श्रमिक ट्रेन दे रही परिवार को खुशी, किलकारी गूंजी

इन दिनों देश में चल रही श्रमिक ट्रेन मजदूरों को उनके घर तक तो पहुंचा रही है, इसके अलावा एक अन्य खुशी का कारण बन रही है। देश के अलग-अलग क्षेत्र से चली यह श्रमिक ट्रेन रतलाम रेल मंडल में मजदूरों के लिए खुशी का अतिरिक्त कारण बनी है। यहां पर पिछले एक पखवाडे़ में तीन बार प्रेगनेंट महिलाओं को सुरक्षित प्रसव करवाने में रेल कर्मचारियों ने मदद की है।

By: Ashish Pathak

Published: 28 May 2020, 01:08 PM IST

रतलाम. इन दिनों देश में चल रही श्रमिक ट्रेन मजदूरों को उनके घर तक तो पहुंचा रही है, इसके अलावा एक अन्य खुशी का कारण बन रही है। देश के अलग-अलग क्षेत्र से चली यह श्रमिक ट्रेन रतलाम रेल मंडल में मजदूरों के लिए खुशी का अतिरिक्त कारण बनी है। यहां पर पिछले एक पखवाडे़ में तीन बार प्रेगनेंट महिलाओं को सुरक्षित प्रसव करवाने में रेल कर्मचारियों ने मदद की है। पहले मंडल के मेघनगर तो इसके बाद रतलाम व नागदा में मजदूर परिवार में छोटे बच्चों की किलकारी गूंजी है।

200 ट्रेन BREAKING : रेलवे ने जारी किया टाइम टेबल

shramik train

रेल मंडल के स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 6 पर सुबह किलकारी गं गूंजी है। असल में गुजरात के सूरत से उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जा रही श्रमिक एक्सपे्रस ट्रेन में परिवार के साथ जा रही पूजा पति आनंद कुमार ने स्वस्थ्य पुत्र को जन्म दिया। प्रसव पीड़ा तेज हुई तो ट्वीटर पर मदद मांगी गई। सिविल अस्पताल से एम्बुलेंस रेलवे अस्पताल से चिकित्सक पहुंचे। इसके बाद शाम को रेल मंडल के नागदा स्टेशन पर एक महिला को प्रसव पीड़ा होने पर समय रहते रेलवे कर्मचारियों ने अस्पताल पहुंचाने में मदद की है।

इस दिन से बदलेगा आपके शहर में वेदर, होगी झमाझम बारिश

shramik train

सुबह किया गया ट्वीट

सुबह करीब 8 बजे जब ट्रेन मेघनगर को पार कर रही थी तब पूजा को प्रसव दर्द शुरू हो गया था। पति आनंद ने ट्वीटर पर मदद की आस के साथ ट्वीट किया। ट्रेन करीब 9.15 बजे रतलाम पहुंचने को हुई तो चिकित्सा मदद उपलब्ध थी। यहां पर रेलवे चिकित्सक डॉ. अंकित मेहता व उनकी टीम के अलावा टिकट चैकिंग कर्मचारी शादाब खान, संजय कनौजिया, सुरेश कौशल, विश्वदीप टंडन ने पहले से सभी व्यवस्था कर रखी थी। जैसे ही ट्रेन स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 6 पर आकर खड़ी हुई पूजा के आसपास चादर बांधकर आड़ कर दी गई। इस दौरान चिकित्सकों ने पूजा को सामान्य डिलेवरी करवाई। बाद में पूजा व उनके पति को जिला चिकित्सालय से आई एम्बुलेंस से चिकित्सालय पहुंचाया गया, जहां पर पुत्र व पूजा का स्वास्थ्य बेहतर है।

रेलवे का बड़ा ऐलान : 22 मई से यात्रा होगी आसान, मिलेगी वेटिंग टिकट की सुविधा

Three women delivered in train in a week, all three gave birth to a baby girl
IMAGE CREDIT: patrika

चलती ट्रेन को रोका गया
इधर दूसरी तरफ शाम को करीब 4 बजे गौरखपुर जा रही एक अन्य श्रमिक ट्रेन में सुनीता पति कमलेश यादव को नागदा में प्रसव पीड़ा हुई। तब ट्रेन को रोककर महिला व साथ के परिवार को रेल कर्मचारियों ने उतरवाया व समय रहते मेडिकल हेल्प करवाकर सुरक्षित प्रसव करवाया है। बोरिवली से गौरखपुर जा रही ट्रेन में सुनीता को प्रसव पीड़ा हुई थी। तब ट्वीट से सूचना मिलने पर 108 एबुंलेंस को सूचना दी गई। यहां पर डॉ. कमल सोलंकी ने शाम को महिला को भर्ती किया। बड़ी बात यह है कि ट्रेन को महिला की सहायता के लिए रोककर मदद की गई।

रेलवे स्टेशन पर श्रमिक ने पूछा यां ती कसतर जावांगा, कलेक्टर ने कहा...अठे तक आया हो, आगे भी भेजांगा VIDEO

लॉकडाउन - 3.0 : आसान नहीं है मजदूरों के लिए श्रमिक ट्रेन में यात्रा

मध्यप्रदेश के रतलाम में 12 घंटे में 13 मौत, पांच को कोरोना संदिग्ध माना

VIDEO इंदौर से रेलवे कर रहा श्रमिक ट्रेन चलाने की तैयारी

हो गया निर्णय, इस दिन से चलेगी ट्रेन, यह रहेगा तरीका

shramik special train
Corona virus COVID-19
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned