पति से विवाद के बाद ट्रेन में बैठी थी महिला, तीन साल बाद पहुंची घर, पढे़ं क्या हुआ इस दौरान महिला के साथ

पति से विवाद के बाद ट्रेन में बैठी थी महिला, तीन साल बाद पहुंची घर, पढे़ं क्या हुआ इस दौरान महिला के साथ

By: Ashish Pathak

Updated: 10 Apr 2019, 12:24 PM IST

रतलाम। तीन साल पहले महिला का अपने पति से विवाद हुआ। महिला पति से जमकर नाराज हुई व बहन के घर जाने के लिए ट्रेन में बैठ गई। इसी दौरान किसी ने कुछ सुंघाया व महिला बेहोश हो गई। इसके बाद महिला को अलग-अलग जगह ले जाया गया। मजदूररी करवाई गई। यहां तक की बैचने तक का प्रयास हुआ। इन सब के बीच तीन साल बाद महिला अचानक पहुंची व अपनी साथ हुई घटना को बताया।

तीन साल पहले बिलपांक थाना क्षेत्र के रावदिया गांव से गायब हुई महिला मंगलवार को अचानक जिला पंचायत पहुंच गई। उसने जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमेश मईड़ा से मदद मांगी। बताया कि तीन साल पहले कुछ बदमाश उसका अपहरण कर दिल्ली ले गए। वहां बंधक बनाकर रखा, उसे बेचने की भी कोशिश की, जैसे तैसे वह बदमाशों के चंगुल से छूटकर यहां पहुंची।

बहन के घर जा रही थी
महिला ने पुलिस को बताया कि तीन वर्ष पूर्व उसका पति से विवाद हो गया तो वह जावरा बहन के घर जा रही थी। इस दौरान ट्रेन में बदमाशों ने उसे नशे की दवा सुंघाकर बेहोश कर दिया। बदमाशों उसे दिल्ली ले गए वहां आलापुर स्थित पक्षा गांव में एक कमरे में बंद करे रखा था। वहां पर वह उससे मजदूरी कराते थे। बदमाशों ने एक-दो बार उसे बेचने का प्रयास भी किया गया था लेकिन महिला के विरोध के चलते उनकी साजिश कामयाब नहीं हो पाई।

 

चंगुल से छूटकर दिल्ली स्टेशन पहुंची

महिला ने बताया कि उसे बच्चे की याद आती और तो वह रोती थी, तो आरोपियों ने अपना बच्चा देख-रेख करने के लिए सौंप दिया था। उस बच्चे को भी महिला अपने साथ रतलाम ले आई। महिला ने आरोपियों में एक का नाम विश्राम बताया है। मईड़ा ने बताया कि एक महिला मंगलवार शाम जिला पंचायत कार्यालय पहुंची। वहां किसी से नंबर लेकर फोन किया तो वे वहां महिला से बात की।

पति करता है मईड़ा के भाई के यहां काम

महिला ने बताया कि वह मईड़ा को जानती है उनके भाई के यहां उसका पति काम करता था है। महिला ने पति का नाम बताया, तब जाकर अध्यक्ष ने पूरी बात सुनी और पुलिस को जानकारी दी। महिला ने बताया कि वह बदमाशों के चंगुल से छूटकर दिल्ली स्टेशन पहुंची, वहां पर एक पुलिस ने मदद कर ट्रेन में बैठाकर रतलाम भेज दिया। वह शहर में किसी को नहीं जानती, लेकिन उसे पता था कि गांव के मईड़ा अध्यक्ष हैं, इसी कारण से ऑटो से जिला पंचायत पहुंची। यहां आकर एक कर्मचारी से नंबर लेकर उनके फोन से बात कर अध्यक्ष को बुलाया, और मदद मांगी। पुलिस महिला को अपने साथ थाने ले गई। उसके पति को भी पुलिस ने सूचना दी है।

woman  <a href=crime news in madhya pradesh" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/04/07/crime_1_4406564-m.jpg">
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned