डाकिया तय करता है गांव में कितनी है महंगाई

डाकिया भेजता था पीएमओ व नीति आयोग को महंगाई की जानकारी, पिछले कई वर्षो से जारी से जारी परंपरा हुई अब बंद।

By: Ashish Pathak

Updated: 07 Aug 2020, 10:50 AM IST

रतलाम. आपको अगर लगता है कि डाकिया सिर्फ डाक देने का कार्य करते है तो आपकी सोच गलत है। डाकिया देश में खाद्य वस्तुओं के मूल्य की सूचना भी देने का कार्य करता है। देश में महंगाई कितनी है, यह सूचकांक तय किस तरह से होता है, यह राज अब खुल गया है। असल में गांव में महंगाई के बारे में इसकी जानकारी लेने के लिए डाकियों की सहायता ली जाती है।

BREAKING देशभर में रेलवे 11 हजार पद करेगा समाप्त

प्याज और टमाटर इस साल नहीं बिगाड़े का जायका

जिले के धामनोद क्षेत्र का डाकिया कोई आम डाकिया नहीं था, वह पीएमओ व नीति आयोग को ग्रामीण क्षेत्रों की महंगाई के बारे में जानकारी भेजता था। आजादी के बाद से डाक विभाग से खाद्य वस्तुओं के मूल्य मंगवाने की परंपरा को कोरोना काल के बाद बंद कर दिया गया। हालांकि पिछले वर्ष अक्टूबर माह में यह जानकारी भेजी गई थी। अब इस कार्य को सांख्यिकी विभाग ने फिलहाल रोक रखा है। हालांकि रतलाम रेंज के मंदसौर व नीमच में यह परंपरा आज भी जारी है। इसमे बड़ी बात यह है कि पीएमओ व नीति आयोग को भेजी जाने वाली जानकारी इतनी गुप्त रहती है कि डाक विभाग के ही कई अधिकारियों को इस बारे में जानकारी नहीं रहती है।

ऑनलाइन शॉपिंगः स्पीड पोस्ट लेकर पहुंचे डाक विभाग के कर्मचारी को बंधक बनाया

kirana1.jpg

खाद्य वस्तुओं के दाम मंगवाती

असल में देश में महंगाई को नियंत्रित करने के लिए सरकार डाकियों के माध्यम से अलग-अलग जिलों से हर माह खाद्य वस्तुओं के दाम मंगवाती है। इसमे प्रत्येक जिले को एक माह तय रहता है जब चयनीत सप्ताह में ग्रामीण क्षेत्र के बाजार से मूल्य लिया जाता है। रतलाम में धामनोद जिले का डाकिया इस कार्य को कई दशकों से करता रहा है। हालांकि कुछ समय पूर्व ही धामनोद में नए डाकिए की नियुक्ति हुई है।

राम दरबार में आरती के साथ ही आतिशबाजी से गूंजा आसमान

kirana3.jpg

इन वस्तुओं की भेजते है सूचना
डाक विभाग के अनुसार दाल, आटा, जूते, चप्पल, कपड़े, वाहन के टायर, मोटर साइकल सहित कई वस्तुओं की सूचना 14 पेज के एक फॉर्म में भरकर भेजते है। पहले यह जानकारी बंद लिफाफे में भेजते थे, अब इसको नई तकनीक आने के बाद इमेल से भेजते है। चयनीत माह में पहले सप्ताह में यह जानकारी भेजी जाती है। इसकी एक कॉपी राज्य सरकार को भी भेजी जाती है।

बैठक में नहीं आए, अब कटेगा एक दिन का वेतन

head post office in Varanasi
IMAGE CREDIT: Patrika

पिछले वर्ष भेजी थी जानकारी
पिछले वर्ष अक्टूबर माह में ग्रामीण क्षेत्र से खाद्य वस्तुओ सहित अन्य सामग्री की जानकारी भेजी गई थी। इसके बाद अब तक इसको लेकर आदेश नहीं मिले है।
- मो. इरफान, आईपीओ, मुख्य डाकघर

बांद्रा देहरादुन ट्रेन के मामले में रेलवे ने लिया बड़ा निर्णय

समाप्त हो गए तिथि के विवाद, अब इस तरह तैयार होंगे हिंदू पंचाग

रेलवे का बड़ा निर्णय, अब गुजरात में नहीं, मध्यप्रदेश में होगा यह टेस्ट

रतलाम में फटा कोरोना बम, 11 नए मरीज आए सामने, भाजपा नेता भी हुए संक्रमित

सेवानिवृत रेल कर्मचारी की झाली तालाब में फिसलने से मौत

भारतीयों को दैनिक खर्चो के प्रबंधन में हो रही दिक्कत
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned