scriptsurana villagers will not leave house also erased for sale | घर छोड़कर नहीं जाएंगे सुराणा गांव के लोग, मकान और दुकान पर 'बिकाऊ है' भी मिटाया, जानिए वजह | Patrika News

घर छोड़कर नहीं जाएंगे सुराणा गांव के लोग, मकान और दुकान पर 'बिकाऊ है' भी मिटाया, जानिए वजह

-रंग लाया मुख्यमंत्री व गृह मंत्री का हस्तक्षेप
-घर छोड़कर नहीं जाएंगे सुराणा गांव के लोग
-मकान और दुकान पर 'बिकाऊ है' भी मिटाया
-समुदाय विशेष की प्रताड़ना से ग्रस्त थे 60 परिवार

रतलाम

Updated: January 20, 2022 03:19:51 pm

रतलाम. मध्य प्रदेश के रतलाम जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूरी पर स्थित सुराणा गांव में दो समुदाय के छोटे बच्चों के बीच हुए विवाद ने बड़ा रूप ले लिया था। पिछले एक साल से दोनों पक्षों के बीच चल रही तनातनी इतनी बढ़ गई थी, इससे तंग आकर एक पक्ष के लोगों ने अपने घर को बेचकर गांव से पलायन करने का निर्णय लेते हुए घर और दुकान बिकाऊ है तक लिख दिया था। लेकिन, अब सुराणा गांव के लोग गांव से पलायन नहीं करेंगे।

News
घर छोड़कर नहीं जाएंगे सुराणा गांव के लोग, मकान और दुकान पर 'बिकाऊ है' भी मिटाया, जानिए वजह

बता दे कि, अन्य सनुदाय के लोगों से तंग आकर गां में रहने वाले करीब 60 परिवारों ने बीते 18 जनवरी को जन सुनवाई के दौरान कलेक्टर को अपनी विश्रा सुनाते हुए गांव छोड़ने की बात कही थी। यहीं नहीं इन परिवारों ने मंगलवार रात को ही गांव में अपने घर और दुकानों पर 'बिकाऊ है' लिख दिया था। ग्रामीणों के इस फैसले से प्रशासन और पुलिस में हड़कंप मच गया था। मामले को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी गंभीरता से लेते हुए दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने और गांव की व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिये थे।

यह भी पढ़ें- एक साथ पूरा गांव छोड़कर जा रहे यहां के लोग, दुकानों और मकान पर लिखा है 'बिकाऊ है'


प्रशासन ने की कार्रवाई

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम और एसपी गौरव तिवारी से बात की और खुद इस मामले को व्यवस्थित करने को कहा। इसके बाद कलेक्टर और एसपी ने बुधवार को ही सुराणा गांव में चौपाल लगाते हुए दोनों समुदाय के लोगों की बैठक ली। कलेक्टर ने तत्काल ही एक समिति गठित की, साथ ही गांव मे अस्थाई पुलिस चौकी भी तत्काल खुलवाई। शाम तक गांव की सरकारी भूमियों पर बने 6 अतिक्रमण तोड़ दिए हैंं।

यह भी पढ़ें- MR यूनियन की देशव्यापी हड़ताल, बोले- पूंजी परस्तों को लाभ पहुंचा रही सरकार


घर और दुकान से मिटाया 'बिकाऊ है'

प्रशासन की तरफ से ताबड़तोड़ कार्रवाई से अब यहां के पीड़ित ग्रामीण भी सेहमत हैं। साथ ही, घर और दुकान छोड़कर जाने वाली चेतावनी को वापस ले लिया है।, फिलहाल गांव में शांति का माहौल है। इतना ही नहीं घरों और दुकानों पर जो 'बिकाऊ है' लिखा था उसे भी मिटा दिया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबMaharashtra Political Crisis: क्या महाराष्ट्र में दो-तीन दिनों में सरकार बना लेगी बीजेपी? यहां पढ़ें पूरा समीकरणअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेताPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासमुकुल रॉय ने पश्चिम बंगाल विधानसभा के पब्लिक अकाउंट्स कमेटी के चैयरमैन पद से दिया इस्तीफापटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.