Good News: घर-फ्लैट खरीदने वालों के लिए खुशखबरी, जल्द मिलेगा सपनों का आशियाना

बीते सप्ताह वित्त मंत्रालय ने होम बायर्स को राहत देने के लिए बैंकों, रियल एस्टेट कंपनियों और नीति आयोग के अधिकारियों के साथ बैठक की थी।

By:

Published: 24 Jul 2018, 01:43 PM IST

नई दिल्ली। बड़े-बड़े हाउसिंग प्रोजेक्ट में घर या फ्लैट बुक कराने वालों के लिए एक खुशखबरी आई है। जानकारी के अनुसार, देश के बड़े-बड़े बैंक रुके हुए हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए लोन देने को राजी हो गए हैं। यह लोन इन हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए दिया जाएगा, जिनका निर्माण कार्य 60 से 70 फीसदी पूरा हो गया है। इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, बैंकों ने इन हाउसिंग प्रोजेक्ट पर काम करने से पहले एनबीसीसी या दूसरी सरकारी कंपनियों से प्लान बनाने और उसकी जिम्मेदारी लेने को कहा है।

वित्त मंत्रालय की बैठक में बनी सहमति

रिपोर्ट के अनुसार बीते सप्ताह वित्त मंत्रालय ने बैंकों, रियल एस्टेट कंपनियों और नीति आयोग के अधिकारियों के साथ बैठक कर इस पर चर्चा की थी। इस बैठक का मुख्य मकसद होम बायर्स की समस्याओं का समाधान करना थी। इसमें बैंकों ने रुके हुए प्रोजेक्ट्स को लोन देने की बात कही थी। बैठक के दौरान वित्त मंत्रालय ने एनबीसीसी से एेसे प्रोजेक्ट की लिस्ट बनाने की बात कही है। साथ ही यह जानकारी भी जुटाई जाएगी कि ये प्रोजेक्ट कितनी जमीन पर बने हैं, इनसे कितने ग्राहक जुड़े हैं और इन पर अब तक कितनी राशि खर्च की जा चुकी है। इसके बाद बिल्डर से बात कर बैंकों से लोन लिया जाएगा।

ये है लोन की रिकवरी का प्लान

रिपोर्ट के अनुसार, रुके हुए प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए जो लोन लिया जाएगा, उसकी रिकवरी के लिए कई प्लान बनाए गए हैं। वित्त मंत्रालय के एक प्रस्ताव के अनुसार यदि हाउसिंग प्रोजेक्ट से जुड़ी बिल्डर कंपनी की कोई जमीन खाली पड़ी है तो उसका कॉमर्शियल इस्तेमाल किया जाएगा। इसके अलावा प्रोजेक्ट पूरा होने से पहले और पजेशन देने तक बायर्स से जो वसूली होगी, उस पर बैंकों का हक होगा। उधर, रियल एस्टेट के जानकारों का कहना है कि वित्त मंत्रालय और बैंकों के इस कदम से होम बायर्स को बड़ी राहत मिलेगी।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned