प्रदेश के इस जिले में यूरिया की मारामारी...भटक रहा किसान

सात केंद्रों पर बंटना है यूरिया कई कहीं भीड़ अधिक मशीन खराब तो कहीं रोल खत्म, कालातीत और ओव्हर ड्यू किसान हो रहे परेशान

By: Gourishankar Jodha

Updated: 27 Nov 2019, 12:54 PM IST

रतलाम। रबी सीजन और गेहूं में सिंचाई के साथ लगने वाले यूरिया के लिए किसान दर-दर भटकने के लिए मजबूर है। प्रशासनिक व्यवस्था के बावजूद किसानों को भागदौड़ करना पड़़ रही है, ताकि उन्हे समय पर खाद मिले और वह फसल में डालें, लेकिन यूरिया की मारामारी से जिनात नहीं पा रहे। प्रशासनिक व्यवस्था के चलते सात यूरिया वितरण के केंद्र खोले गए, लेकिन पटरी पर व्यवस्था दूसरे दिन भी नहीं आ पाई। किसान यहां से वहां भटक रहा है ताकि उन्हे उचित दाम पर समय रहते फसल में यूरिया चला जाए, यूरिया वितरण के लिए जिलाधीश के निर्देश पर आलोट मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ केंद्र बनाया था, लेकिन वहां पीओएस मशीन 20-22 दिन से बंद पड़ी हुई है, किसान चक्कर लगा रहे थे।
मंगलवार को केंद्र बदलकर ताल रोड विपणन संघ के गोदाम से वितरण कार्य शुरू करवाया गया। रतलाम के दिलीप नगर केंद्र पर पीओएस मशीन में तकनीकि खराबी के चलते भीड़ बढ़ती गई, तो कई नायन गांव के किसान बिरियाखेड़ी स्थित केंद्र पर पहुंचकर यूरिया लेने के लिए भागदौड़ करते रहे, लेकिन शाम 4 बजे वहां भी पीओएस मशीन कागज को रोल खत्म हो गया, केंद्र संचालक द्वारा कल आने के लिए कह दिया। इस पर एक किसान ने कहा मैं रोल लेकर आ जाता हूं, खाद दे दोगे कर्मचारी ने कहा मैं 6 बजे तक यहीं बैठा हूं, रोल ठीक ले कर आ जाओ, खाद मिल जाएगा। वह लेकर आया उसके बाद 10-12 किसानों को और खाद वितरण किया गया।

नायन से दिलीप नगर से बिरियाखेड़ी तक भागदौड़
नायन के अर्जुन मालवीय और नंदकिशोर राठौड ने बताया कि दिलीपनगर में भीड़ थी तो यहां आ गए थे, वहां मशीन बार-बार खराब हो रही थी। यहां आए तो यहां भी मशीन का कागज खत्म हो गया था, एक किसान द्वारा लाकर दिया तक जाक दो-दो बोरी खाद दिया जा रहा है। दो बोरी फिर कल आएंगे तो और मिलेंगी, अगर चार बोरी एक साथ दे देते तो किसानों को डबल चक्कर नहीं लगाना पड़ता, क्योंकि 15 किमी आना और फिर १५ ही जाना चार चक्कर लग जाएंगे। केंद्र पर कई किसान ऐसे भी आए जो पावती किसी और की और आधार अपना लेकर खाद लेने पहुंचे। राठौड़ ने बताया कि सोसायटी में खाता नहीं अन्य बैंकों में इसलिए परेशानी आ रही है, जमीन अधिक है दो-दो बोरी में तो बहुत परेशानी खड़ी हो रही है।

जिले में 2516 मेट्रिक टन का स्टॉक
उपसंचालक कृषि जीएस मोहनिया के अनुसार जिले में 24500 मेट्रिक टन यूरिया का भंडारण था, जिसमें से 22 हजार 6 मेट्रिक टन यूरिया वितरण किया जा चुका है। अभी 2516 में सेंटर, समिति और प्रायवेट में 2516 मेट्रिक टन यूरिया शेष बचा हुआ है। पहले भी रेंक आई थी और आज भी आई है, 200-300 और मिला होगा। 3200 मेट्रिक टन के आसपास की आईपीएल की रेंक लोड हो चुकी है कल शाम तक लग जाएगी।

आलोट केंद्र की पीओएस मशीन 20 से खराब
कलेक्टर द्वारा निर्धारित किए गए मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ केंद्र आलोट पर दूसरे दिन भी यूरिया नहीं बंटा, क्योंकि यहां पर 20-22 दिन से पीओएस मशीन बंद पडी हुई है। इसकी शिकायत के बाद भी आज तक ना तो मशीन सहीं की गई और ना ही खाद वितरण किया गया, किसान केंद्र के चक्कर लगा रहे हैं। केंद्र की लिपीक संदीप उपाध्याय ने बताया कि शासन ने केंद्र बनाया था, लेकिन मशीन खराब है और मशीन के बगैर खाद देना नहीं है इसलिए वितरण नहीं किया गया। 910 बोरी यूरिया के अलावा सभी खाद का स्टॉक है। मंगलवार को हमारे यहां के स्थान पर ताल रोड स्थित विपणन संघ के गोदाम से यूरिया का वितरण कार्य शुरू करवाया गया है। हमारी मशीन बंद पड़ी हुई है कोई ध्यान नहीं दे रहा है, जैसा भी आगे आदेश आएंगा उसी हिसाब से वितरण करेंगे।

व्यवस्था दुरुस्त की जा रही, सेंटर और बढ़ाए जा रहे
दिलीप नगर वितरण केंद्र पर मैं स्वयं गया हंू, किसी के अगुंठे नहीं लग पा रहे थे, मशीन में परेशानी आ रही थी। व्यवस्था दुरुस्त करवाई गई, करीब 20-25 किसान लाईन में होंगे। डीएमओ भी पुराना आदमी है, उन्हे कहा कि नये लड़कों को रखकर काम कराओ। किसी को दो हेक्टेयर जमीन हो तो उसे चार बोरी देने के लिए कहा है। दिलीप नगर में हमारे संयुक्त संचालक कृषि उज्जैन से आए है, उन्होंने भी व्यवस्था देखी। मशीन बार-बार परेशान कर रही थी, पंचनामा बनाया और खड़े करके पर्ची देकर वितरण करवाया। जिसकी पावती है उसी का आधार होना चाहिए, दूसरे की पावती नहीं चलेगी, इसको भी दिखवाया जाएगा। मशीन नेटवर्र्किंग में परेशानी आ रही है। प्रस्ताव तैयार कर रहे हैं, एक-दो दिन में सेंटर और बढ़ा रहे हैं।
जीएस मोहनिया, उपसंचालक कृषि, रतलाम

Gourishankar Jodha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned