#Indian_Railway - 100 करोड़ रुपए में ट्रेन से दूर होगी लाल व हरी झंडी 

रेलवे 100 करोड़ रुपए की लागत से एंड ऑफ ट्रेन टेलमेट्री नाम का उपकरण खरीदने जा रहा है। इस एक उपकरण की लागत करीब 10 लाख रुपए है व शुरुआती चरण में इसे एक हजार की ट्रेन में लगाया  जाएगा।

By: vikram ahirwar

Published: 13 May 2017, 09:21 AM IST



रतलाम।  आने वाले समय में ट्रेनचलाने के लिए गार्ड की हरी झंडी दिखाने या रोकने के लिए लाल झंडी का इंतजार नहीं किया जाएगा। रेलवे 100 करोड़ रुपए की लागत से एंड ऑफ ट्रेन टेलमेट्री नाम का उपकरण खरीदने जा रहा है। इस एक उपकरण की लागत करीब 10 लाख रुपए है व शुरुआती चरण में इसे एक हजार की ट्रेन में लगाया  जाएगा। इसको ट्रेन में लगाने के बाद गार्ड की जरूरत ही नहीं रहेगी। इसके लिए रेलवे विश्वस्तर की निविदा जारी करने जा रही है। 

10 लाख रुपए की कीमत

एंड ऑफ ट्रेन टेलमेट्री नाम के इस उपकरण को ट्रेन के अंतिम छोर व रेल चालक के दोनों तरफ लगाया जाएगा। 10 लाख रुपए की कीमत वाले इस उपकरण में इंजन की तरफ लगने वाले संसाधन को कैब डिस्प्ले यूनिट कहा जाता है। रेडियो ट्रांसमीटर प्रणाली से काम करने वाले इस उपक रण की विशेषता ये हैं कि अगर कही चलती ट्रेन में समस्या आई तो चालक को तुरंत पता चलेगा। 


इस तरह करेगा ये काम

रेडियो ट्रांसमीटर व अंतिम छोर पर लगा उपकरण लगातार संकेत देगा। इससे ये सुनिश्चित हो जाएगा कि ट्रेन सही सलामत चल रही है। अगर डिब्बा ट्रेन से अलग होता है या कुछ ओर अनहोनी की स्थिति होती है तो समय रहते चालक को सूचना मिलेगी व आपात ब्रेक का उपयोग हो पाएगा।  शुरुआत मंे इसको मालगाडि़यों में लगाया जाएगा। 

विश्वस्तर की निविदा जारी होगी

 एंड ऑफ ट्रेन टेलमेट्री उपकरण को खरीदने व ट्रेन में लगाने के लिए विश्व स्तर की निविदा जारी करने का कार्य अंतिम चरण में है। इससे एक तरफ जहां गार्ड की जरूरत नहीं होगी, वहीं समय रहते हादसे के बारे में पता चलेगा। 

- जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल 

Show More
vikram ahirwar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned