कुर्सी संभालते ही कलेक्टर का एक्शन, निगम के बकायादारों की संपत्ति करेंगे कुर्क

रुचिका चौहान ने लिया कार्यभार, अब नई परिषद बनने तक नगर निगम में प्रशासक का कार्यकाल

By: Chandraprakash Sharma

Published: 03 Jan 2020, 06:14 PM IST

रतलाम। प्रदेश के 18 निकायों के साथ रतलाम नगर निगम में भी सरकार ने प्रशासक को कमान सौंप दी है। गुुरुवार को कलेक्टर रुचिका चौहान ने प्रशासक का कार्यभार संभाल लिया। कुर्सी पर बैठते ही उन्होंने फाइलें तलब कर ली और अहम निर्देश देकर एक्शन प्लान शुरू कर दिया। निगम के बड़े बकायदारों की संपत्ति कुर्की का फरमान सुना दिया तो आवास के लिए भटक रहे हितग्राहियों को जल्द मकान आवंटन का निर्देश देकर राहत भी दे दी।
कलेक्टर रुचिका चौहान ने गुरुवार को नगर निगम के प्रशासक का पदभार ग्रहण कर लिया। निगमायुक्त एसके सिंह ने डिप्टी कलेक्टर तपस्या परिहार की मौजूदगी में कार्यभार संबंधी दस्तावेजों की पूर्ति कराई। कार्यभार के बाद कलेक्टर ने मैराथन बैठक लेकर निगमायुक्त से सेटअप, अमले, योजना और कार्यक्रमों एवं प्रगति की जानकारी ली। साथ ही अहम निर्देश देकर अपने एक्शन प्लान से अवगत भी करा दिया।
कलेक्टर ने निगम आयुक्त को निर्देश दिए कि अर्फोडेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट के तहत निर्मित कराए गए 100 आवासों में हितग्राहियों को गृह प्रवेश कराया जाए। यह हितग्राही मुखर्जी नगर तथा डोसी गांव क्षेत्र में निर्मित कराए गए आवासों में शिफ्ट किए जाएंगे। इसके लिए ऋण दिलवाने की कार्रवाई एवं अन्य औपचारिकता तत्काल करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए। हितग्राहियों का गृह प्रवेश जारी जनवरी माह में होगा, इसमें वर्तमान में निवासरत अजंता टॉकीज रोड तथा शिवशक्ति नगर के हितग्राही सम्मिलित हैं। नगर निगम द्वारा वसूले जाने वाले करों की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने कहा कि बड़े बकायादारों को सूचीबद्ध कर नोटिस जारी किए जाएं, राशि वसूली हो अन्यथा संपत्ति कुर्क की जाए।
संपत्ति कर तथा अन्य कर वसूली के लिए नगर निगम कैंप आयोजित करें। कलेक्टर ने निगमायुक्त को निगम के पूर्व चुंगी नाकों, प्रवेश कर वसूली स्थानों की भूमि की पड़ताल करने के भी निर्देश दिए। यदि भूमि पर अन्य व्यक्तियों का कब्जा है तो उनको हटाने की कार्रवाई के लिए भी कहा है। इस दौरान सिटी इंजीनियर सुरेश व्यास सहित निगम के अधिकारी और अमला मौजूद था।
कार्यालयों का निरीक्षण कर जाने हालात - कलेक्टर ने निगम कार्यालय का निरीक्षण कर भवन के आवश्यक स्थानों पर वाटर हार्वेस्टिंग करने, बैठक व्यवस्था एवं रिकार्ड संधारण के निर्देश दिए। प्रॉपर्टी मार्किंग के लिए टेंडर जारी करने के निर्देश दिए गए ताकि नवीन प्रोपर्टी चिन्हित की जा सके। नगर निगम की राजस्व प्राप्ति, स्थापना खर्च आदि बिंदुओं पर भी समीक्षा की कर पालन के निर्देश दिए।
एसएम आईडी ऑपरेटर्स को किया तलब- नगर निगम कार्यों के लिए ट्रैक्टर तथा अन्य वाहनों की खरीदी के लिए भी कलेक्टर ने निर्देश दिए। साथ ही सर्वाधिक शिकायतों वाले ट्रिपल एसएम आईडी कार्य में गुणवत्ता तथा तेजी लाने के लिए ऑपरेटर्स को बुलाकर जानकारी प्राप्त की तथा निर्देश दिए कि डाटा सुधार तथा अन्य विसंगतियों का निदान किया जाए।

Chandraprakash Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned