विश्व प्रसिद्ध हुसैन टेकरी पर पुलिस के फरमान से उपजा आक्रोश

विश्व प्रसिद्ध हुसैन टेकरी पर पुलिस के फरमान से उपजा आक्रोश

harinath dwivedi | Publish: Feb, 15 2018 05:30:33 PM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 05:53:55 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

- 70 प्रतिशत खाली करवाई झोपडिय़ों, महिलाओं ने किया प्रदर्शन

जावरा। विश्व प्रसिद्ध हुसैन टेकरी पर कई सालों से ठहरे लोगों को यहां से ठहरने की समय-सीमा तय करने के बाद उपजा मामला अब लगातार तूल पकड़ता नजर आ रहा है। टेकरी पर हुई बैठक के दौरान वक्फ के कमरों से लेकर झोपडिय़ों में ४५ दिन से अधिक नहीं रहने के दिए निर्देश के बाद बुधवार को जहां टेकरी की महिलाएं लामबंद होकर सीएसपी आशुतोष बागरी के दफ्तर के बाहर पहुंच गई थी तो वहीं गुरुवार को टेकरी में भी महिलाओं ने इसी बात को लेकर एकजुट होकर प्रदर्शन किया।

हालांकि यह कुछ ही देर चला। दरअसल बैठक के बाद पुलिस ने झोपडिय़ों को खाली करवाना शुरु कर दिया और सभी से पहचान पत्र लेने के काम की शुरुआत की। इसमें झोपडिय़ों में रहने वाले कईलोग ऐसे थे जो कई सालों से तो और कई महीनों से रह रहे थे, इसमें महाराष्ट्र सहित अन्य प्रदेशों व प्रदेश के अन्य शहरों के कई लोग थे। पुलिस ने जब झोपडिय़ों की सर्चिंग की तो लंबे समय से रहने वाले लोगों से झोपडिय़ा खाली करवाने के काम की शुरुआत की। इससे कई झोपडिय़ों खाली हो गई।
चौकी प्रभारी आरएस नागर ने बताया कि करीब ७० प्रतिशत झोपडिय़ों खाली कराई जा चुकी हैऔर सभी लोगों की पहचान पत्र लिए जा रहे है। झोपडिय़ां खाली होने से इनमें ठहरे कई लोग तो यहां से जा चुके है और कुछ लोग कमरें लेने को मजबूर हो रहे है। अब झोपडिय़ों पर तो पुलिस ने जोर दिखाकर खाली करवा ली लेकिन वक्फ के कमरें जो न्यूतनम दरों पर दिए जाते है, उनमें भी लंबे समय से कईलोग रह रहे है और जब वक्फ के कमरों में भी ४५ दिन से अधिक नहीं रुकने की बात आई तो यहां लंबे समय से रहने वाले लोगों ने मोर्चा खोल दिया और इस निर्णय पर रोष जताना शुरु कर दिया। यहां आने वाले बीमार लोग को कई मामले ऐसे होते है जो लंबे समय से यहां रहने के बाद भी पूरी तरह ठीक नहंी हो पाए, ऐसे में उपचार के लिए वह यहां रहते है, यह उनका कहना है।

इधर अपराधों पर रोक लगाने के लिए सर्चिंग के साथ लबें समय से रहने वाले लोगों को खाली करवाने के लिए जुटी पुलिस का मामना हैकि बीमारी के बहाने बाहर से आने वाले व्यक्ति यहां छुपकर रहता है और फिर अपराध करता है। ऐसे में यहां रहने वाले लोगों को संबंधित थानों से वेरीफिकेशन करवाने के साथ ही उनकी पहचान भी पूरी तरह करने का काम करेगी। पुलिस ने तो अपना काम शुरु भी कर दिया है, लेकिन लंबे समय बाद ही सही लेकिन झोपडिय़ों में रहने वाले और टेकरी पर रहने वाले लोगों पर सख्ती करना पुलिस ने शुरु की तो इस पर यहां रहने वाले आवाज उठाने लगे है।

झोपडिय़ों से लेकर वक्फ के कमरों में रहने वालों के साथ ही टेकरी क्षेत्र में स्थित दुकानों में भी दुकानदार लोगों को रात में सुलाने का काम करते है, ऐसे में पुलिस ने इस पर भी रोक लगाने का काम किया है। दुकानदारों को भी इसके लिए निर्देशित कर दिया है। पुलिस अब टेकरी पर पैनी निगाह रखने के साथ संदिग्धों पर निगाहें बनाए हुए है और आपराधिक गतिविधियों पर रोकथाम के लिए बाहर से आने वाले लोगों की जानकारी जुटाकर सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए टेकरी पर सख्ती करने में जुटी है। इसके चलते यहां लंबे समय से रहने वाले लोगों को पुलिस की कार्रवाई नागवार गुजर रही है।

Ad Block is Banned