INDIAN RAILWAY की राजधानी एक्सप्रेस हो गई बंद, करना होगा लंबा इंतजार

INDIAN RAILWAY की राजधानी एक्सप्रेस हो गई बंद, करना होगा लंबा इंतजार

Manish Gite | Publish: Oct, 12 2017 03:51:30 PM (IST) | Updated: Oct, 12 2017 05:03:19 PM (IST) Ratlam Jn, Station Road, Bapu Nagar, Ratlam, Madhya Pradesh, India

इंडियन रेलवे (indian railway) ने हाल ही में तीसरी राजधानी को चलाने के लिए गति परीक्षण किया, जो रतलाम-गोधरा के बीच फेल हो गया है। बताया जा ...।

 

रतलाम/भोपाल। इंडियन रेलवे (indian railway) ने हाल ही में तीसरी राजधानी को चलाने के लिए गति परीक्षण किया, जो रतलाम-गोधरा के बीच फेल हो गया है। बताया जा रहा है कि अधिक कर्व होने की वजह से जहां इस ट्रेन को दिल्ली से 12 घंटे में मुंबई पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया था, वह काम न हो सका। ट्रेन को पहुंचने में करीब 14 घंटे से अधिक का समय लगा। ऐसे में फिलहाल रेलवे ने तीसरी राजधानी के बारे में विचार त्याग दिया है।

 

रेलवे ने टेल्गो ट्रेन (talgo train) के परीक्षण के बाद एलएचबी कोच का सहारा लेकर अब तक गति का तीन बार परीक्षण किया है। इसमे दो बार रेलवे ने बांद्रा से नागदा तक ट्रेन को १२० की गति से चलाया। इसके बाद हाल ही में मुंबई राजधानी एक्सप्रेस (mumbai rajdhani express) का निजामुद्दीन से बांद्रा व बांद्रा से निजामुद्दीन तक का परीक्षण १३० की गति से किया है। निजामुद्दीन से बांद्रा के लिए चली ट्रेन को सिर्फ रतलाम में ठहराव दिया गया था। ऐसे में रेलवे का सोच था की इससे १२ घंटे में ट्रेन को बांद्रा पहुंचा दिया जाएगा व उसका तीसरी राजधानी का सपना पूरा होगा। ये ट्रेन काफी समय में रतलाम तक आई भी, लेकिन इसके बाद मामला गड़बड़ा गया।

 

कर्व आते ही करना पड़ी गति कम

१३० की गति से चलने वाले इस परीक्षण में मेघनगर से गोधरा तक आए करीब १० बडे़ कर्व के दौरान ट्रेन को ६० से ७० की गति पर लाना पडा। इससे ट्रेन की गति पर जमकर असर पड़ा। इसके अलावा सूरत से बांद्रा के बीच तो अनेक ट्रेनों के रास्ते में होने की वजह से समय पर परीक्षण वाली ट्रेन को रेलवे पहुंचा ही नहीं पाई। एेसे में अब रेलवे दो मन बना रही है। पहला मन रेलवे का एक ओर परीक्षण करने का है। इसमें रेलवे रतलाम में ट्रेन को ठहराव न देगी, बल्कि इस रास्ते के जानकार चालक को पहले से दिल्ली बुलवा लेगी। इसके अलावा एक मन ओर है कि पहले कर्व को कम किया जाए व इसके बाद तेज गति की राजधानी को चलाया जाए जो 12 घंटे में निजामुद्दीन से बांद्रा तक यात्रियों को पहुंचाए। यदि जल्द ही यह परीक्षण सफल हो जाता तो आईआरसीटीसी (irctc) से इसके लिए टिकट बुकिंग भी शुरू हो सकती है।

 

अनेक विकल्प खुले है

तीसरी राजधानी ट्रेन को चलाने के बारे में फिलहाल कोई निर्णय नहीं है। संभवत एक या दो बार ओर गति का परीक्षण हो सकता है।
- पवन कुमार सिंह, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक, रतलाम रेल मंडल



Ad Block is Banned