scriptSlow pace of industries, yet the demand for electricity is increasing | उद्योगों की धीमी चाल, फिर भी बढ़ रही बिजली की मांग | Patrika News

उद्योगों की धीमी चाल, फिर भी बढ़ रही बिजली की मांग

हर माह औसत मांग बढ़ रही, सतत बिजली से सुधर रहे उद्योगों के हाल

 

रतलाम

Published: February 24, 2022 05:41:40 pm

रतलाम. जिले में उद्योगों की स्थापना की चाल धीमी है, लेकिन व्यावसायिक बिजली की मांग में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। शहर में हर छह माह में औसत मांग का आंकड़ा बढ़ रहा है। इसका कारण छोटे उद्योगों के लिए बिजली की आपूर्ति करना है, हालांकि औद्योगिक इकाइयों के बढऩे पर मांग अनुसार उपलब्धता को लेकर संशय है। नए वर्ष के पहले डेढ़ माह में औद्योगिक उत्पादन में अच्छी स्थिति देखी गई है।
जिले में उद्योगों के हालात देखें तो अंचल में नए उद्योग खुले, वहीं पुराने उद्योगों में भी उत्पादन की स्थिति अच्छी रही, इससे बिजली की मांग तुलनात्मक रूप से बढ़ी । माह में उच्च दाब यानि औद्योगिकी बिजली की मांग पिछले वर्ष के समान माह की तुलना में 11 फीसदी ज्यादा रही। ड़ेढ़ माहभर में 72 करोड़ यूनिट बिजली उच्चदाब, औद्योगिक इकाइयों के लिए दी गई है।
उद्योगों की धीमी चाल, फिर भी बढ़ रही बिजली की मांग
उद्योगों की धीमी चाल, फिर भी बढ़ रही बिजली की मांग
करोड़ यूनिट में है बिजली की मांग
जनवरी 2022 के साथ ही जारी फरवरी में अब तक औद्योगिक इकाइयों के लिए दैनिक बिजली मांग 1.55 करोड़ यूनिट से लेकर 1.61 करोड़ यूनिट तक रही। यह पिछले वर्ष समान अवधि की तुलना में 11 फीसदी ज्यादा है। डेढ़ माह में 72 करोड़ यूनिट से ज्यादाबिजली का वितरण हुआ है। 25 नई औद्योगिक इकाइयां प्रारंभ हुई है, या पुरानी इकाइयों की क्षमता में भारी विस्तार देखा गया है।नई औद्योगिक इकाइयां प्रारंभ करने पर शासन के नियमानुसार छूट दी जा रही है। पुरानी इकाइयों ने क्षमता विस्तार कर बिजली का उपयोग बढाया है, तो बढी हुई बिजली खपत पर एक रूपए यूनिट की छूट दी जा रही है। इसी तरह कैशलेस पैमेंट के बिलों पर एक हजार रूपए की अधिकतम छूट प्रति बिल दी जा रही है। इसी तरह प्राम्प्ट पेमेंट यानि बिजली बिल मिलते ही अंतिम तारीख का इंतजार किए बगैर तुरंत भुगतान पर दशमलव 25 फीसदी छूट दी जा रही है।
हर माह 61 करोड़ रुपए की छूट
उच्चदाब कनेक्शन, संबंधित उद्योगों को सामान्य छूट, शासन की सब्सिडी, पावर फेक्टर, प्राम्प्ट पेमेंट, एडवांस पेमेंट, ग्रीन फील्ड, नए कनेक्शनों पर रिबेट , केप्टिव रिबेट, रात्रिकालीन बिजली उपयोग पर स्पेशन रिबेट,आन लाइन भुगतान पर रिबेट आदि का लाभ दिया जा रहा है। इन्हें प्रति माह 61 करोड़ की छूट दी जा रही है।
- अमित तोमर, प्रबंध निदेशक मप्रपक्षेविविकं इंदौर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Lunar Eclipse 2022: सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण हो गया है शुरू, क्यों कहा जा रहा 'ब्लड मून', जानिए भारत से कैसे और कहां दिखेगापीएम मोदी आज बुद्ध की जन्म और निर्वाण स्थली पर माथा टेकेंगे, जानें आज पूरे दिन का कार्यक्रमयूपी के नए मंत्रियों को आज राजधानी में गुरूमंत्र देंगे पीएम मोदी, जानें कौन-कौन रहेगा मौजूदCongress Chintan Shivir 2022: उदयपुर से निकला कांग्रेस का नव संकल्प और नया नारा- भारत जोड़ोWeather Update: उत्तर भारत में और झुलसाएगी गर्मी, भीषण गर्मी और लू का अलर्ट जारीcongress chintan shivir 2022: आदिवासियों के गढ़ में आज राहुल गांधी भरेंगे हुंकार, वोट बैंक पर रहेगी नजरAAP ने किया केरल में गठबंधन का ऐलान, इस पार्टी के साथ मिलकर लड़ेगी चुनावIPL 2022 Point Table: लखनऊ को हरा दूसरे स्थान पर पहुंचा राजस्थान, चौथे स्थान के लिए चार टीमों में घमासान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.