Chanakya Niti - ऐसे करें धन की देवी लक्ष्मी को प्रसन्न

Chanakya Niti - आचार्य चाणक्य ने अपने चाणक्य नीति में धन प्राप्ति के बारे में बताया है। इन्हें अपनाने से धन की देवी लक्ष्मी आप पर खुश हो जाएँगी और जीवन में नहीं होगी कभी भी पैसों की तंगी।

Chanakya Niti - आचार्य चाणक्य महान कूटनीतिज्ञ, अर्थशास्त्री और रणनीतिकार थे। इनके द्वारा रचित चाणक्य नीतिशास्त्र आज भी लोगों को प्रेरित करती है। चाणक्य नीति में लिखी बातें न केवल जीवन जीने का सही मार्ग दर्शाती है बल्कि रिश्तों और पैसों को संजो कर रखने के भी तरीके बताती है। आचार्य चाणक्य ने धन की देवी लक्ष्मी को खुश करने के उपाय बताएं हैं जिसका जो भी व्यक्ति पालन करेगा उसपर माँ लक्ष्मी करती हैं धन की वर्षा।

फिजूलखर्ची से बचें
चाणक्य नीति के अनुसार व्‍यक्ति को अपने धन की रक्षा करनी चाहिए। पैसे को भविष्य के लिए बचा कर रखना चाहिए। जो लोग पैसों की इज़्ज़त नहीं करते और फ़िज़ूल में खर्च करते रहते हैं उनके पास कभी धन नहीं टिकता। ऐसे लोग दूसरों के सामने हाथ फैलाने के लिए मजबूर हो जाते हैं। इसलिए व्यक्ति को सोच समझकर खर्च करना चाहिए और फ़िज़ूलख़र्ची से हमेशा बचना चाहिए। ऐसा करने के लिए अपनी इच्छाओं पर रोक लगाना अनिवार्य हो जाता है क्यों कि इच्छाओं का कोई अंत नहीं होता।

इन आदतों से होती हैं लक्ष्‍मी जी नाराज
पैसे की फिजूलखर्ची करने से बचें और बुरे वक्‍त के लिए कुछ पैसा भविष्य के लिए बचाकर रखने की कोशिश करें। ऐसा करने के लिए आचार्य चाणक्‍य कहते हैं कि व्‍यक्ति को उन आदतों से दूर रहना चाहिए जो देवी लक्ष्‍मी को नापसंद हैं। चाणक्य नीति के मुताबिक दूसरों का बुरा करने या उन्‍हें नुकसान पहुंचाने के लिए कभी भी पैसे का इस्‍तेमाल न करें। इससे लक्ष्‍मी जी नाराज हो जाती हैं। ऐसे लोगों के पास लक्ष्‍मी जी नहीं ठहरती हैं।

वहीं झूठ बोलकर या धोखेबाजी से पाया गया पैसा कुछ समय बाद व्‍यर्थ चला जाता है। ऐसा करने से मेहनत-ईमानदारी से कमाया गया पैसा भी बर्बादी की भेंट चढ़ जाता है। इसलिए कभी भी बेईमानी से पैसा न कमाएं। कमाई का कम से कम एक हिस्‍सा दान करने की कोशिश करें, ऐसा करने से लक्ष्मी जी प्रसन्न होकर धन बरसाती हैं।

Sandhya Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned