथ इनको बिक्री किया। इसके बाद शुरुआती दो घंटे में ही इनकी बिक्री हो गई। पहले दिन करीब ५०० आलूबडे़ बनाए थे। धीरे-धीरे इनकी संख्या को बढ़ाया। अब स्थिति ये है कि पांच हजार आलूबडे़ भी कम पड़ते है। यहां तक की देर शाम तक इनकी मंाग होती है।

काफी लोग करते एडंवास बुकिंग

इन आलूबड़ों का स्वाद एेसा की अब एक दिन पहले से इनकी बुकिंग पार्टी के लिए होने लगी है। शहर में होने वाली किटी पार्टी के लिए भी इनको बुक किया जा रहा है। इन सब के बाद जबकि गरम मसालों से लेकर हिंग, लोंग व काली मिर्च में तेजी है, कर्मचारी कहते है कि स्वाद से लेकर भाव में बदलाव नहीं किया।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned