रतलाम में पांच साल में पैसा दोगुना करने के नाम पर लाखों की ठगी

रतलाम में पांच साल में पैसा दोगुना करने के नाम पर लाखों की ठगी
Black money

vikram ahirwar | Updated: 15 Jan 2017, 08:34:00 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

लाखों की धोखाधड़ी करने के आरोप में एक चिटफंड कंपनी के तीन संचालकों के खिलाफ धोखाधड़ी एवं अमानत में खयानत का प्रकरण दर्ज किया है। रुपए दोगुने करने का झांसा देकर दो दर्जन से अधिक लोगों से लाखों रुपए ठग कर भूमिगत हो गए है।



रतलाम। माणकचौक पुलिस ने लाखों की धोखाधड़ी करने के आरोप में एक चिटफंड कंपनी के तीन संचालकों के खिलाफ धोखाधड़ी एवं अमानत में खयानत का प्रकरण दर्ज किया है। आरोपी 5 वर्ष में रुपए दोगुने करने का झांसा देकर दो दर्जन से अधिक लोगों से लाखों रुपए ठग कर भूमिगत हो गए है। पुलिस अब आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर उनकी तलाश में जुट गई है।

थाना प्रभारी सहर्ष यादव ने बताया कि त्रिवेणी रोड स्थित संत नगर निवासी सुरेश पिता संतोष पाटीदार की शिकायत पर पूनमचंद पाटीदार, नानालाल और राजेश पिता कचरुमल निवासी रायपुरिया तहसील पेटलावद जिला झाबुआ के खिलाफ धारा 420, 406, 409, 34 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। आरोपियों ने लोगों से रुपए पांच वर्ष में दोगुने करने का झांसा देकर जमा किए और अमानत में खयानत कर रुपए हड़प लिए। टीआई यादव ने बताया कि दो आरोपी नानालाल और राजेश उज्जैन जेल में धोखाधड़ी में बंद है, जबकि आरोपी पूनमचंद की तलाश में पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए पेटलावद गई है।

दुर्घटना बीमा राशि का लाभ

फरियादी सुरेश पाटीदार ने बताया कि प्रज्ञा डेयरीज एंड एग्रो लिमिटेड कंपनी रतलाम संचालक रायपुरिया पेटलावद निवासी पूनमचंद पाटीदार, नानालाल पाटीदार और राजेश पिता कचरुमल जैन घर आए थे। उन्होंने बताया कि कंपनी डेयरी प्रोडक्ट का व्यापार करती है। यदि वह कंपनी में रुपए जमा कराते हैं तो कंपनी डेढ़ गुना भुगतान करेगी, वहीं फिक्स डिपोजिट पर 5 वर्ष में जमा राशि का दोगुना करने और यदि किसी सदस्य की मृत्यु हो जाती है तो एक किश्त जमा करने के बाद से ही दुर्घटना बीमा राशि का लाभ देकर बिना शेष राशि का भुगतान किए शेष राशि का भुगतान किया जाएगा।


चेक वापस हो गया

सुरेश पाटीदार ने बताया कि आरोपियों की बातों में आकर उसने एक पॉलिसी ली, जिसमें 12 हजार 650 रुपए की पांच किश्तें जमा कराई और एक अन्य पॉलिसी में 63 हजार रुपए जमा कराए। फरियादी के पिता संतोष पाटीदार ने उसकी बहन भावना पाटीदार के नाम से 12650 रुपए की चार किश्तें जमा कराई और एक अन्य किश्त 31,600 रुपए की जमा कराई। कंपनी के संचालकों के जमा रुपए की रसीद और सर्टीफिकेट भी दिए। जिस पर सीएमडी कंपनी के सीएमडी के रूप में पूनमचंद पाटीदार के हस्ताक्षर थे। फरियादी ने पुलिस को की गई शिकायत में बताया कि 20 दिसंबर 15 को जमा रकम भुगतान के लिए कंपनी की ओर से 16090 रुपए का चेक मिला, जिसे फरियादी ने बैंक खाते में जमा करने के लिए बैंक में प्रस्तुत किया, लेकिन कंपनी के खाते में पर्याप्त राशि नहीं होने पर चेक वापस हो गया।

कार्यालय बंद कर भागी कंपनी

फरियादी ने जब कंपनी संचालकों की तलाश की तो पता चला कि सभी कंपनी के रतलाम स्थित कार्यालय को बंद कर भाग चुके हैं। आरोपियों ने फरियादी और उसके पिताजी से कुल 2 लाख 24 हजार 740 रुपए अधिक ब्याज और रुपए दोगुने करने का झांसा देकर धोखाधड़ी की।

कई लोगों के साथ की धोखाधड़ी

फरियादी सुरेश पाटीदार ने शिकायत में बताया कि कंपनी के संचालक ने न सिर्फ उसके साथ बल्कि कई रिश्तेदारों और परिचितों के साथ भी धोखाधड़ी की। इनमें बिंदुलाल पाटीदार, मीरा नायक, सुंदरसिंह, नरेंद्रसिंह, गौरीशंकर भगौरिया, मोहनलाल शर्मा, मोहनलाल पाटीदार, मदन अटोलिया, कल्पना भंडारी, गोविंद भूरिया, मंजुला शर्मा, दिलीप कटकानी, रमेशचंद्र पाटीदार, डॉ. आनंदीलाल पाटीदार, उमाकांत उपाध्याय, कमलाबाई, रेशमबाई, रामलाल पाटीदार, राजेंद्र नायक, राजेंद्र अग्रवाल, शंकरलाल मईड़ा, जितेंद्र राजपूत, सुरेश माली, लक्ष्मीबाई, बंशीदास, भरत जाधव आदि के साथ भी धोखाधड़ी की।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned