VIDEO ढ़ोल बजाकर सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ बना रहे माहोल

VIDEO ढ़ोल बजाकर सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ बना रहे माहोल
Single use is being made against plastic by playing drums

Ashish Pathak | Updated: 13 Oct 2019, 06:06:06 AM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

जनपद क्षेत्र अंतर्गत 97 गांव के स्कूलों से शुरू हुआ अभियान, प्राथमिक स्कूल में बच्चों को अभियान में जागृति के लिए किया शामिल

रतलाम। केंद्र सरकार द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को रोकने के मामले में जागृति लाने के लिए ग्रामीण अंचल में ढ़ोल का उपयोग हो रहा है। रतलाम जनपद में शामिल प्राथमिक स्कूल के बच्चों को रैली में शामिल करके गांव में रहने ग्रामीणों को प्लास्टिक के खिलाफ जागृत किया जा रहा है। राज्य स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम के अंतर्गत जनपद के सभी 97 गांव में इसकी शुरुआत हो गई है। इसमे गांव में प्रति शुक्रवार को ढ़ोल बजाकर रैली निकालकर सड़क पर पडे़ प्लास्टिक को एकत्रित किया जा रहा है।

MUST READ : बकाया: ग्राम पंचायत पर 11 करोड़ से अधिक बिजली बिल बकाया

असल में राज्य स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम के अंतर्गत ग्रामीण अंचल में सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ अभियान चलाने के लिए जागृति करने को कहा गया। इसमे रतलाम जनपद ने 97 गांव के रोजगार सहायक, ग्राम सचिव व ज्ञवच्छताग्राही प्रेरक को बुलाकर पहले बैठक की। इस बैठक में सभी की सहमती ली गई कि वे सप्ताह में एक दिन स्कूली बच्चों को एकत्रित करके गांव में एक सप्ताह में एकत्रित हुए सिंगल यूज प्लास्टिक को साफ करवाएंगे। इसके लिए गांव में जागृति आए इसके लिए माहोल बनाने के लिए ढ़ोल का सहारा लिया जा रहा है।

MUST READ : दिवाली पूजा का बेस्ट मुहूर्त यहां पढे़ं

 Single use is being made against plastic by playing drums

इस तरह हो रहा आयोजन

गांव में हर शुक्रवार को सुबह 9 बजे से लेकर करीब 11 बजे तक रैली निकाली जाती है। इस रैली में स्कूली विद्यार्थी, उनके शिक्षक व साथ में ढ़ोल रहता है। ये शिक्षक व विद्यार्थी मिलकर गांव में सिंगल यूज प्लास्टिक जहां भी दिखता है उसको उठाकर एकत्रित कर रहे है। इसमे प्लास्टिक की पन्नी, बॉटल आदि को लिया जा रहा है। इसके बाद इनको एक स्थान पर रखा जा रहा है। दोपहर में 12 बजे बाद इसको सेक्टर प्रभारी को दे रहे है।

MUST READ : मध्यप्रदेश में तीन माह बाद याद आई शिक्षक की भर्ती

 Single use is being made against plastic by playing drums

जागृति से ही रोक संभव

सिंगल यूज प्लास्टिक के मामले में शहर में तो जागृति है, लेकिन ग्रामीण अंचल में घरों के बच्चों को शामिल करके ही जागृति लाई जा सकती है। पूर्व में मुनादी करवाई जाती थी, अब ढ़ोल बजाकर जागृत किया जा रहा है। इसके अब तक परिणाम बेहतर आए है।

- तपस्या परिहार, सीईओ, रतलाम जनपद

MUST READ : महाबली रावण ने किए थे शरद पूर्णिमा के टोटके, आप भी करें मिलेगा लाभ

भूलकर मत करना यह 7 काम, नाराज होती है महालक्ष्मी

दिवाली पर गणेश पूजन में सूंड का रखे विशेष ध्यान, नहीं तो चली जाती है महालक्ष्मी

भाई दूज : बीमारी रहती है दूर अगर करें भाई दूज को इस तरह पूजा

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned