शीतलहर ने कंपकंपाया, तापमान 4.5 डिग्री, फसलों पर होने लगा बुरा असर

शीतलहर ने कंपकंपाया, तापमान 4.5 डिग्री, फसलों पर होने लगा बुरा असर
Ratlam News

vikram ahirwar | Publish: Jan, 15 2017 10:07:00 AM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

शीतलहर का असर दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है, कई क्षेत्रों में मटर 50-60 प्रतिशत प्रभावित हो गई। डॉलर चने के अलावा आलू की फसल भी 8-10 प्रतिशत खराब होने की आशंका है, क्योंकि रात पारा 4.5 डिग्री पहुंच गया। 



रतलाम। शीतलहर का असर दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है, जहां नागरिक ठिठुर रहा है तो फसलों पर पाले ने कहर बरसाना शुरू कर दिया। कई क्षेत्रों में मटर 50-60 प्रतिशत प्रभावित हो गई। डॉलर चने के अलावा आलू की फसल भी 8-10 प्रतिशत खराब होने की आशंका है, क्योंकि रात पारा 4.5 डिग्री पहुंच गया। 

खेतों में बर्फ जमने लगी है। ऐसी स्थिति वर्ष 2012-13 में बनी थी, जब 21 जनवरी की रात का तापमान 4 डिग्री चला गया था। शुक्रवार की रात तापमान 4.5 डिग्री पर चला गया। मौसम और कृषि विभाग की माने तो रात का तापमान और गिर सकता है, ऐसी स्थिति में कृषक सतर्क रहे और खेतों की मेढ़ पर कचरा जलाकर रात के समय धुंआ करे, क्योंकि 3 व 4 बजे मध्य पाले की स्थिति बनती है। साथ ही हो सके तो हल्की सिंचाई करे, जिससे तापमान अनुकूल बना रहे। मौसम प्रेक्षक महेशकुमार शर्मा ने बताया कि दिन का तापमान 23.7 डिग्री और रात का तापमान 0.5 डिग्री की गिरावट के साथ 4.5 डिग्री सेल्सियस पर आ गया।

अधिकारियों ने देखी पाला प्रभावित फसलें

शनिवार को कृषि विभाग के दल ने पाले से प्रभावित फसलों का निरीक्षण एवं अवलोकन किया। जिले के ग्राम सेजावता, धौंसवास तथा जावरा विकासखंड के झालबा, कलालिया एवं भीमाखेड़ी में फसलें देखी। कृषि उपसंचालक केएस खपेडिय़ा, भीका वास्के, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी बीएम सोलंकी तथा बीएम सोलंकी तथा बंशी पाटीदार ने खेतों में पहुंचकर कृषक गोपाल कनीराम पाटीदार, बद्रीलाल, जगन्नाथ, लक्ष्मीनारायण, शोभाराम पाटीदार आदि कृषकों के साथ पाले से प्रभावित फसलें देंखी और पाले से बचाने के लिए उपाय भी बताए। इसी प्रकार उद्यानिकी विभाग डोसीगांव नर्सरी के उद्यान अधीक्षक एसपीएस शर्मा ने बताया कि मलवासा, हतनारा, रिंगनिया में मटर करीब 50-60 प्रतिशत तक प्रभावित हुई है। एक दिन पूर्व भी यहां पाले की स्थिति बनी थी, शुक्रवार की रात भी पाला रहा। अंगूर आदि फलों पर असर नहीं है।

फसल प्रभावित

फसल हैक्टेयर प्रतिशत
गेहंू    1 .10 लाख  05
चना    97 हजार 10
मटर    2,500 हे. 60
आलू - 10

पांच साल न्यूनतम पारे की स्थिति

   वर्ष        न्यून.अधि.
21-1-2012 04 22.2
21-1-2013 04 24.2
12-1-2014 06 18.4
17-1-2015 06 23.2
21-1-2016 05 24.1
14-1-2017 4.5 23.7

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned