VIDEO पुलवामा शहिदों को याद कर बोली ये बड़ी बात...धर्म बड़ा ना, भाषा बड़ी, देश बड़ा होता

VIDEO पुलवामा शहिदों को याद कर बोली ये बड़ी बात...धर्म बड़ा ना, भाषा बड़ी, देश बड़ा होता

By: Gourishankar Jodha

Updated: 03 Mar 2019, 02:44 PM IST

रतलाम। अपने जीवन से भी बढ़कर देश बड़ा होता है... वो आदमी-आदमी क्या जो बोए नफरत के कांटे...। भाषा और मजहब के लिए देश को टुकड़ों में बांटे। धर्म बड़ा है ना भाषा बड़ी है, देश बड़ा होता है। होते है परिवार कई जब देश बड़ा होता है...जैसी पंक्तियां सुनाकर कवि आशीष दशोत्तर ने एक शाम कौमी एकता के नाम मुशायरे में देकर श्रोताओं मंत्रमुग्ध कर दिया।

कवि दशोत्तर ने जैसे ही...याद करती है तुझे मां की बल्लईयां आजा...। जिंदगी है यहां एक भुल भुलैया आजा...।। ये चमक झुठ की तुझको न बढऩे देगी..। छोड़ अभिमान, अहम और रूपया आजा। सुनाई तो प्रशासनिक अधिकारियों के साथ उपस्थित श्रोता भी वाह-वाह कर अभिवादन करते नजर आए। इसके पूर्व अन्य कवि और शायरों ने भी एक से बढ़कर एक शायरी प्रस्तुत कर श्रोताओं को बांधे रखा।

एक शाम कौमी एकता के नाम मुशायरा
देश भक्ति की भावना जागृत करना पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करनेे के साथ ही देश के शौर्य को सलामी देने का उद्ेश्य लिए पुराने कलेक्टोरेट स्थित गुलाब चक्कर पर एक शाम कौमी एकता के नाम मुशायरा का आयोजन किया गया। जिसमें शायरों ने एक से बढ़कर एक देशभक्ति से ओतप्रोत शायरी पेश कर श्रोताओं का बांधे रखा। राज्य शासन के निर्देश अनुसार राष्ट्र प्रेम शहीदों के बलिदान तथा सैनिकों के शौर्य को समर्पित कार्यक्रम भारतीयम का आयोजन 3 मार्च को गुलाब चक्कर पर शाम 6 बजे से आयोजित होगा। कार्यक्रम में देशभक्ति गीतों की प्रस्तुति दी जाएगी। इस अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, जनप्रतिनिधि, समाजसेवी, लेखक, साहित्यकार, कलाकार, गणमान्य नागरिक युवा भागीदारी करेंगे। कलेक्टर रुचिका चौहान ने सभी अधिकारियों कर्मचारियों को कार्यक्रम में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहने के निर्देश जारी किए हैं।

patrika

देश भक्ति को समर्पित रचनाओं का पाठ हुआ
जिला प्रशासन द्वारा स्थानीय गुलाब चक्कर पर देश भक्ति को समर्पित एक शाम कौमी एकता के नाम आयोजन किया गया जिसमें स्थानीय कवियोंए शायरों ने देश भक्ति और राष्ट्र प्रेम से ओतप्रोत रचनाएं प्रस्तुत की। 2 मार्च की शाम आयोजित इस कार्यक्रम में कलेक्टर रुचिका चौहान, नगर निगम नेता प्रतिपक्ष यास्मीन शेरानी, शहर काजी अहमद अली, पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी, डीआरएम आरएन सुनकर, सीईओ जिला पंचायत सोमेश मिश्रा, सहायक कलेक्टर राहुल धोंटे, एसडीएम रतलाम शहर प्रवीण फुलपगारे तथा नागरिक गण उपस्थित थे।

पुलवामा के शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी
एक शाम कोमी एकता के नाम आयोजन में निजाम राही, अख्तर खान, नदीम अजमेरी, अब्दुल सलाम खोकर, जुझार सिंह भाटी, आशीष दशोत्तर, आशा उपाध्याय ने रचना पाठ किया। सहायक कलेक्टर राहुल धोटे ने कवि रामधारी सिंह दिनकर की रचना का पाठ किया। रेलवे पुलिस फोर्स के अधिकारी कुमार निष्णात ने भी रचना पाठ किया। संचालन अब्दुल कलाम खोकर ने किया। कार्यक्रम के अंत में राष्ट्रगान हुआ तथा देश की रक्षा में शहीद जवानों तथा पुलवामा के शहीद जवानों को 2 मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी गई।

Gourishankar Jodha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned