scriptReal estate sector needs relief in stamp duty in interim budget 2019 | बजट में स्टांप शुल्क का कम होगा भार, जनता पर पड़ रही है दोहरी मार | Patrika News

बजट में स्टांप शुल्क का कम होगा भार, जनता पर पड़ रही है दोहरी मार

नोटबंदी के बाद से ही संकट से गुजर रहे रियल एस्टेट क्षेत्र को आगामी बजट से काफी उम्मीदें हैं। सेक्टर की सबसे बड़ी मांग प्रॉपर्टी के सौदों में लगने वाले स्टांप शुल्क में राहत की है।

नई दिल्ली

Updated: January 29, 2019 08:00:14 pm

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से ही संकट से गुजर रहे रियल एस्टेट क्षेत्र को आगामी बजट से काफी उम्मीदें हैं। सेक्टर की सबसे बड़ी मांग प्रॉपर्टी के सौदों में लगने वाले स्टांप शुल्क में राहत की है। बिल्डरों और डेवलपरों का कहना है कि जहां रियल एस्टेट पर सेक्टर वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) और स्टांप शुल्क दोनों ही लागू होते हैं। ऐसे में करों की दोहरी मार इस सेक्टर पर पड़ रही है। इसलिए स्टांप शुल्क में बड़ी कटौती की जाए या फिर अन्य उद्योगों की तरह इसे रियल एस्टेट सेक्टर से हटा दिया जाना चाहिए।

Real estate


रुकी परियोजनाओं के लिए बने 2000 करोड़ का फंड
रीयल्टी कंपनियों के संगठन नारेडको ने केंद्र से आगामी बजट में रियल एस्टेट क्षेत्र की रुकी परियोजनाओं के लिए 2,000 करोड़ रुपए का कोष बनाने की मांग की है। नारेडको ने सरकार को दिए बजट पूर्व ज्ञापन में यह मांग रखी है। संगठन का कहना है कि आइएलएंडएफएस संकट के बाद एनबीएफसी क्षेत्र में नकदी की समस्या और भी गहरा गई है। इसके चलते रियल एस्टेट परियोजनाओं को कर्ज नहीं मिल पा रहा है। उधर 11 सरकारी बैंकों के त्वरित सुधारात्मक कार्रवाई (पीसीए) के दायरे में आने के चलते बैंक भी कर्ज नहीं दे पा रहे हैं। ऐसे में सरकार को रियल एस्टेट नकदी के लिए फंड बनाना चाहिए, ताकि अटकी परियोजनाओं को बढ़ाने में मदद की जा सके।

जीडीपी में 6.7 फीसदी का योगदान
एक रियल एस्टेट कंपनी के प्रमुख का कहना है कि रियल एस्टेट सेक्टर का देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 6.7 फीसदी का योगदान है। यदि सरकार अनुकूल नीतियां बनाए तो अगले पांच साल में यह 13 फीसदी तक पहुंच सकता है। केंद्र सरकार ने 2022 तक सभी के लिए आवास का लक्ष्य रखा है। रियल एस्टेट सेक्टर की हालत सुधार कर ही यह लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है।

रियल एस्टेट की प्रमुख मांगें
- अन्य उद्योगों की तरह रियल एस्टेट क्षेत्र को भी आयकर अधिनियम की धारा 72 ए के दायरे में घाटे के समायोजन की सुविधा दी जाए।
- घर की संपत्ति से नुकसान (डेप्रिशिएशन) के सेट-ऑफ पर प्रतिबंध को हटाया जाए।
- अचल संपत्ति के हस्तांतरण पर भुगतान पर स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस) को खत्म किया जाए।
- रीयल एस्टेट परियोजनाओं के मूल्यांकन के लिए भूमि की लागत की 33 फीसदी की सीमा को खत्म किया जाए, क्योंकि अलग-अलग शहरों में भिन्न होती है। महानगरों में तो यह 80 फीसदी तक चली जाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

मुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...दिल्ली के अशोक विहार के बैंक्वेट हॉल में लगी आग, 10 दमकल मौके पर मौजूदभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगाकर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बनाSwayamvar Mika Di Vohti : सिंगर मीका का जोधपुर में हो रहा स्वयंवर, भाई दिलर मेहंदी व कॉमेडियन कपिल शर्मा सहित कई सितारे आएIPL 2022 MI vs SRH Live Updates : पावर प्ले में हैदराबाद की शानदार शुरुआतहिमाचल प्रदेश: सीएम जयराम ने किया एलान, पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले की जांच करेगी CBIज्ञानवापी मामले में काशी से दिल्ली तक सुनवाई: शिवलिंग की जगह सुरक्षित की जाए, नमाज में कोई बाधा न हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.