प्रदेश के शासकीय पुजारियों ने भरी हुंकार, हमें दें प्रधानमंत्री सम्मान निधि

अखिल भारतीय पुजारी महासंघ के जिला सम्मेलन में मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर की रखी 12 मांगें

रतलाम। शासन अधीन मंदिरों के पुजारियों ने भी प्रधानमंत्री सम्मान निधि उन्हे किसानों के समान मिले इसके लिए हुंकार भर दी है। इस संबंध में जिला स्तरीय सम्मेलन आयोजित कर अपनी 12 सूत्रिय मांगों के संबंध में कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया है। पुजारियों का कहना है कि अतिवर्षा से जिले में पुजारियों की फसल नष्ट हो गई, मुआवजा शीघ्र दिया जाए। पुजारियों की मानदेय राशि तीन गुना कर दी गई है, लेकिन जिले की तहसीलों में एकरूपता अनुसार नहीं किया जा रहा है, इसे एक समान प्रतिमाह भुगतान किया जाए। किसानों के समान प्रधानमंत्री सम्मान निधि 6 हजार पुजारियों को भी मिले।

प्राचीन मंदिरों का शासन स्तर पर कराए जीर्णोद्धार
जिले की तहसीलों के ग्रामीण क्षेत्रों में स्टेट समय के प्राचीन मंदिर जो 100-500 वर्ष से स्थापित है, उनका शासन स्तर पर सर्वे करवाकर जीर्णोद्धार किया जाए। पुजारियों की मृत्यु पर परम्परानुसार पुजारियों की नियुक्ति की जाए। आदि मांगों के संबंध में सोमवार को विचारमंथन को लेकर अखिल भारतीय पुजारी महासंघ का जिला सम्मेलन 80 फीट रोड स्थित नारायणी पेलेस में आयोजित किया गया। सम्मेलन को राष्ट्रीय अध्यक्ष पं.महेश पुजारी, जिला प्रभारी जितेंद्र व्यास, जिलाध्यक्ष पं. महेश शर्मा, जिला महामंत्री महेश शर्मा ने संबोधित किया। संघ पदाधिकारियों ने जिला कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपते हुए 12 सूत्रिय मांग रखते हुए निराकरण का आग्रह किया।

पुजारियों को भी सम्मिलित कर पट्टे दिए जाए
पदाधिकारियों ने बताया कि मठ-मंदिरों की कृषि भूमि के पट्टे के लिए सरकार कार्य योजना बनाने जा रही है, उसमें पुजारियों को भी सम्मिलित कर पट्टे दिए जाए। किसान की तरह पुजारियों को बीमा, क्रेडिट कार्ड, खाद बीज एवं कूप निर्माण की सुविधा एवं शासकीय योजना का लाभ दिया जाए। शासन अगर उक्त सुविधा या योजनाओं का लाभ देने में असमर्थ है तो मंदिरों एवं कृषि भूमियों को सरकारीकरण से मुक्त किया जाए। इस मौके पर कृष्णदास बैरागी, जानकीदास बैरागी, प्रहलाददास बैरागी, मनोहरदास बैरागी, भरतदास बैरागी, कैलाश शर्मा, मांगूदास बैरागी, धीरज शर्मा, जगदीश शर्मा, राधेश्याम शर्मा, रतनलाल चौधरी, बालूदास बैरागी, राधेश्याम बैरागी,रामचंद्र शर्मा, पं. दिनेश उपाध्याय, दुष्यंत व्यास, आदर्श शर्मा, पवन शर्मा आदि उपस्थित थे।

महादेव मंदिरों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाए
पुजारियों ने मांग की है कि जावरा तहसील के गांव मिण्डाखेड़ा त्रिवेणी नदी के संगम पर प्राचीन श्री मनकामनेश्वर महादेव मंदिर के घाटों का सौंदर्यकरण किया जाए, इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर पवित्र स्थल घोषित किया जाए। आलोट तहसील का प्राचीन श्री अनादिकल्पेश्वर महादेव मंदिर (धरोला) को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर मंदिर क्षेत्र को पवित्र स्थल घोषित किया जाए। शासन के आदेशानुसार हर तीन माह में जिले की तहसीलों में तहसील कार्यालय में बैठक आयोजित कर मंदिरों एवं पुजारियों की समस्या सुनकर निराकरण किया जाए।

Show More
Gourishankar Jodha
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned