रेलवे ने गार्ड-लोको पायलट से छीनी ये सुविधा, विरोध शुरु

गार्ड-लोको पायलट को उठाना पड़ेगा कई किलो वजन

By: Hitendra Sharma

Updated: 24 Aug 2020, 03:31 PM IST

रतलाम. रेलवे के गार्ड व इंजन चालक को मिलने वाले लाइन बॉक्स को लेकर विवाद गहराने लगा है। रेल प्रशाशन ने 7 अगस्त को लाइन बॉक्स बन्द काटने का निर्णय लिया, जिसका रनिंग कर्मच्चरियो ने विरोध शुरू कर दिया। अब तक दो बार कर्मचारी संगठन व रेल प्रशाशन की बात हो चुकी है लेकिन मामले का समाधान नहीं हुआ है। अब 25 अगस्त को फिर से बैठक होगी।

भारतीय रेल में लाइन बॉक्स रेलवे की पहचान रहा है अब रेलवे इस बॉक्स को बंद कर रही है। देश में एक जोन में इसे बंद भी किया जा चुका है। दरअसल लाइन बॉक्स रेलवे के गार्ड और चालक को मिलने वाला स्टील का काला बक्सा है जो प्लेट फोर्म पर ट्रेन आते समय चढ़ाया या उतारा जाता है। यह रेलवे की सोलों पुनानी व्यवस्था है जो अब बंद हो रही है। इस बॉक्स में ट्रैन परिचालन के नियम की किताब, टेल बोर्ड, एचएस लैंप, टेल लैंप, फस्टेड बॉक्स, डिटोनेटर या पटाके और जनरल बुक होती है। डिटोनेटर या पटाके कोहरे में दौरान उपयोग किये जाते हैं।

इस मामले पर रेलवे कर्मचारी खुलकर विरोध करने लगे हैं। कर्मचारी यूनियन का तर्क है कि लाइन बक्स के सामान की वजन लगभग 15 किलों होता है ऐसे में कर्मचारियों को अपने खाने पीने का सामान भी साथ ले जाना होती है जिससे उसके पास पहले से ही कई किलो वजन रहता है और जिन गार्ड और चालक की उम्र ज्यादा है वह अपने सामान के साथ लाइन बॉक्स के उपकरण कैसे ले जा सकेंगे। भारतीय रेल में अब गाड़ियों की लंबाई भी बढ़ती जा रही है तब गार्ड या चालक लॉबी तक कैसे अपने सामान को ले जा पायेंगे।

लाइन बॉक्स बंद होने के बाद अब गार्ड और चालक को सभी उपकरण और बुक्स अपने साथ ले जानी होगी। अभी तक इसके लिये रेलवे में बॉक्स बॉय की भर्ती होती थी। जो ट्रेन के आने के बाद लाइन बॉक्स को चढ़ाता या उतारकर लाता था। लेकिन रेलवे ने इस पद पर भी भर्ती बंद कर निजी ठेकेदार के हवाले कर दिया था।

Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned