Video News: मालवा में अब राजनीतिक उफान, ऐसे बरस रहे नेता

सीएम, पूर्व सीएम के बाद अब ज्योतिरादित्य सिंधिया बाढ़ प्रभावितों के बीच पहुंचे

रतलाम. मालवा के मंदसौर और नीमच में पहले अतिवृष्टि और इसके बाद गांधीसागर के बैकवॉटर की बाढ़ ने हजारों किसानों के खेतों में खड़ी उपज को डूबो दिया तो हजारों लोगों को बेघर कर दिया है। 14-15 सितंबर के बाद से ही मालवा के इन दो जिलों में बाढ़ और अतिवृष्टि प्रभावितों की मदद और उनके जख्मों पर राहत का आश्वासन लगाने सीएम कमलनाथ, पूर्व सीएम शिवराजसिंह चौहान, पूर्व सीएम दिग्विजयसिंह आ चुके है तो मंगलवार को इन जिलों में कांग्रेस के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया भी अपने काफिले के साथ पहुंच गए। राजस्थान के रास्ते सिंधिया का काफिला मध्यप्रदेश में प्रवेश कर चुका है, वे सबसे पहले सीमावर्ती कस्बा नयागांव में रूके और किसानों व प्रभावितों के बीच मंच पर करीब 5 मिनट का भाषण दिया, फिर वे आगे बढ़ गए है।

सीएम कमलनाथ का एक दिन पहले पूर्व सीएम को जवाब
मुझे इस बात दुख है कि प्राकृतिक आपदा में जहां लोग परेशान हो रहे हैं भाजपा नेता भजन कीर्तन कर रहे हैं। दो दिन तक नाटक-नोटंकी चलती रही। पूरी रात धरना, गीत, नाच गाना सब चलता रहा। दूसरों के दु:ख और समस्या पर भाजपा द्वारा राजनीति की जा रही है। मैं रामपुरा भजन कीर्तन करने नहीं लोगों के आंसू पोंछने आया हूं। यह बात मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कही। वे रामपुरा क्षेत्र में बाढ़ पीडि़तों का हाल जानने सोमवार को रामपुरा आए थे। सीएम ने कहा कि हमने केंद्र सरकार से भी राशि की मांग की है, परन्तु मैं विश्वास दिलाता हूं कि वहां से सहायता मिले या न मिले राज्य सरकार किसानों की सहायता में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखेगी। इसके लिए भले की महत्वपूर्ण कार्यों के बजट में कटौती ही क्यों न करना पड़े, उन्होंने शिवराज के बयानों पर जवाब दिया।

sachin trivedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned