scriptThe district needs 41500 metric tons of fertilizer this month, the adm | जिले को इस माह 41500 मेट्रिक टन उर्वरक की जरूरत, प्रशासन ने की शासन से मांग | Patrika News

जिले को इस माह 41500 मेट्रिक टन उर्वरक की जरूरत, प्रशासन ने की शासन से मांग


- वर्तमान समय में रतलाम में 17190 मेट्रिक टन उर्वरक उपलब्ध

रतलाम

Updated: November 07, 2021 08:41:20 pm


रतलाम। जिले में रबी सीजन को लेकर उर्वरक की मांग अभी से बढऩे लगी है। प्रशासन भले ही पर्याप्त मात्रा में वर्तमान में उर्वरक होने की बात कह रहा है लेकिन जो उर्वरक वर्तमान में उपलब्ध है, आने वाले समय में डिमांड उससे दोगुनी रहेगी। किसानों को उर्वरक के लिए परेशान न होना पडे़ इसके लिए प्रशासन ने वैसे तो अभी से तैयारी कर ली है और समय के पहले इस माह के अंत तक जरूरत लगने वाले यूरिया की मांग शासन को भेज दी है।
जिले को इस माह 41500 मेट्रिक टन उर्वरक की जरूरत, प्रशासन ने की शासन से मांग
जिले को इस माह 41500 मेट्रिक टन उर्वरक की जरूरत, प्रशासन ने की शासन से मांग
रबी सीजन में 2021-22 में इस बार उर्वरक का लक्ष्य भी अधिक निर्धारित किया गया है। इसके पीछे कारण बारिश अच्छी होने से इस बार रबी की फसलों का रकबा भी गत वर्ष की तुलना में बढ़ा है। इस बार जो जिले का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, उसके तहत 53 हजार मेट्रिक टन यूरिया, 19000 हजार मेट्रिक टन डीएपी और 9900 मेट्रिक टन एनपीके शामिल किया गया है। इसके तहत कुल उर्वरक की मात्रा 81900 मेट्रिक टन है।


प्रशासन का यह है दावा
प्रशासन का दावा है कि जिले में चालू रबी मौसम के लिए पर्याप्त मात्रा में उर्वरकों का भंडारण है। निजी तथा सहकारी क्षेत्रों में कुल मिलाकर 17190 मेट्रिक टन विभिन्न प्रकार के उर्वरक आज की स्थिति में किसानों के लिए उपलब्ध है। इनमें यूरिया की मात्रा 3276 मेट्रिक टन है। इसके अतिरिक्त आगामी दिनों के लिए भी राज्य शासन से मांग कर ली गई है लेकिन यह मांग वर्तमान स्थिति से काफी अधिक है। शासन यदि समय पर इसे उपलब्ध नहीं करा पाया तो किसानों को परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है।

कलेक्टर ने बताई वर्तमान स्थिति
कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि जिले के सहकारी क्षेत्र में 6100 मेट्रिक टन विभिन्न प्रकार के उर्वरकों की मात्रा उपलब्ध है। इसी प्रकार निजी क्षेत्र में 11090 मेट्रिक टन उर्वरक उपलब्ध है। जिले में सहकारी क्षेत्र द्वारा अब तक 15499 मेट्रिक टन उर्वरकों का वितरण किया जा चुका है। निजी क्षेत्र द्वारा वितरित की गई मात्रा 20109 मेट्रिक टन है। जिले की मांग अनुसार शासन द्वारा समय सीमा में उर्वरक उपलब्ध कराए जा रहे है। किसान उर्वरक भण्डारण नहीं करें।


एेसी है नवंबर माह की मांग


फैक्ट फाइल


कुल मांग मेट्रिक टन में - उर्वरक का नाम
25000 - यूरिया
6000 - डीएपी
7000 - एनपीके
3500 - पोटाश


यह है लक्ष्य
कुल मांग मेट्रिक टन में - उर्वरक का नाम
53000 - यूरिया
19000 - डीएपी
1900 - एनपीके

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.