यूपीएससी-पीएससी कोचिंग क्लास की शुरूआत

यूपीएससी-पीएससी कोचिंग क्लास की शुरूआत

harinath dwivedi | Publish: Sep, 10 2018 05:33:23 PM (IST) Ratlam, Madhya Pradesh, India

क्लास में लगभग 500 युवक-युवतियां रहे उपस्थित

रतलाम. यूपीएससी-पीएससी कोचिंग मार्गदर्शन के लिए इस रविवार को अधिकारियों ने युवाओं को पाठ पढ़ाया। शहर के सैलाना रोड स्थित निजी स्कूल में लगी क्लास में लगभग 500 युवक-युवतियां उपस्थित थे। इस कक्षा में कलेक्टर रुचिका चौहान, जिला पंचायत सीईओ सोमेश मिश्रा व शहर एसडीएम राहुल धोटे ने पढ़ाया।
तीनों आईएएस अधिकारियों ने युवाओं को सिविल सर्विसेस एक्जाम के दौरान आंसर फ्रेमिंग की खासतौर पर समझाइश दी। अधिकारियों ने बताया कि एक्जाम के दौरान आने वाले प्रश्नों के उत्तर किस प्रकार दिए जाए, कौन से आवश्यक कंटेंट होते है जिनको उत्तर में शामिल करना जरूरी होता है। इसके साथ ही न्यूज पेपर रीडिंग पर विशेष रूप से फ ोकस किया गया। अधिकारियों ने कहा कि परीक्षाओं की तैयारियों के लिए अच्छे न्यूज पेपर के अलावा मैगजीन, वीडियो मैगजीन भी देखी जाए।
अधिकारियों ने बताया कि राज्यसभा टीवी देखना भी लाभदायक रहता है। कलेक्टर ने युवाओं से कहा कि पीएससी- यूपीएससी संस्थाए एक युवा की विभिन्न बिंदुओं पर गहराई जांचती है। आपकी विषद सोच को आब्जर्व करती है। सीईओ जिला पंचायत ने बताया कि जिला प्रशासन आगामी दिनों यह प्रयास करेगा कि नई दिल्ली में संचालित ख्यात कोचिंग संस्थानों के टिचर्स को बुलाकर युवाओं को मार्गदर्शन दिलवाया जाए। एसडीएम ने न्यूज पेपर किस प्रकार पढ़ा जाए जिससे आवश्यक नॉट्स तैयार हो सके उसकी जानकारी दी।

 

 

700 यात्रियों ने दिए नाम बदलने के सुझाव
रतलाम. रेलवे में ऑनलाइन टिकट बुकिंग कराने में रेलवे की सहयोगी संस्था इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आइआरसीटीसी) का नाम बदलने के लिए 700 यात्रियों ने सुझाव दिए है। अब रेलवे इन सुझाव का अध्ययन कर रहा है। इनमें से कुछ सुझाव को रेलमंत्री को बताया जाएगा। अगर कोई एक सुझाव फायनल हुआ तो आइआरसीटीसी का नया नामकरण हो जाएगा। बता दे कि मंडल में प्रतिदिन दस हजार टिकट ऑनलाइन बुक होते है।
बता दे कि कुछ माह पूर्व रेल मंत्रालय ने आइआरसीटीसी का नाम बदलने की पहल की थी। इस पहल में आमजन से सुझाव मांगे गए थे। तब रतलाम सहित देशभर से 1852 यात्रियों ने सुझाव दिए थे। इस बार इसकी संख्या कम होकर 700 रह गई। रेलवे के अधिकारियों के अनुसार जो नाम पूर्व में आए थे, वे आसानी से याद रहने वाले

नहीं थे, इसलिए फिर से सुझाव मांगे गए है।
सरकार कैशलेस को बढ़ावा दे रही है। एेसे में यात्री अधिक से अधिक ऑनलाइन टिकट बुक करें व स्टेशन पर काउंटर पर भीड़ नहीं हो ये मंशा है। इसलिए सरल नाम के लिए सुझाव मांगे जा रहे है।
- जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned